ENGLISH HINDI Tuesday, May 26, 2020
Follow us on
 
राष्ट्रीय

बच्चे की किडनी के कैंसर की रोबोटिक सर्जरी करने में सफलता हासिल

October 31, 2019 11:38 AM

ऋषिकेश, रातुड़ी:
अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान एम्स ऋषिकेश में बाल शल्य चिकित्सा विभाग ने एक चार वर्षीय बच्चे की किडनी के कैंसर की रोबोटिक सर्जरी करने में सफलता प्राप्त की है। संस्थान के निदेशक पद्मश्री प्रोफेसर रवि कांत ने चिकित्सकीय टीम की इस सफलता के लिए सराहना की और उन्हें बधाई दी है। उन्होंने बताया कि संस्थान के बाल शल्य चिकित्सा विभाग द्वारा बीते करीब एक वर्ष से रोबोटिक सर्जरी की मदद से काफी संख्या में सफल ऑपरेशन किए जा चुके हैं। प्रो. कांत ने बताया एम्स संस्थान में मरीजों को वर्ल्ड क्लास स्वास्थ्य सेवाएं मुहैया कराई जा रही हैं, साथ ही साथ स्वास्थ्य सेवाओं का सतत विस्तारीकरण किया जा रहा है,जिससे उत्तराखंड व समीपवर्ती राज्यों के मरीजों को किसी भी तरह के उपचार के लिए राज्य से बाहर नहीं जाना पड़े। निदेशक ने बताया कि मुजफ्फरनगर निवासी परिजन चार साल के बच्चे के बाईं किडनी के कैंसर के उपचार के लिए एम्स पहुंचे। विभागीय सह आचार्य डा. रजत पिपलानी ने सभी तरह के परीक्षण के बाद उन्हें बताया कि किडनी के इस कैंसर को विलम्स ट्यूमर के नाम से जाना जाता है, जिसमें सर्जरी करने से पहले कुछ हफ्ते मरीज को कैंसर की दवा दी जाती है। इसके बाद ऑपरेशन से उस गुर्दे को निकाला जाता है। उन्होंने बताया कि अधिकांश मामलों में यह ऑपरेशन चीरा लगाकर किया जाता है। डा. रजत पिपलानी के अनुसार उन्होंने बच्चे के परिजनों को रोबोटिक सर्जरी द्वारा ऑपरेशन करने के बाबत अवगत कराया, इसके बाद परिजनों की सहमति लेने पर चार वर्षीय बच्चे की सफलतापूर्वक रोबोटिक सर्जरी की गई। इसके बाद अब बच्चे की दोबारा अगले कुछ महीनों की दवा मेडिकल ओंकोलॉजी विभाग के डा. अमित सहरावत की देखरेख में चलाई जा रही है।

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
 
और राष्ट्रीय ख़बरें
एम्स ऋषिकेश में कोविड पॉजिटिव चार अन्य मामले सामने आए एम्स ऋषिकेश में कोविड पॉजिटिव के पांच नए मामले सामने आए उत्तराखंड में कोरोना संक्रमित लोगों का आंकड़ा 317 पहुंचा, सभी 13 जिले ऑरेंज जोन में चक्रवाती तूफान ‘अम्फान’ के बाद बंगाल में एनडीआरएफ की 10 अतिरिक्त टीमें तैनात की गई "जैव विविधता भारतीय संस्कृति का अनिवार्य हिस्सा है": शेखावत कोविड—19 परीक्षण में 9 पॉजिटिव जीवन चलाने के लिए जीवन को ही दांव पर लगा दिया गया कोरोना संकट में आर्थिक मंदी से झूझ रहा भारतीय फिल्म जगत: प्रधानमंत्री और मुख्यमंत्रियों से सहयोग की गुहार भारत के स्वास्थ्य मंत्री डा. हर्षवर्धन बने विश्व स्वास्थ्य संगठन के कार्यकारी बोर्ड के चेयरमैन आत्मनिर्भर भारत अभियानः संवृद्धि आवेग की आगामी तरंग की ओर लक्षित