ENGLISH HINDI Monday, February 24, 2020
Follow us on
 
ताज़ा ख़बरें
टीचर्स ने एग्जाम में नहीं दी ड्यूटी, अब बोर्ड ने बच्चों को जारी नहीं किए रोलनंबर: कुलभूषण शर्माफाइल पर देरी के लिए संबधित अधिकारी की जिम्मेदारी सुनिश्चित की जाएअखिल भारतीय पुलिस कुश्ती प्रतियोगिता में भाग लेने पहुंचे देशभर से खिलाड़ीदृष्टि पंजाब ने 23 विद्यार्थी किए 11.50 लाख के अवार्ड से सम्मानितसोलन की पूर्व विधायक मेजर कृष्णा मोहिनी का निधन मूलभूत सुविधाएं न मिलने को लेकर शिवालिक निवासियों ने खोला कॉलोनाइजर के खिलाफ मोर्चाविशाल परमार बने मिस्टर चंडीगढ़: रीटा देवी ने जीता मिस चंडीगढ़ का खिताब एक भारत—श्रेष्ठ भारत पर चित्र प्रदर्शनी मनसा देवी मंदिर परिसर में आयोजित
पंजाब

अकाली शासन के दौरान हुए बिजली खरीद समझौतों पर श्वेत पत्र लायेगी सरकार: कैप्टन

January 17, 2020 10:06 AM

चंडीगढ़, फेस2न्यूज:
पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिन्दर सिंह ने कहा कि प्राईवेट कंपनियों के साथ किये विवादित बिजली खरीद समझौतों के सम्बन्ध में अकालियों द्वारा किये गए फऱेब का पर्दाफाश करने के लिए उनकी सरकार विधानसभा के मौनसून सैशन के दौरान श्वेत पत्र लाएगी।
विधानसभा के दो-दिवसीय विशेष सत्र के पहले दिन राज्यपाल के भाषण के बाद पत्रकारों के साथ अनौपचारिक बातचीत के दौरान मुख्यमंत्री ने कहा कि यह श्वेत पत्र पिछली अकाली-भाजपा सरकार द्वारा पावर प्लांट स्थापित करने सम्बन्धी किये समझौतों के साथ जुड़े सभी दस्तावेज़ों का खुलासा करेगा।
कैप्टन ने कहा कि बेईमान चरित्र वाले अकालियों ने पहले तो बिजली समझौतों समेत अलग-अलग विनाशकारी कदमों के द्वारा राज्य की अर्थव्यवस्था को बर्बाद करके रख दिया और अब यही अकाली अपने संकुचित राजनैतिक हितों के लिए उनकी सरकार के विरुद्ध इस मुद्दे का उपयोग करने की कोशिश कर रहे हैं।
मुख्यमंत्री ने बताया कि उनकी सरकार ने निचली अदालत में इस मामले पर केस जीत लिया था परन्तु सुप्रीम कोर्ट का फ़ैसला उनके विरुद्ध चला गया। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार अब सुप्रीम कोर्ट में केस लड़ रही है। उन्होंने याद किया कि जब वह विरोधी पक्ष में थे तो वह ख़ुद इंडिया बुल्ज़ प्लांट के खि़लाफ़ धरने पर बैठे थे। उस समय की अकाली सरकार ने इंडिया बुल्ज़ के साथ बिजली प्लांट लगाने के लिए एम.ओ.यू. करने के लिए नेशनल थर्मल पावर कोर्पोरेशन (एन.टी.पी.सी.) का गिद्दड़बाहा पावर प्रोजैक्ट रद्द कर दिया था और समकालीन सरकार बिजली प्लांट की स्थापना के लिए वैश्विक टैंडर की तय प्रक्रिया के विरुद्ध गई थी और विवादित प्रोजैक्ट के लिए गिद्दड़बाहा में किसानों से ज़मीन जबरन खाली करवाई थी।
यह पूछे जाने पर कि क्या राज्य सरकार भी केरला सरकार की तरह नागरिकता संशोधन एक्ट (सी.ए.ए.) के विरुद्ध प्रस्ताव लायेगी तो मुख्यमंत्री ने जवाब में कहा, ‘‘कल तक इन्तज़ार करो।’’ यह जि़क्रयोग्य है कि राज्य सरकार ने पहले ही अपने फ़ैसले का ऐलान किया हुआ है कि वह सी.ए.ए. के साथ-साथ राष्ट्रीय नागिरक रजिस्टर (एन.आर.सी.) और राष्ट्रीय आबादी रजिस्टर (एन.पी.आर.) के मुद्दे पर सदन की इच्छा के मुताबिक आगे बढ़ेगी।
राज्यपाल के भाषण के मौके पर विरोधी पक्ष द्वारा किये वॉकआउट को बहुत ही दुर्भाग्यपूर्ण बताते हुए मुख्यमंत्री ने दुख ज़ाहिर करते हुए कहा कि सदन में ऐसा रवैया अपनाना आम बात हो गई है। उन्होंने कहा कि वॉकआउट की उम्मीद थी परन्तु राज्यपाल द्वारा अपने भाषण के दौरान श्री गुरु नानक देव जी के 550वें प्रकाश पर्व समागमों के महत्वपूर्ण धार्मिक विषय पर बोलने के मौके पर आम आदमी पार्टी और शिरोमणि अकाली दल द्वारा भाषण में विघ्न डालना के फ़ैसले निन्दाजनक हैं। उन्होंने कहा कि विरोधी पक्षों ने उस समय वॉकआउट किया जब राज्यपाल यह कह रहे थे कि यह खुशकिस्मती है कि पंजाब को गुरू साहिब जी के प्रकाश पर्व के ऐतिहासिक मौके को मनाने का सौभाग्य मिला है और इसी दौरान ही महात्मा गांधी की 150वीं जयंती मनायी गई।

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
 
और पंजाब ख़बरें
दृष्टि पंजाब ने 23 विद्यार्थी किए 11.50 लाख के अवार्ड से सम्मानित मूलभूत सुविधाएं न मिलने को लेकर शिवालिक निवासियों ने खोला कॉलोनाइजर के खिलाफ मोर्चा अवैध पुल व माईनिंग के खिलाफ विभाग ने दी पुलिस को शिकायत, पुलिस की जांच शुरु सर्वहितकारी विद्या मंदिर में वार्षिक कार्यक्रम सम्पन्न जेलों में सी.सी.टी.वी. कैमरे, करंट वाली तार लगाने व अलग ख़ुफिय़ा विंग सहित कई फ़ैसलों की मंजूरी सरकारी संस्थानों के साईन बोर्ड, सडक़ों के मील पत्थर पंजाबी में लिखे जाना अनिवार्य: बाजवा हाईकोर्ट के आदेशों पर 100 मीटर क्षेत्र में 13 गोदामों पर चला पीला पंजा उपभोक्ता फोर्म के स्टाफ को क्यों ज्वाइन नहीं करवा रही सरकार?: चीमा ‘आप’ विधायका रूबी ने उठाया असुरक्षित स्कूलों का मामला चोरों ने बंद घर में लाखों की नगदी व गहनों पर किया हाथ साफ