ENGLISH HINDI Thursday, November 21, 2019
Follow us on
 
ताज़ा ख़बरें
इंस्पेक्टर गुरवंत सिंह ने जीरकपुर में एसएचओ का कार्यभार संभालाज़मीन पर कब्ज़ा करने और चौकीदार की मारपीट करने के आरोप में बिल्डर और कांग्रेसी नेता के ख़िलाफ़ केस दर्ज महिला आईटीआई स्टूडेंट्स को बांटे प्रमाण-पत्रफेरे से पहले दूल्हे की सड़क हादसे में मौत, शादी की तैयारी के सिलसिले में गया था नजदीकी गांवचण्डीगढ़ भाजपा को जल्द मिलेगा नया अध्यक्षपुलिस फोर्स तथा मोबाइल फौरेसिंग युनिट को आधुनिक उपकरणों से लैस किया जाएगा: अनिल विज पूर्व प्रधानमंत्री श्रीमति इंदिरा गांधी की 102वी जयन्ती पर श्रद्धासुमन अर्पितदादागिरी पर उतरे ओकेशन मैरिज पैलेस के संचालक,पुलिसकर्मियों व शिकायतकर्ता से मारपीट, 35 पर कटा पर्चा
चंडीगढ़

सीआईआई फेयर में उत्तराखंड की स्टॉल

October 19, 2019 07:07 PM

चंडीगढ, फेस2न्यूज:
शहर के परेड ग्राउंड में आयोजित किए जा रहे सीआईआई चंडीगढ़ फेयर 2019 में उत्तराखंड की स्टॉल को आगंतुकों से बहुत अच्छी प्रतिक्रिया मिल रही है। मेले में एक प्रमुख आकर्षण उत्तराखंड सरकार द्वारा स्थापित किया गया स्टाल है। उत्तराखंड की एक संस्था ओरा इनफिनि स्वदेशी उत्पादों को बढ़ावा देने के लिए स्वेच्छा से काम करने वाली 300 महिलाओं द्वारा संचालित संस्था है जिसने दुनिया के लिए एक अद्भुत उदाहरण स्थापित किया है।
जिसने कहा गया है कि उसमें सृजन, पोषण और परिवर्तन करने की शक्ति है। ओरा इनफिनि सब ठीक है का पर्याय है जिससे महिलाओं को एहसास होता है कि वे किसी से कम नहीं हैं। उनके द्वारा तैयार की गई विभिन्न प्रकार की एलईडी लाइट्स 100 प्रतिशत भारतीय हैं। ये एलईडी बाजार में मौजूद एलईडी के मुकाबले बेहतर हैं। उनकी ओर से कहा गया कि उनकी एलईडी भले ही कुछ मंहगी हैं लेकिन अत्यधिक टिकाऊ और दोबारा इस्तेमाल की जा सकने वाली हैं। ये लाइटें आसानी से गर्म नहीं होती हैं और निरंतर उपयोग के बाद भी गर्म नहीं होती। प्रदर्शक ने कहा कि हम अपने उत्पादों के निर्माण में मशीनों का उपयोग कम से कम करते हैं। ये महिलाएँ जेल के कैदियों, बाल सुधार गृहों व नारी निकेतन की महिलाओं को भी प्रशिक्षण देती हैं।
उन्हें पीएमईजीपी योजना के तहत उत्तराखंड सरकार द्वारा समर्थित किया जा रहा है। उत्तराखंड राज्य की प्राचीन सुंदरता कोई रहस्य नहीं है, लेकिन हथकरघा और हस्तकला लेखों में राज्य के कारीगरों की उत्कृष्ट शिल्प कौशल केबारे में लोग कम जानते हैं। मेले में उत्तराखंड का पारंपरिक ऊनी कोट भी उपलब्ध है। कोट की खासियत यह है कि यह भेड़ के ऊन मैरिनो से बना है जिसकी आगंतुकों के बीच भारी मांग है। इसके ऊनी शॉल, स्वेटर, जैकेट, मफलर आदि पुरुष और महिला दोनो खरीददारों के लिए उपलब्ध हैं जिनकी रेंज कीमत 900 रुपये से 15,000 रुपये के बीच है।
बच्चों के लिए उत्तराखंड के पारंपरिक हस्तकला वाले कुर्तियां और पोशाक मेले में सबके द्वारा पसंद किए गए। विभाग ने प्राकृतिक अनाज, दालें, गेहूं का आटा, अनाज, मसाले, खाद्य तेल, जड़ी बूटियों और यहां तक कि जैविक चाय की विभिन्न किस्मों को पेश किया है। मेले के दूसरे ही दिन लगभग सारा स्टॉक बिक चुका है। पर्यटक पहाड़ी राज्य में उगाई जाने वाली जैविक दालों और सब्जियों को पसंद कर रहे हैं। लोग अपने स्वास्थ्य लाभों को देखते हुए जैविक खाद्य पदार्थों के प्रति अधिक झुकाव रखने लगे हैं। उत्तराखंड के स्टाल पर एक प्रतिनिधि ने कहा कि हम सीआईआई चंडीगढ़ फेयर में इस तरह की प्रतिक्रिया से बेहद खुश और उत्साहजनक है।

 

राजस्थान - रेगिस्तानोंऊँटों और रंगों की भूमि

 

एक अन्य मुख्य आकर्षण जयपुर से प्राचीन नीली मिट्टी के बर्तनों की एक उत्तम श्रेणी रहा जो हाथ से बनाया गया है और अपने रंग और चमक के लिए विश्व प्रसिद्ध है। 50 रुपये से 600 रुपये के बीच की कीमत वाले दीयों, लालटेन, वॉल हैंगिंग, बाथरूम सेट और सजावटी सामानों की एक विस्तृत श्रृंखला का भी प्रदर्शन किया जा रहा है। 250 से 300 रुपये के मामूली मूल्य के बीच लालटेन और दीये दिवाली की खरीददारी के लिए सबसे उपयुक्त हैं। 

 

राजस्थान से कला और हस्तशिल्प कुछ बहुत ही कलात्मक आरती थालियों के अलावा सुंदर कान के छल्ले, कटलरी, पेन-स्टैंड, संगमरमर की मूर्तियां, नमक और काली मिर्च के डिस्पेंसर ने भी सभी को आकर्षित किया। अचार, पापड़, सेवइयाँ और कुछ मिठाइयां जैसे कि गजक और मोंगरा पर्यटकों को लुभा रहे हैं। वाटरप्रूफ डोरमैट्रेस तथा जयपुरी जुती जैसे कई अन्य सामान भी हिट रहे। 


कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
 
और चंडीगढ़ ख़बरें
चण्डीगढ़ भाजपा को जल्द मिलेगा नया अध्यक्ष पूर्व प्रधानमंत्री श्रीमति इंदिरा गांधी की 102वी जयन्ती पर श्रद्धासुमन अर्पित प्रिंस बंदुला के प्रधानमंत्री जन औषधि केंद्र की शुरुआत, संजय टंडन ने किया उद्घाटन पंडित यशोदा नंदन ज्योतिष अनुसंधान केंद्र एवं चेरिटेबल ट्रस्ट (कोटकपूरा ) ने वार्षिक माता का लंगर लगाया गुणवत्तायुक्त शिक्षा के साथ संस्कारों का समावेश जरूरी : राजेंद्र राणा सन्यासी ही समाज को दिशा दे सकते हैं :आयुषी अयोध्या राम मंदिर फैसला: राष्ट्रीय हिन्दू शक्ति संगठन ने सुप्रीम कोर्ट फैसले का किया स्वागत चिल्ड्रेंस डे: एनजीओ द लास्ट बेंचर्स ने स्टूडेंट्स को किया सम्मानित अमृत कैंसर फाउंडेशन और एनजीओ-द लास्ट बेंचर्स और एजी ऑडिट पंजाब ने महिला स्टाफ़ के लिए लगाया कैंसर अवेयरनेस एंड डिटेक्शन कैम्प कैन बायोसिस ने पराली से होने वाले प्रदुषण के समाधान के लिए पेश किया स्पीड कम्पोस्ट