ENGLISH HINDI Thursday, November 21, 2019
Follow us on
 
ताज़ा ख़बरें
इंस्पेक्टर गुरवंत सिंह ने जीरकपुर में एसएचओ का कार्यभार संभालाज़मीन पर कब्ज़ा करने और चौकीदार की मारपीट करने के आरोप में बिल्डर और कांग्रेसी नेता के ख़िलाफ़ केस दर्ज महिला आईटीआई स्टूडेंट्स को बांटे प्रमाण-पत्रफेरे से पहले दूल्हे की सड़क हादसे में मौत, शादी की तैयारी के सिलसिले में गया था नजदीकी गांवचण्डीगढ़ भाजपा को जल्द मिलेगा नया अध्यक्षपुलिस फोर्स तथा मोबाइल फौरेसिंग युनिट को आधुनिक उपकरणों से लैस किया जाएगा: अनिल विज पूर्व प्रधानमंत्री श्रीमति इंदिरा गांधी की 102वी जयन्ती पर श्रद्धासुमन अर्पितदादागिरी पर उतरे ओकेशन मैरिज पैलेस के संचालक,पुलिसकर्मियों व शिकायतकर्ता से मारपीट, 35 पर कटा पर्चा
हिमाचल प्रदेश

आरसीईपी में शामिल ना होना किसानों, नौजवानों और एमएसएमई के हक़ में: ठाकुर

November 06, 2019 11:57 AM

धर्मशाला, (विजयेन्दर शर्मा) केंद्रीय वित्त एवं कॉरपोरेट अफ़ेयर्स राज्यमंत्री श्री अनुराग ठाकुर ने बैंकाक में आसियान देशों व उनके मुक्त व्यापार समझौते(एफ़टीए) के भागीदार देशों के सम्मेलन में भारत की शर्तों को के अनुरूप क्षेत्रीय व्यापक आर्थिक भागीदारी (आरसीईपी) से बाहर रखने के प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी के निर्णय का स्वागत करते हुए इसे देश के किसानों,नौजवानों और एमएसएमई के हितों की रक्षा के मोदी सरकार का एक बड़ा कदम बताया है।
श्री अनुराग ठाकुर ने कहा”भारत अपनी शर्तों पर अपने व्यापारिक,सामरिक और आंतरिक हितों की रक्षा के लिए प्रतिबद्ध है। केंद्र की मोदी सरकार सबका साथ,सबका विकास,सबका विश्वास के मूलमंत्र के साथ भारत को विश्वगुरु बनाने की राह पर अग्रसर है।प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी देश के किसानों, बागवानों, नौजवानों की ना सिर्फ़ बात करते हैं बल्कि उनके हितों की रक्षा के लिए बड़े फ़ैसले लेने में भी संकोच नहीं करते हैं। कल बैंकाक में आसियान देशों व उनके मुक्त व्यापार समझौते(एफ़टीए) के भागीदार देशों के सम्मेलन में मौक़े पर भारत की शर्तों को पूरा ना कर पाने की स्थिति में क्षेत्रीय व्यापक आर्थिक भागीदारी (आरसीईपी) से बाहर रखने के प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी का निर्णय सराहनीय कदम है।वैश्विक मंच पर देश हित में लिए गए इस महत्वपूर्ण निर्णय के लिए प्रधानमंत्री जी बधाई के पात्र हैं”
आगे बोलते हुए श्री अनुराग ठाकुर ने कहा, भारत का आरसीईपी से हटने निर्णय मौजूदा वैश्विक परिस्थिति और समझौते की निष्पक्षता और संतुलन दोनों के आकलन के बाद लिया गया है। भारत जल्दबाजी में कोई भी एफटीए नहीं करेगा और घरेलू उद्योग के हितों से समझौता किए बिना और देश के किसानों, व्यापारियों, पेशेवरों और उद्योगों और श्रमिकों और उपभोक्ताओं के हितों को ध्यान में रखते हुए ही कोई गठजोड़ करेगा।हमारी सरकार मेक इन इंडिया प्रोग्राम के तहत ब्रांड इंडिया निर्माण के लिए प्रतिबद्ध है।

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
 
और हिमाचल प्रदेश ख़बरें
प्रधानमंत्री को हिमाचली टोपी पहनाना दस लाख रुपये में पड़ा : कुलदीप राठौर प्रदेश पब्लिक सर्विस कमीशन मेंबर रचना गुप्ता की गलोबल इन्वैस्टर मीट में मौजूदगी से मचा बवाल कांग्रेस सरकार के समय पुनर्नियुक्तियों पर आलोचना करने वाली भाजपा आज उसी रास्ते पर चली-दीपक शर्मा पालमपुर को शीघ्र दिया जाएगा नगर निगम का दर्जा: सरवीन चौधरी हिमाचल में क्या राजनीतिक नेतृत्व ख़त्म हो चुका जो पीएम और केंद्रीय मंत्रियों से अफ़सर बैठकें कर रहे: महेश्वर चौहान ई कॉमर्स के अनैतिक व्यापार ने तोड़ी व्यापारियों की कमर पर्यावरण को बचाने के लिए निकाली रैली लॉरेट फार्मेसी संस्थान कथोग में पांच दिवसीय इंस्पायर" कैंप सम्पन्न "इंस्पायर" कैंप में छात्र छात्राओं ने रसायन विज्ञान और नैनो साइंस के तथ्यों को जाना धर्मशाला का विकास कांग्रेस की देन-ठाकुर कौल सिंह