ENGLISH HINDI Wednesday, December 11, 2019
Follow us on
 
पंजाब

होटल भी अवैध, एसटीपी भी नहीं, कौन दे रहा लोगों की सेहत से खिलवाड़ की इजाजत

November 11, 2019 09:51 PM

जीरकपुर, जेएस कलेर

शहर के अचानक मशरूम की खेती की तरह बढे शोरूम्स में बनाए गए अवैध होटल्स से निकलने वाला गंदा पानी बिना ट्रीट किए ही एमसी की सीवरेज लाइनों में छोड़ रहे हैं। शोरूम्स में खुले होटलों वाले एसटीपी नहीं लगा रहे हैं, जिसके चलते प्रदूषण बढ़ रहा है। बड़ी संख्या में होटल्स के एसटीपी वर्किंग कंडीशन में नहीं हैं। वहीं जीरकपुर पटियाला सड़क पर बना होटल ड्रीम दशमेश कालोनी के लोगों की सेहत से खिलवाड़ करने के साथ साथ नगर कौंसिल की स्वच्छता रैंकिंग को भी पलीता लगा रहा है।

हालांकि हरेक होटल के लिए सीवरेज ट्रीटमेंट प्लांट लगाना जरूरी है लेकिन इस ओर न तो प्रदूषण कंट्रोल विभाग ध्यान दे रहा है और न ही जीरकपुर नगर कौंसिल ही अवैध तौर पर कमर्शियल गंदगी को सीवरेज लाइन में डालने के खिलाफ कार्रवाई कर रही है।

शहर में लगातार बिना सीएलयू के बनाए जा रहे अवैध होटल्स लोगों के लिए परेशानी बन रहे हैं। होटल्स के रूम के अंदर से और किचन से जिस तरह का गारबेज सीवर लाइनों में जा रहा है उससे वे ब्लाॅक हो रही है। यह सीवर लाइन यहां के रेजीडेंशियल एरिया के लिए है, लेकिन इसे होटल्स वालों ने भी इस्तेमाल किया है। जब एक जगह सीवर लाइन जाम हो जाती है तो सैकड़ों परिवारों का घर का सीवर रुक जाता है। जीरकपुर एमसी के अधिकारियों को देखना चाहिए कि होटल्स संचालकों के लिए म्यूनिसिपल बायलाज बने हैं तो फिर क्यों न इसका पालन किया जा रहा है।

सभी होटल्स की चेकिंग की जाएगी। जिसकी वजह से यहां सीवर लाइनें ब्लाक हो रहीं है उन पर कार्रवाई की जाएगी। होटल्स का अपना सीवरेज ट्रीटमेंट प्लांट होना अनिवार्य है। -सुखजिंदर सिंह सिधु, ईओ एमसी जीरकपुर

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
 
और पंजाब ख़बरें