ENGLISH HINDI Wednesday, November 13, 2019
Follow us on
 
ताज़ा ख़बरें
रोजाना एक हज़ार बार "धन गुरु नानक" लिख रहें हैं मंजीत शाह सिंहपुत्रमोह मे फँसे भारतीय राजनेता एवं राजनीति, गर्त मे भी जाने को तैयारअज्ञात बुजुर्ग का शव मिलाहोटल भी अवैध, एसटीपी भी नहीं, कौन दे रहा लोगों की सेहत से खिलवाड़ की इजाजतमंदिर बनाने के हक में देर से आया सुप्रीम कोर्ट का दरूसत फैसला- सतिगुरू दलीप सिंह जीपूर्वांचल वेलफेयर एसोसिएशन ने गुरु नानक देव के 550वें प्रकटोत्सव के उपलक्ष्य में छठ पूजा स्थल पर दीपमालासामूहिक विवाह समारोह: राष्ट्रीय हिन्दू शक्ति संगठन ने वैवाहिक जोड़ों को जीवन यापन का समान किया भेंटकरतारपुर साहिब से लौटे इन्फोटेक चेयरमैन एसएमएस संधू ने साझा की यात्रा की सुनहरी यादें
पंजाब

नगर परिषद शहर को स्लम फ्री बनाने की योजना पर नहीं कर रही काम

November 05, 2019 12:22 PM

जीरकपुर, जेएस कलेर

शहर को स्लम फ्री बनाने की योजना पर दो साल पहले जो काम किया गया था, उसका कोई रिजल्ट नजर नहीं आ रहा है। स्लम फ्री बनाना तो दूर की बात, शहर में मनमर्जी से यहां-वहां बनाई जा रही झुग्गियाें व अवैध कब्जों को हटाने का काम भी नहीं किया जा रहा है।

आलम यह है कि इस समय जीरकपुर में 2 हजार के करीब झुग्गियां हैं, जिनको हटाने के लिए एमसी कोई काम नहीं कर रही है। इन झुग्गियों से परेशान होकर लोग लोकल बाॅडीज विभाग के अधिकारियों, यहां तक कि मंत्री से भी मिल चुके हैं पर उसके बाद भी कोई रिजल्ट नहीं आ रहा है। कई मीटिंग्स और सर्वे का नतीजा भी जीरो:

रेवेन्यू विभाग के 2018 में करवाए गए एक आधिकारिक सर्वे के मुताबिक जीरकपुर में इस समय 1855 झुग्गियां थी। जीरकपुर एमसी ने रेवेन्यू विभाग के अधिकारियों और पटवारी के सर्वे से यहां 17 जमीन मालिकों का जमीन का रिकॉर्ड तैयार किया गया था। साथ ही यह भी डिटेल रिपोर्ट तैयार की गई थी कि किसकी जमीन में कितनी झुग्गियां बनी हैं। उन झुग्गियों से कितना किराया वूसला जा रहा है।

शहर को स्लम फ्री बनाने के लिए कई बार एमसी अधिकारियों की मीटिंग हुई। इसको लेकर सर्वे भी हुआ। यह भी तय किया गया कि स्लम फ्री बनाने के लिए नगर परिषद कई जगहों पर ईडब्ल्यूएस फ्लैट्स बनाएगी। इस काम के लिए जमीन लोकेट करने का दावा जरूरत किया गया पर इस पर काम नहीं किया गया। ढकोली क्षेत्र में जमीन मालिक झुग्गियां बनाकर किराये पर दे रहे है। यह काम जमीन मालिकों को खेती करने से ज्यादा मुनाफे वाला साबित हो रहा है। इसलिए जमीन पर झुग्गियां बनाकर दे रहे हैं। एक एकड़ जमीन पर 100 के करीब झुग्गियां बनाई हैं। एक झुग्गी से 1000 से 1500 रुपये किराया मिलता है। मालिक को एक एकड़ जमीन से महीने में एक लाख किराया आता है। पूरे साल में 12 लाख किराया। जबकि जमीन पर फसल उगाने से इसका 25 प्रतिशत भी कमाई नहीं हो पाती।

यहां ढकोली के कई लोगों जीरकपुर नगर कौंसिल को कई बार शिकायत दे चुके हैं कि ढकोली क्षेत्र में कृष्णा एन्कलेव के पास जमीन पर सैकड़ों झुग्गियां बनाई है। पास में रह रहे लोगों का कहना है कि यहां घर लेकर अब पछता रहे है। प्रशासन सुनवाई नहीं करता है। लोगों का कहना है कि उनके घरों के आसपास का माहौल बेहद खराब हो गया है।

रेवेन्यू विभाग के 2018 में करवाए गए एक आधिकारिक सर्वे के मुताबिक जीरकपुर में इस समय 1855 झुग्गियां थी। जीरकपुर एमसी ने रेवेन्यू विभाग के अधिकारियों और पटवारी के सर्वे से यहां 17 जमीन मालिकों का जमीन का रिकॉर्ड तैयार किया गया था। साथ ही यह भी डिटेल रिपोर्ट तैयार की गई थी कि किसकी जमीन में कितनी झुग्गियां बनी हैं। उन झुग्गियों से कितना किराया वूसला जा रहा है।

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
 
और पंजाब ख़बरें
अज्ञात बुजुर्ग का शव मिला होटल भी अवैध, एसटीपी भी नहीं, कौन दे रहा लोगों की सेहत से खिलवाड़ की इजाजत करतारपुर साहिब से लौटे इन्फोटेक चेयरमैन एसएमएस संधू ने साझा की यात्रा की सुनहरी यादें नगर कौंसिल ने प्लास्टिक मुक्त भारत अभियान के अंतर्गत मुकाबले करवाए 550वें प्रकाश पर्व के उपलक्ष्य में हलवा प्रसाद और चने का लंगर लगाया 550वें प्रकाश पर्व को समर्पित कीर्तन दरबार करवाया मामला ढकोली में महिला को बंधक बना लूटने का: 7 तोले सोना व 45 हजार की हुई लूट दहेज उत्पीड़न में पति समेत देवर पर किया केस दर्ज नोटबंदी आजाद भारत का अब तक का सबसे बड़ा स्कैंडल: अक्षय शर्मा घर में घुस कर औरत को हथियारों की नोक पर बंधक बना कर लूटा