ENGLISH HINDI Wednesday, April 01, 2020
Follow us on
 
ताज़ा ख़बरें
निजी अस्पतालों के डॉक्टरों, नर्सों, पैरामेडिक्स, अन्य कर्मचारियों को भी एक्सग्रेशिया मुआवजे की घोषणाविदेशी हाई-प्रोफाइल कॉल गर्ल्स की नहीं हुई जांचसामाजिक दूरी को बनाए रखने में ई-पास मेकेनिज्म होगा सहायकः मुख्यमंत्रीगैर पंजीकृत प्रवासी मजदूरों को पंजीकृत कर प्रदान किए जाएं पहचान पत्रः राज्यपालकोविड-19 पर जागरूकता फैलाने की पहल, उद्देश्य मिथकों को दूर करने में मदद करना3 व्यक्तियों की गिरफ्तारी से पुलिस ने धारीवाल हत्याकांड मामला सुलझायाकोरोना की एंट्री पर रोक लगाने शहरों व गांवों में बेरीगेटिंग शुरुदिल्ली में भाग लेने वालों में तब्लीगी जमात से संबंधित बरनाला के भी थे दो लोग
पंजाब

आने वाली पीढ़ीयों को वातावरण प्रदूषण से बचाने का न्यौता

November 07, 2019 12:01 PM

चंडीगढ़, फेस2न्यूज:
श्री गुरू नानक देव की के 550वें प्रकाश पर्व को समर्पित पंजाब विधानसभा के बुधवार को बुलाए विशेष सत्र को संबोधित करते हुए पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिन्दर सिंह ने आने वाली पीढ़ीयों को वातावरण प्रदूषण के प्रभाव से बचाने का न्यौता दिया।
गुरू साहिब जी के महान फलसफे ‘पवन गुरू, पानी पिता, माता धरत महत’ को याद करते हुए मुख्यमंत्री ने कुदरत और मानवता के बीच आपसी अंतर्निहित सांझ को दिखाया।
कैप्टन अमरिन्दर सिंह ने कहा कि गुरू साहिब के फलसफे की भावना को कायम रखने की ज़रूरत है जिससे आने वाली पीढिय़ों को वातावरण प्रदूषण के कारण फैलती घातक बीमारियों से बचाया जा सके जैसे कि मौजूदा समय में वायु प्रदूषण ने राष्ट्रीय राजधानी समेत समूचे उत्तरी भारत को अपनी लपेट में लिया हुआ है।
मुख्यमंत्री ने सभी से अपील करते हुए कुदरत और कुदरती स्रोतों को सँभालने की अपील की जिससे पंजाब को गुरू साहिब के फलसफे के अनुसार साफ़ सुथरा, हरा-भरा और प्रदूषण मुक्त रखा जा सके। इसलिए उन्होंने भूजल के कम प्रयोग, पानी के कम प्रयोग वाली फसलें पैदा करने, पराली न जलाने और रसायनिक खादों के कम प्रयोग पर ज़ोर दिया।
यही विचार देश के उप-राष्ट्रपति एम. वेंकैया नायडू द्वारा प्रकट किए गए जो ऐतिहासिक सैशन के विशेष मेहमान थे। इस मौके पर पूर्व प्रधानमंत्री डॉ. मनमोहन सिंह, पंजाब के राज्यपाल वी.पी. सिंह बदनौर, हरियाणा के राज्यपाल सत्यादेव नारायण आर्य, हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर और उप-मुख्यमंत्री दुश्यंत चौटाला समेत पंजाब के संसद मैंबर और पंजाब और हरियाणा के विधायकों ने पंजाब विधानसभा के स्पीकर राणा के.पी. सिंह की हाजिऱी में शिरकत की।
अपने संबोधन में पंजाब के मुख्यमंत्री ने श्री गुरु नानक देव जी के समानता वाला समाज सृजन करने, सामाजिक और आर्थिक असमानता ख़त्म करने के शाश्वत संदेश का पालन करने के लिए सभी से अपील की। उन्होंने श्री गुरु नानक देव जी की शिक्षाओं और संदेशों पर फिर से विचार करने और इससे किसी भी भटकाव को ठीक करने की ज़रूरत पर ज़ोर दिया।
कैप्टन अमरिन्दर सिंह ने कहा कि मौजूदा पीढ़ी को अपने जीवन काल में 550वां प्रकाश पर्व मनाने का सौभाग्य प्राप्त हुआ है। उन्होंने पहले सिख गुरू की करूणा और प्यार करने की शिक्षाओं और नैतिक मुल्यों को अपनाने का न्यौता दिया। उन्होंने सहनशीलता और सद्भावना पर ज़ोर देने के लिए गुरू साहिब की एकता और एक परमात्मा के फलसफे का विशेष जि़क्र किया।
मुख्यमंत्री ने उम्मीद ज़ाहिर करते हुए कहा कि सदन में पंजाब और हरियाणा के विधायकों के दरमियान आज देखी गई सद्भावना भविष्य में दोनों राज्यों के बीच सांझ की डोरी को और मज़बूत करती रहेगी जिससे क्षेत्र के सर्वपक्षीय विकास और ख़ुशहाली को यकीनी बनाया जा सकेगा।
अपने मुख्य भाषण में उप-राष्ट्रपति एम. वेंकैया नायडू ने अगले कुछ दिनों में करतारपुर गलियारा खुलने पर ख़ुशी ज़ाहिर की। उन्होंने उम्मीद ज़ाहिर की कि यह गलियारा हमें पवित्र स्थान करतारपुर के साथ जोड़ेगा जहाँ गुरू साहिब जी ने अपने जीवन के अंतिम 18 वर्ष बिताए।
उन्होंने विधायकों को समानता वाले समाज का सृजन करने के लिए गुरू साहिब जी के सिद्धांतों के अनुसार लोगों की सेवा करके मिसाल कायम करने का न्यौता दिया। श्री गुरु नानक देव जी को समानता के पक्षधर बताते हुए श्री नायडू ने कहा कि पहले सिख गुरू साहिब ने महिलाओं के सत्कार के लिए भी आवाज़ बुलंद की।
पंजाब और हरियाणा के विधायकों की सहयोग से विशेष सत्र बुलाने के लिए मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिन्दर सिंह और पंजाब विधानसभा के स्पीकर राणा के.पी. सिंह को बधाई देते हुए उप-राष्ट्रपति ने उम्मीद प्रकट करते हुए कहा कि इस विलक्षण कदम से श्री गुरु नानक देव जी का संदेश और शिक्षाओं का प्रसार कोने-कोने तक होगा।
इससे पहले पूर्व प्रधानमंत्री डॉ. मनमोहन सिंह ने न्यायकारी समाज को यकीनी बनाने के लिए श्री गुरु नानक देव जी द्वारा आपसी प्यार और सत्कार के दिखाए मार्ग पर चलने की अपील की। ख़ुशहाल भविष्य को यकीनी बनाने के लिए शान्ति और सद्भावना को एकमात्र रास्ता बताते हुए उन्होंने आशा अभिव्यक्त की कि भविष्य में कशमकश को ख़त्म करने के लिए करतारपुर मॉडल सहायक होगा।
पूर्व प्रधानमंत्री ने कहा कि श्री गुरु नानक देव जी का धार्मिक सहनशीलता, अमन-शान्ति और एक परमात्मा का संदेश सांप्रदायिक हिंसा का ख़ात्मा कर सकता है। उन्होंने कहा कि सांप्रदायिक हिंसा विश्व के सामने बहुत बड़ी चुनौती है।

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
 
और पंजाब ख़बरें
3 व्यक्तियों की गिरफ्तारी से पुलिस ने धारीवाल हत्याकांड मामला सुलझाया कोरोना की एंट्री पर रोक लगाने शहरों व गांवों में बेरीगेटिंग शुरु दिल्ली में भाग लेने वालों में तब्लीगी जमात से संबंधित बरनाला के भी थे दो लोग विधायक आवला ने मुख्यमंत्री राहत कोष में अपना दो साल का वेतन दिया चेतावनी: ज़रूरी वस्तुओं की अधिक कीमत वसूलने वालों पर की जाएगी सख्त कार्यवाही सिविल डिफेंस वार्डनों को सीडीआई ने दिए वालंटियरों को तैयार रखने के निर्देश बैसाखी पर सिख संगत को एकत्रित न होने का संदेश देने की श्री अकाल तख्त साहिब के जत्थेदार से अपील सेवामुक्त होने वाले पुलिसकर्मियों का सेवाकाल 31 मई तक बढ़ाया कोरोना : पहले कैदियों को रिहा किया, अब नशामुक्ति केंद्रों से नशेडिय़ों को भेजा जाएगा घर गड़बड़झाला: दवा के नाम पर प्रशासन की आंखों में धूल झौंक रहे नगर परिषद अधिकारी व ठेकेदार