ENGLISH HINDI Wednesday, January 29, 2020
Follow us on
 
पंजाब

फ़ौज के शौर्य पर पंजाबी में लिखी दो पुस्तकों पर विचार-विमर्श

December 13, 2019 08:43 PM

चंडीगढ़, फेस2न्यूज:
देश की आज़ादी से पहले चले लम्बे संघर्ष से लेकर आज़ाद देश में देश की सुरक्षा के लिए भारतीय रक्षा सेवाओं द्वारा दी गये बलिदानों में पंजाबियों का योगदान बहुत बड़ा रहा है। हर पंजाबी को भारतीय सेना के गौरवमई इतिहास से अवगत करवाने के लिए मातृभाषा में फ़ौजी साहित्य लिखना समय की बड़ी ज़रूरत है।
यह बात कर्नल बी.एस.सरां ने शुक्रवार को पंजाब सरकार की तरफ से करवाए जा रहे तीसरे मिलिट्री लिटरेचर फेस्टिवल -2019 के पहले दिन पुस्तक चर्चा सैशन के दौरान कही। इस सैशन के दौरान कर्नल सरां द्वारा फ़ौज के शौर्य पर पंजाबी में लिखी दो पुस्तकें ‘भारतीय फ़ौज की चुनिन्दा लड़ाईयां’ और ‘पहला भारत -पाकिस्तान युद्ध, 1947-48 ऑपरेशन रैसक्यू (जम्मू कश्मीर) संबंधी प्रसिद्ध पत्रकार और पंजाबी ट्रिब्यून के पूर्व संपादक सुरिन्दर सिंह तेज ने चर्चा की। कर्नल सरां संबंधी जान-पहचान में बताया गया कि उन्होंने तीन जंगों 1965, 1971 और सियाचिन की पहली मुहिम में हिस्सा लिया जिस कारण उनके पास फ़ौज की लड़ाई संबंधी लिखने का निजी तजुर्बा भी था।
स. तेज ने शुरुआती शब्द बोलते हुये कहा कि फ़ौज संबंधी पंजाबी में बहुत कम साहित्य लिखा गया है। उन्होंने कहा कि मिलिट्री लिटरेचर फेस्टिवल में पंजाबी में लिखे फ़ौजी साहित्य को चर्चा में शामिल करना श्लाघायोग्य प्रयास है जिससे आने वाले समय में अन्य लेखकों को फ़ौज संबंधी पंजाबी में लिखने की प्रेरणा मिलेगी। स. तेज ने कुछ संदर्भ देते हुये बताया कि इससे पहले ब्रिगेडियर नरिन्दर पाल सिंह द्वारा तीन नावलों की कड़ी लिखी। कर्नल जसबीर भुल्लर ने चाहे उच्च कोटी का साहित्य लिखा परन्तु सेना संबंधी कम लिखा। मोहन काहलों द्वारा दूसरी विश्व जंग संबंधी ‘वहि गए पानी’ लिखा गया जोकि प्रेम कहानी अधिक थी। अजमेर मान ने फ़ौजी कहानियाँ लिखीं। प्रो. रणजीत सिंह दिल्ली ने भी कहानियाँ लिखीं। उन्होंने कर्नल सरां के इस उद्यम की सराहना की जो पंजाबी पाठकों के लिए सौगात है।
कर्नल सरां ने कहा कि उनके मन में इस बात की टीस थी कि स्थानीय भाषाओं में फ़ौजी साहित्य की कमी है जिसके लिए उन्होंने पंजाबी में लिखने को प्राथमिकता दी। उन्होंने कहा कि दिल के जज़्बात मातृभाषा में ही बयान किये जा सकते हैं। उन्होंने कहा कि साहित्य वाला उनका विद्यार्थी जीवन से ही झुकाव था और सैनिक जीवन के दौरान उन्होंने साहित्य पढऩा नहीं छोड़ा।

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
 
और पंजाब ख़बरें
सीमा सुरक्षा बल द्वारा गणतंत्र दिवस समारोह का आयोजन फरवरी में श्री गुरु नानक देव जी की फिलास्फी पर अंतर्राष्ट्रीय कान्फ्रेंस करोना वायरस खतरे का पता लगाने के लिए हवाई अड्डा, अमृतसर में थर्मल सैंसर स्थापित रिपब्लिकन पार्टी ऑफ इंडिया ने धूमधाम से मनाया गणतंत्र दिवस कैंसर की चपेट में गांव बडबर, 6 से अधिक लोगों की हो चुकी मौत अवैध माइनिंग के खिलाफ हरकत में आया प्रशासन, मुबारिकपुर घग्गर नदी पर बनाए अवैध पुल को तोड़ा स्टेट एंटी फ्रॉड यूनिट द्वारा 15 अस्पतालों को कारण बताओ नोटिस जारी पानी मुद्दे पर अमरिन्दर सिंह ने सर्वदलीय बैठक बुलाई स्कूलों में खाली पड़े पदों की भर्ती प्रक्रिया शुरू करे सरकार: आप विचार पर काम करना सफलता की कुंजी है, न सिर्फ विचार करना: गोपालाकृष्णन