ENGLISH HINDI Wednesday, April 01, 2020
Follow us on
 
ताज़ा ख़बरें
निजी अस्पतालों के डॉक्टरों, नर्सों, पैरामेडिक्स, अन्य कर्मचारियों को भी एक्सग्रेशिया मुआवजे की घोषणाविदेशी हाई-प्रोफाइल कॉल गर्ल्स की नहीं हुई जांचसामाजिक दूरी को बनाए रखने में ई-पास मेकेनिज्म होगा सहायकः मुख्यमंत्रीगैर पंजीकृत प्रवासी मजदूरों को पंजीकृत कर प्रदान किए जाएं पहचान पत्रः राज्यपालकोविड-19 पर जागरूकता फैलाने की पहल, उद्देश्य मिथकों को दूर करने में मदद करना3 व्यक्तियों की गिरफ्तारी से पुलिस ने धारीवाल हत्याकांड मामला सुलझायाकोरोना की एंट्री पर रोक लगाने शहरों व गांवों में बेरीगेटिंग शुरुदिल्ली में भाग लेने वालों में तब्लीगी जमात से संबंधित बरनाला के भी थे दो लोग
पंजाब

पाकिस्तानी वीडियो गानेे में खालिस्तानी नेताओं की तस्वीरों के साथ करतारपुर गलियारे के पीछे छिपा हुआ एजेंडा उजागर: कैप्टन

November 07, 2019 12:06 PM

चंडीगढ़, फेस2न्यूज:
करतारपुर गलियारे पर बने पाकिस्तानी वीडियो गानेे में खालिस्तानी अलगाववादी नेताओं की तस्वीरों पर तीखा हमला करते हुए पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिन्दर सिंह ने कहा कि अब यह बात साफ हो गई है कि ऐतिहासिक गलियारे के पीछे आई.एस.आई. का हाथ होने की उनकी दलील सही है।
श्री गुरु नानक देव जी के 550वें प्रकाश पर्व के अवसर पर बुलाए पंजाब विधानसभा के विशेष सैशन के मौके पर सदन के बाहर मीडिया के साथ अनौपचारिक बातचीत के दौरान कैप्टन अमरिन्दर सिंह ने कहा कि जबसे प्रधान मंत्री ने करतारपुर गलियारा खोलने का ऐलान किया है तब से ही उन्होंने पाकिस्तान के फैसले के पीछे आई.ऐस.आई. के हाथ होने की चेतावनी दी थी।
मुख्यमंत्री ने कहा कि चाहे गलियारा खोलने की उनके सहित पूरे सिक्ख कौम की वर्षों पुरानी माँग थी कि वह ऐतिहासिक गुरूधाम के दर्शन करके पहले सिख गुरू को सत्कार भेंट कर सकें परन्तु इसके साथ ही बहुत चैकस होने की जरूरत पर जोर देते हुए कहा कि भारत आई.ऐस.आई. के हमले को दरकिनार करने का जोखिम नहीं उठा सकता जो इसके साथ जुड़ा है।
एक सवाल के जवाब में कैप्टन अमरिन्दर सिंह ने कहा, ‘‘वीडियो ने आई.एस.आई. के असली और छिपे एजंडे को जाहिर कर दिया है जिस बारे मैं पहले से ही चेतावनी देता आ रहा हूं कि आई.ऐस.आई. इसके पीछे छिपा हुआ एजेंडा रख रही है। एक तरफ पाकिस्तान मानवता और दया दिखा रहा है जबकि दूसरी ओर आई.एस.आई. की शह पर चल रहे 2020 रैफरंडम को आगे बढ़ाने और स्लीपर सैलों को स्थापित करने के लिए भारतीय सिखों को भड़काने के लिए करतारपुर गलियारेे का प्रयोग करने पर तुला हुआ है।’’
यह विवाद उस समय पैदा हुआ जब पाकिस्तान वीडियो गाने में तीन खालिस्तानी अलगाववादी नेताओं की तस्वीरें इस्तेमाल की गईं जो जून 1984 में आपरेशन ब्ल्यू स्टार में मारे गए थे।
मुख्यमंत्री ने अकाली नेताओं को भी आड़े हाथों लेते हुए उन पर निशाना साधते हुए कहा कि वह करतारपुर गलियारेे के मामलेे में अपने संकुचित राजसी हितों के लिए आई.एस.आई. के हाथों में खेल रहे हैं। अकाली दल के प्रधान सुखबीर बादल और पूर्व मंत्री बिक्रम मजीठिया की उन ताजा टिप्पणियों, जिसमें उन्होंने कहा है कि वह (मुख्यमंत्री) आई.एस.आई. के खेल के खिलाफ चेतावनी देकर करतापुर गलियारे को भंग करने की कोशिश रहे हैं, पर बोलते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि वास्तव में अकाली दल सत्ता पाने की लालसा में अंधे हो गए हैं।
मुख्यमंत्री ने कहा कि अकाली नेता कभी भी अपने संकुचित राजनैतिक हितों से आगे नहीं देख सकते जिनका आई.एस.आई. के विभाजनकारी एजंडे के संकेत से विमुख होने के अड़ियल रवैये से खुदगर्जी और पंजाबियों के हितों को अनदेखा करना सामने आता है।
कैप्टन अमरिन्दर सिंह ने कहा, ‘‘अगर कोई करतारपुर गलियारे को बिगाड़ने की कोशिश कर रहा है तो वह आई.एस.आई. है परन्तु अकाली नेता आई.एस.आई. पर हमला करने की बजाय मेरे पर हमला कर रहे हैं। ‘‘उन्होंने कहा कि अकाली नेता आई.एस.आई. के खतरे की संभावना को अनदेखा करते हुए पंजाब के लोगों को गुमराह करते हुए उनकी सरकार के खिलाफ बयान देकर वास्तव में आई.एस.आई. के सिख भाईचारे को बाँटने के एजंडे को ही आगे बढ़ा रहे हैं।
मुख्यमंत्री ने कहा कि हरेक भारतीय आई.एस.आई. के उन खतरों से जागरूक है जो देश की स्थिरता के खिलाफ है और हमारे देश में आतंकवाद को प्रायोजित करने में भी उनका हाथ है। फिर भी अकाली दल ने इस मामले पर आँखों पर पट्टी बाँधी हुई है और संकीर्ण राजसी चालें चलने पर उतारू है। आई.एस.आई. रैफरंडम 2020 को उत्साहित करने के लिए सिख भाईचारे को बाँटने की कोशिशें कर रहा है और अकाली नेता ऐसे बयान देकर वास्तव में उनकी मदद कर रहे हैं।
मुख्यमंत्री ने अकाली दल से अपील करते हुए कहा कि लोकतंत्रीय पार्टियों में राजसी भिन्नताएं होती ही हैं परन्तु इन भिन्नताओं से देश की सुरक्षा को खतरे में डालने की इजाजत किसी को नहीं दी जानी चाहिए। उन्होंने कहा कि अकाली दल संकीर्ण राजसी चालों से उपर उठे और पंजाब और सभी के हित में काम करे। उन्होंने कहा कि ऐसे खास मौके पर जब 550वें प्रकाश पर्व समागमों के अवसर पर सारी दुनिया पंजाब की तरफ देख रही है, अकाली दल जैसी पुरानी राजसी पार्टी द्वारा धौंस जमाना शोभा नहीं देता।

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
 
और पंजाब ख़बरें
3 व्यक्तियों की गिरफ्तारी से पुलिस ने धारीवाल हत्याकांड मामला सुलझाया कोरोना की एंट्री पर रोक लगाने शहरों व गांवों में बेरीगेटिंग शुरु दिल्ली में भाग लेने वालों में तब्लीगी जमात से संबंधित बरनाला के भी थे दो लोग विधायक आवला ने मुख्यमंत्री राहत कोष में अपना दो साल का वेतन दिया चेतावनी: ज़रूरी वस्तुओं की अधिक कीमत वसूलने वालों पर की जाएगी सख्त कार्यवाही सिविल डिफेंस वार्डनों को सीडीआई ने दिए वालंटियरों को तैयार रखने के निर्देश बैसाखी पर सिख संगत को एकत्रित न होने का संदेश देने की श्री अकाल तख्त साहिब के जत्थेदार से अपील सेवामुक्त होने वाले पुलिसकर्मियों का सेवाकाल 31 मई तक बढ़ाया कोरोना : पहले कैदियों को रिहा किया, अब नशामुक्ति केंद्रों से नशेडिय़ों को भेजा जाएगा घर गड़बड़झाला: दवा के नाम पर प्रशासन की आंखों में धूल झौंक रहे नगर परिषद अधिकारी व ठेकेदार