ENGLISH HINDI Saturday, February 22, 2020
Follow us on
 
ताज़ा ख़बरें
जेलों में सी.सी.टी.वी. कैमरे, करंट वाली तार लगाने व अलग ख़ुफिय़ा विंग सहित कई फ़ैसलों की मंजूरीअंतर्राष्ट्रीय राजनीति का कुत्सित रूप कोरोना वायरससरकारी संस्थानों के साईन बोर्ड, सडक़ों के मील पत्थर पंजाबी में लिखे जाना अनिवार्य: बाजवाआपातकालीन रोगियों के लिए मार्ग उपलब्ध करवाने के लिए स्वीकृतिरिपब्लिकन पार्टी ऑफ़ इंडिया (अठावले) ने दूध के पैकेट बांट कर मनाया महा शिवरात्रि का पर्वकैंम्बवाला गौशाला में गौभक्तों ने महाशिवरात्रि पर किया शिवपूजन महाशिवरात्रि पर्व: शिव खेड़ा मंदिर में लगा शिव भक्तों का तांतासेक्टर 24 मार्किट वेलफेयर एसोसिएशन ने लगाया लंगर प्रसाद: चना-पूरी और खीर का भोले भक्तों में बांटा प्रसाद
राष्ट्रीय

संसद भवन व एकीकृत केन्द्रीय सचिवालय के पुर्ननिर्माण के लिए सख्‍त समय सीमा तय

October 25, 2019 09:26 PM

नई दिल्ली, फेस2न्यूज:
संसद भवन तथा एकीकृत केन्‍द्रीय सचिवालय के पुन निर्माण और सेंट्रल विस्‍टा के पुर्नविकास के लिए सख्‍त समय सीमा तय कर दी गई है। लोकनिर्माण विभाग को जहां सेंट्र‍ल‍ विस्‍टा परियोजना को का काम नवंबर 2021 तक पूरा करने के लिए कहा गया है वहीं नए संसद भवन का निर्माण मार्च 2022 तक तथा एकीकृत केन्‍द्रीय सचिवालय का काम मार्च 2024 तक पूरा होना है।
सरकार ने इस योजना के लिए परामर्श सेवा का ठेका मेसर्स एचसीपी डिजाइन, प्‍लानिंग एंड मैनेजमेंट प्राइवेट लिमिटेड को दिया है। कंपनी को केन्‍द्र द्वारा तय नियमों और जरूरतों के अनुरूप यह काम तय समय में पूरा करना है।
नये मास्‍टर प्‍लान के तहत रायसीना हिल्‍स पर स्थित पुराने सरकारी भवनों के साथ ही संसद और सचिवालय को नया रूप देकर सांसदों के लिए आवश्‍यकता अनुसार पर्याप्‍त जगह की व्‍यवस्‍था की जाएगी। इस काम के लिए एक विश्‍वस्‍तरीय सलाहकार सेवा की जरूरत थी लिहाजा सरकार ने इसके लिए कंपनियों के चयन की प्रक्रिया शुरु कर दी थी। केन्‍द्रीय लो‍कनिर्माण विभाग ने इस दिन कंपनियों से निविदा आमंत्रित की थी। निविदा के लिए क्‍यूसीबी (80:20) प्रक्रिया का अनुकरण किया गया। परामर्श सेवा के लिए 229.75 करोड़ रूपए की राशि निर्धारित की गई। शुरूआती अहर्ताओं और तकनीकी मानकों की जांच के बाद सभी बोलीकर्ताओं से अपनी निविदा अपनी निविदाएं एक ज्यूरी के समकक्ष रखने को कहा गया। इस ज्यूरी में स्कूल ऑफ प्लानिंग एंड आर्किटेक्‍चर (एसपीए) के अध्‍यक्ष प्रोफेसर पीएसएन राव की अध्‍यक्षता में जाने माने लैंडस्‍केप डिजाइनर और आर्किटेक्‍ट शामिल थे। आखिर में अंतिम बोली प्रक्रिया में हिस्‍सा लेने के लिए चार बोलीकर्ताओं का चयन किया गया। अंतिम बोली प्रक्रिया 12 अक्‍टूबर 2019 को संपन्‍न हुई और आखिर में परामर्श सेवा का ठेका मेसर्स एचसीपी डिजाइन,प्‍लानिंग एंड मैनेजमेंट प्राइवेट लिमिटेड को दे दिया गया। यह देश की अग्रणी आर्किटेक्‍ट कंपनी है जिसे गांधीनगर में सचिवालय भवन,अहमदाबाद में साबरमती नदी के आसपास के क्षेत्र को पुर्नविकसित करने, मुबंई बदरगाह परिसर विकास, वाराणसी में मंदिर परिसर पुर्नविकास और अहमदाबाद में आईआईएम का नया परिसर बनाने के अलावा कई ऐसी परियोजनाओं का खासा अनुभव है। इस कंपनी ने देश के बाहर भी कई बड़ी परियोजनाओं पर काम किया है। मास्‍टर प्‍लान को अंतिम रूप देने के बाद केन्‍द्रीय लोकनिर्माण विभाग आगे निर्माण कार्यों का ठेका सक्षम कंपनियों को देगा।
रायसीना हिल्‍स पर स्थित सरकारी भवनों का निर्माण 1911 से 1931 के बीच हुआ था। इनकी डिजाइनिंग जाने माने विदेशी वास्‍तुकार सर एडविन लुटिनय और सर हरबर्ट बेकर ने तैयार की थी। संसद भवन भी इन्‍हीं दिनों बना था। इसके साथ ही राजपथ के दोनों और स्थिति कई सरकारी भवनों का निर्माण विभिन्‍न सरकारी कार्यालयों के लिए किया गया। सेंट्रल विस्‍टा के तहत राष्‍ट्रपति भवन से लेकर इंडिया गेट तक का क्षेत्र आता है। सौ वर्ष से भी ज्‍यादा पहले बनायी गयी इन इमारतों की जरुरत अब समय के साथ काफी बदल गई है। इनमें नए दौर के हिसाब से जरुरी सुविधाएं और पर्याप्‍त जगह नहीं रह गई है इसलिए इनको नया रूप देना जरूरी हो गया है।

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
 
और राष्ट्रीय ख़बरें
अंतर्राष्ट्रीय राजनीति का कुत्सित रूप कोरोना वायरस हिन्दू महासभा और हिन्दू संगठनों के लिए फ़िल्म द हंड्रेड बक्स की होगी स्पेशल स्क्रीनिंग फ़िल्म 'द हंड्रेड बक्स' की होगी स्पेशल स्क्रीनिंग आनुवांशिक सुधार व निवेश लागत घटाकर दुग्ध उत्पादन में वृद्धि के प्रयास भारत में फिल्मांकन को बढ़ावे के लिए प्रतिनिधिमंडल बर्लिलेन में हिस्‍सा लेगा रक्षा अध्ययन एवं विश्लेषण संस्थान का नाम बदलकर मनोहर पर्रिकर रक्षा अध्ययन एवं विश्लेषण संस्थान किया यूटी जम्मू एंड कश्मीर स्मार्ट स्कूल स्थापित करने के लिए सबसे बेहतर स्थान जम्मू एंड कश्मीर इनवेस्टर्स समिट 2020 रोडशो बैंगलुरू से हुआ आरंभ राष्ट्रपति ने दादरा, नगर हवेली तथा दमन और दीव की विकास परियोजनाओं का शिलान्‍यास किया गैर मुस्लिम लोगों के साथ होती जादती से निजात दिलाता है सीएए: इंद्रेश कुमार