ENGLISH HINDI Thursday, July 09, 2020
Follow us on
 
धर्म

स्नेह समाप्त हो गया है सिर्फ स्वार्थ रह गया: आशा दीदी

October 29, 2019 05:54 PM

भिलाई नगर, फेस2न्यूज:
प्रजापिता ब्रह्माकुमारी ईश्वरीय विश्व विद्यालय द्वारा सेक्टर-7 स्थित पीस ऑडिटोरियम में दीपावली पर्व बडे ही हर्षोल्लास के साथ मनाया गया। जिसमें भिलाई सेवा केन्द्रों की निदेशिका ब्रह्माकुमारी आशा दीदी ने दीपावली पर्व की विशेषता बताते हुए कहा कि माँ लक्ष्मी के समान हमें भी अखुट खजानों अर्थात सर्व के प्रति शुभ भावनाओं से सम्पन्न बनना है। सबकी चाहना है कि हमारा धन बढ जाये। वर्तमान समय में स्नेह समाप्त हो गया है सिर्फ स्वार्थ रह गया है। ईष्र्या, द्वेष को छोडकर वाणी एवं कर्म से शुभ भावनाएं देते रहना है। दिवाली अर्थात खुशियाँ मनाते रहना और सदा खुश रहना। जिसे की सतयुग के श्री लक्ष्मी नारायण के आगमन और राज्य अभिषेक को सुंदर नृत्य नाटिका द्वारा दिखाया गया। कालचक्र द्वारा निकट भविष्य में श्री लक्ष्मी नारायण का दैविय राज्य आ रहा है इसके लिए हमें अपने पुराने संस्कारों और आदतों के खाते को समाप्त कर नए दैवीय संस्कारों को अपनाना है। पुराने संस्कार जिन्हे हम गठरी बांध कर रखे है उसे दृढ संकल्प से समाप्त करना है।
दिवाली में घर के हर एक कोने-कोने की सफाई करते है इसके साथ ही हमें अपने मन की भी कोने-कोने की सफाई जरूर करनी है। स्वच्छता मन की तन की शहर की देश की तभी धरा पर सतयुग का आगमन होगा।

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
 
और धर्म ख़बरें
स्वयं को सशक्त कर बाह्य परिस्थितयों पर कर सकते है विजय प्राप्त कोरोना से बचाव का फार्मूला: जलाभिषेक करना है तो लोटा घर से लाना होगा चंडीगढ़ के मंदिर दिखे सुनसान ..... संत निरंकारी मिशन ने संभाली जरूरतमंदों को घर बैठे राशन सामग्री पहुंचाने की कमान विशाल साईं भजन संध्या का आयोजन कैंम्बवाला गौशाला में गौभक्तों ने महाशिवरात्रि पर किया शिवपूजन महाशिवरात्रि पर्व: शिव खेड़ा मंदिर में लगा शिव भक्तों का तांता सेक्टर 24 मार्किट वेलफेयर एसोसिएशन ने लगाया लंगर प्रसाद: चना-पूरी और खीर का भोले भक्तों में बांटा प्रसाद महाशिवरात्रि पर्व: लक्ष्य ज्योतिष संस्थान ने लगाया लंगर: 24 प्रकार के व्यंजन शिव भक्तों में प्रसाद स्वरूप किये वितरित श्रीसालासर बालाजी परिवार की मूर्तियो का विधिवत रूप से श्री सनातन धर्म मंदिर सेक्टर-32 में प्राण प्रतिष्ठा कर स्थापित की गई