ENGLISH HINDI Tuesday, February 25, 2020
Follow us on
 
ताज़ा ख़बरें
होलाष्टक रहेगा 3 मार्च से 9 मार्च तक, जानिए क्यों नहीं करते इसमें शुभ कार्य ?टीचर्स ने एग्जाम में नहीं दी ड्यूटी, अब बोर्ड ने बच्चों को जारी नहीं किए रोलनंबर: कुलभूषण शर्माफाइल पर देरी के लिए संबधित अधिकारी की जिम्मेदारी सुनिश्चित की जाएअखिल भारतीय पुलिस कुश्ती प्रतियोगिता में भाग लेने पहुंचे देशभर से खिलाड़ीपूर्व CIC हबीब उल्लाह ने सुप्रीम कोर्ट में कहा, शाहीन बाग शांतिपूर्ण सभा का संगमदृष्टि पंजाब ने 23 विद्यार्थी किए 11.50 लाख के अवार्ड से सम्मानितसोलन की पूर्व विधायक मेजर कृष्णा मोहिनी का निधन मूलभूत सुविधाएं न मिलने को लेकर शिवालिक निवासियों ने खोला कॉलोनाइजर के खिलाफ मोर्चा
राष्ट्रीय

कूड़ा मुक्त, कुरीति मुक्त भारत बने

October 15, 2019 09:06 PM

ऋषिकेश, ओम रातुड़ी: परमार्थ निकेतन में गांधीवादी दर्शन पर आयोजित कार्यशाला में आये साबरमती आश्रम के व्यवस्थापक जयेश भाई के नेतृत्व में साबरमती आश्रम से आये गांधीवादी कार्यकर्ता और छात्रों ने प्रस्थान किया।
स्वामी चिदानन्द सरस्वती, साबरमती आश्रम के व्यवस्थापक जयेश भाई, देवेन्द्र भाई, गंगा नन्दिनी, गांधी आश्रम अहमदाबाद के छात्र और कार्यकर्ता, परमार्थ गुरूकुल के ऋषिकुमारों ने वृहद स्तर पर स्वच्छता अभियान चलाया। जयेश भाई ने स्वामी चिदानन्द सरस्वती महाराज को झाडू भेंट किया।
स्वामी चिदानन्द सरस्वती ने कहा कि अब एक कदम स्वच्छता की ओर नहीं बल्कि हर कदम स्वच्छता की ओर। स्वच्छता के लिये हर एक को लगना होगा हर एक को जुड़ना होगा। उन्होने कहा कि सफाई का काम हर एक का काम, हर घर का काम, हर गांव का काम और हम सब का काम है। स्वामी जी ने कहा कि सभी के प्रयासों और संकल्पों के बाद अभी भी बहुत सारी जगहों पर गंदगी दिखायी देती है, कूड़े के ढ़ेर लगे हुये हैं। मुझे लगता है अब कूड़ा मुक्त भारत बने; गार्बेज फ्री इण्डिया बने। कूड़ा मुक्त भारत और कुरीति मुक्त भारत बने। यह सब से बड़ी कुरीति है कि हम किसी को छोटा किसी को बड़ा समझें; किसी को ऊँच किसी को नीच समझें। उन्होने कहा कि हम सब बराबर है, सब एक है और भारत माता की संतान है। आईये बिना भेदभाव किये भारतमाता की सेवा करे।
स्वामी जी ने कहा कि गांधी दर्शन स्वच्छता के बिना अधूरा है। गांधी जी ने दक्षिण अफ्रीका में साफ-सफाई और स्वच्छता के लिये प्रण कर अपना शौचालय खुद साफ करने का निर्णय लिया था। भारत के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में केन्द्र और राज्य सरकारों के मध्य समन्वय से स्वच्छ भारत मिशन और स्वच्छता की कार्यप्रणाली में व्यवहारिक परिवर्तन हुआ है और स्वच्छ भारत मिशन श्रेष्ठ दिशा की ओर अग्रसर हो रहा है परन्तु इसमें प्रत्येक व्यक्ति की सहभागिता की जरूरत है। स्वामी जी ने कहा कि स्वच्छता के प्रति उदासीनता को छोड़कर स्वच्छता के उच्च मापदंड़ों को अपनाने का समय है आईये स्वच्छता को स्वीकार करें और उसे अंगीकार करे।
स्वामी चिदानन्द सरस्वती जी महाराज ने झाडू उठाकर सभी को स्वच्छ, स्वस्थ और समृद्ध भारत बनाने का संकल्प कराया।

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
 
और राष्ट्रीय ख़बरें
पूर्व CIC हबीब उल्लाह ने सुप्रीम कोर्ट में कहा, शाहीन बाग शांतिपूर्ण सभा का संगम एक भारत—श्रेष्ठ भारत पर चित्र प्रदर्शनी मनसा देवी मंदिर परिसर में आयोजित दिल्ली के स्कूलों में रोबोट पढ़ायेंगे बच्चों को स्वच्छता का पाठ अंतर्राष्ट्रीय राजनीति का कुत्सित रूप कोरोना वायरस हिन्दू महासभा और हिन्दू संगठनों के लिए फ़िल्म द हंड्रेड बक्स की होगी स्पेशल स्क्रीनिंग फ़िल्म 'द हंड्रेड बक्स' की होगी स्पेशल स्क्रीनिंग आनुवांशिक सुधार व निवेश लागत घटाकर दुग्ध उत्पादन में वृद्धि के प्रयास भारत में फिल्मांकन को बढ़ावे के लिए प्रतिनिधिमंडल बर्लिलेन में हिस्‍सा लेगा रक्षा अध्ययन एवं विश्लेषण संस्थान का नाम बदलकर मनोहर पर्रिकर रक्षा अध्ययन एवं विश्लेषण संस्थान किया यूटी जम्मू एंड कश्मीर स्मार्ट स्कूल स्थापित करने के लिए सबसे बेहतर स्थान