ENGLISH HINDI Tuesday, February 25, 2020
Follow us on
 
ताज़ा ख़बरें
होलाष्टक रहेगा 3 मार्च से 9 मार्च तक, जानिए क्यों नहीं करते इसमें शुभ कार्य ?टीचर्स ने एग्जाम में नहीं दी ड्यूटी, अब बोर्ड ने बच्चों को जारी नहीं किए रोलनंबर: कुलभूषण शर्माफाइल पर देरी के लिए संबधित अधिकारी की जिम्मेदारी सुनिश्चित की जाएअखिल भारतीय पुलिस कुश्ती प्रतियोगिता में भाग लेने पहुंचे देशभर से खिलाड़ीपूर्व CIC हबीब उल्लाह ने सुप्रीम कोर्ट में कहा, शाहीन बाग शांतिपूर्ण सभा का संगमदृष्टि पंजाब ने 23 विद्यार्थी किए 11.50 लाख के अवार्ड से सम्मानितसोलन की पूर्व विधायक मेजर कृष्णा मोहिनी का निधन मूलभूत सुविधाएं न मिलने को लेकर शिवालिक निवासियों ने खोला कॉलोनाइजर के खिलाफ मोर्चा
राष्ट्रीय

अनेक देशों से आये श्रद्धालुओं को संस्कारों व संस्कृति से कराया परिचित

October 29, 2019 09:00 PM

ऋषिकेश, ओम रातुड़ी: परमार्थ निकेतन में भारत सहित विश्व के अनेक देशों से आये श्रद्धालुओं संग भाईदूज का पर्व मनाया। विश्व के अनेक देश ब्राजील, अमेरिका, जर्मनी, लन्दन, रूस कनाण, अफ्रीका आदि देशों से आयी बहनों और भाईयों ने परमार्थ गुरूकुल के ऋषिकुमार भाईयों को तिलक लगाकर ईश्वर से उनकी खुशहाली की कामना की। भाईदूज का पर्व भाई-बहन के प्रति स्नेह की अभिव्यक्ति का पर्व है इसे यम द्वितीया या भ्रातृ द्वितीया भी कहा जाता है।
वेद मंत्रों के उच्चारण के साथ परमार्थ निकेतन के परमाध्यक्ष स्वामी चिदानन्द सरस्वती जी महाराज को तिलक कर आशीर्वाद लिया और फिर भाईदूज के कार्यक्रम का शुभारम्भ किया। सभी ऋषिकुमारों को लड्डू खिलाकर रिश्तों की मिठास का महत्व समझाया।
भाईदूज के पावन अवसर पर जीवा की अन्तर्राष्ट्रीय महासचिव साध्वी भगवती सरस्वती जी ने आर्गेनिक इण्डिया के प्रमुख श्री भरत मित्रा को तिलक लगाकर उनका अभिनन्दन किया।
स्वामी चिदानन्द सरस्वती महाराज ने भाईदूज पर्व के बारे में बताते हुये कहा कि कार्तिक शुल्क द्वितीया को यमुना जी ने भगवान यमराज को तिलक लगाकर अपने घर पर सत्कारपूर्वक भोजन कराया था उस दिन से यह उत्सव मनाया जाता है। महा पुराण में इसका उल्लेख मिलता है। भाईदूज, भाई-बहन के पवित्र प्रेम, स्नेह, और समर्पण का पर्व है। इस पर्व पर बहनें अपने भाईयों को तिलक लगाकर उनकी खुशहाली की कामना करती है और भाई, बहनों को उनकी रक्षा का आश्वासन देते है वास्तव में अटूट रिश्ता है यह और अद्भुत संदेश देता है यह पर्व।
स्वामी जी ने कहा कि हमारे पर्व हमें आपसी प्रेम और समर्पण का अद्भुत संदेश देते है। इसी तरह का प्रेम और समर्पण अपनी प्रकृति और पर्यावरण के साथ हो तो हम उन्हें प्रदूषण से मुक्त रख सकते हैं। उन्होने कहा कि पेड़-पौधे हमें जीवनदायिनी आॅक्सीजन प्रदान करते हैं, उनसे हमें प्रेम का रिश्ता बनायें रखना होगा तभी हम अपना और अपनी आने वाली पीढ़ियों का जीवन सुरक्षित रख सकते हैं।
स्वामी जी ने सभी श्रद्धालुओं को एकल उपयोग प्लास्टिक का उपयोग न करने तथा पेड़ों के पहरेदार बनने का संकल्प कराया। स्वामी जी ने कहा कि पर्वों के माध्यम से हम अपने संस्कारों और संस्कृति से जुड़े रहते हैं। भाईदूज, भाई-बहन के रिश्तें में समर्पण के साथ नव ऊर्जा का संचार कराता है।
भाईदूज के कार्यक्रम के अवसर पर परमार्थ निकेतन में उत्सव का वातावरण था कई विदेशी श्रद्धालुओं ने भाईदूज पर्व को पहली बार मनाया है। स्वामी जी से इस पर्व के विषय में जानकर अति प्रसन्नता व्यक्त की और कहा कि भारतीय संस्कृति अद्भुत है।

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
 
और राष्ट्रीय ख़बरें
पूर्व CIC हबीब उल्लाह ने सुप्रीम कोर्ट में कहा, शाहीन बाग शांतिपूर्ण सभा का संगम एक भारत—श्रेष्ठ भारत पर चित्र प्रदर्शनी मनसा देवी मंदिर परिसर में आयोजित दिल्ली के स्कूलों में रोबोट पढ़ायेंगे बच्चों को स्वच्छता का पाठ अंतर्राष्ट्रीय राजनीति का कुत्सित रूप कोरोना वायरस हिन्दू महासभा और हिन्दू संगठनों के लिए फ़िल्म द हंड्रेड बक्स की होगी स्पेशल स्क्रीनिंग फ़िल्म 'द हंड्रेड बक्स' की होगी स्पेशल स्क्रीनिंग आनुवांशिक सुधार व निवेश लागत घटाकर दुग्ध उत्पादन में वृद्धि के प्रयास भारत में फिल्मांकन को बढ़ावे के लिए प्रतिनिधिमंडल बर्लिलेन में हिस्‍सा लेगा रक्षा अध्ययन एवं विश्लेषण संस्थान का नाम बदलकर मनोहर पर्रिकर रक्षा अध्ययन एवं विश्लेषण संस्थान किया यूटी जम्मू एंड कश्मीर स्मार्ट स्कूल स्थापित करने के लिए सबसे बेहतर स्थान