ENGLISH HINDI Tuesday, February 25, 2020
Follow us on
 
ताज़ा ख़बरें
टीचर्स ने एग्जाम में नहीं दी ड्यूटी, अब बोर्ड ने बच्चों को जारी नहीं किए रोलनंबर: कुलभूषण शर्माफाइल पर देरी के लिए संबधित अधिकारी की जिम्मेदारी सुनिश्चित की जाएअखिल भारतीय पुलिस कुश्ती प्रतियोगिता में भाग लेने पहुंचे देशभर से खिलाड़ीपूर्व CIC हबीब उल्लाह ने सुप्रीम कोर्ट में कहा, शाहीन बाग शांतिपूर्ण सभा का संगमदृष्टि पंजाब ने 23 विद्यार्थी किए 11.50 लाख के अवार्ड से सम्मानितसोलन की पूर्व विधायक मेजर कृष्णा मोहिनी का निधन मूलभूत सुविधाएं न मिलने को लेकर शिवालिक निवासियों ने खोला कॉलोनाइजर के खिलाफ मोर्चाविशाल परमार बने मिस्टर चंडीगढ़: रीटा देवी ने जीता मिस चंडीगढ़ का खिताब
पंजाब

खाने-पीने की अच्छी आदतें करती हैं किडनी का बचाव: डा. सुनील

January 21, 2020 07:27 PM

पटियाला, फेस2न्यूज:
फोर्टिस अस्पताल मोहाली के किडनी रोग माहिर व किडनी ट्रांस्पलांट सर्जन डा. सुनील कुमार ने कहा कि किडनी को स्वास्थ्य रखने के लिए जहां आपको अपने खान-पान की आदतों में सुधार करने की कोशिश करनी चाहिए, वहीं रोजाना सैर की आदत भी बनानी चाहिए। आज यहां पत्रकारों के साथ बातचीत करते हुए डा. सुनील ने कहा कि आम तौर पर 30 से 50 वर्ष की उम्र में तले हुए पदार्थो का कम प्रयोग कर देना चाहिए। उन्होंने कहा कि अधिक से अधिक पानी पीने की आदत भी किडनी के रोग से रक्षा करती है।  

बदलता लाइफ स्टाइल किडनी की बीमारियों के बढऩे का मुख्य कारण


उल्लेखनीय है कि डा. सुनील ने पीजीआई चंडीगढ़ सहित आक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी इंगलैंड से किडनी ट्रांस्पलांट करने की सिखलाई ली हुई है। उनको इस क्षेत्र में 11 वर्ष का अनुभव है तथा वह अब तक एक हजार से ज्यादा लोगों की किडनी ट्रांस्प्लांट कर चुके हैं। उन्होंने इस विषय पर कई खोज भी की हैं।
उन्होंने कहा कि इस रोग के बढऩे के मुख्य कारण हमारे लाइफ स्टाइल व खान-पान की आदतों में आई तबदीली है। इसके साथ-साथ शुगर तथा बल्ड प्रैशर में इजाफा भी इसका मुख्य कारण साबित हो रहा है। उन्होंने कहा कि जरूरत से ज्यादा दर्दनाक दवाईयां, नमक, लाल मीट, शराब, अधिक प्रोटीन वाली खुराक व मिठाई का प्रयोग भी घातक है।
उन्होंने कहा कि थोड़ी बहुत बीमारी होने की स्थिति में खुद ही इलाज करने की कोशिश भी खतरनाक साबित होती है। उन्होंने कहा कि भारत में हर साल एक लाख के करीब किडनी रोग से पीडि़त मरीज सामने आते हैं, जिनमें से 90 प्रतिशत ऐसे मरीज मौत के मुंह में चले जाते हैं जो अपना इलाज नहीं करवाते।
उन्होंने कहा कि किडनी ट्रांस्प्लांट करवाने वाला मरीज तकरीबन एक सप्ताह में ही तंदरूस्त हो जाता है तथा आम जीवन जीने के काबिल हो जाता है। उन्होंने कहा कि ऐसे मरीज को दवाई भी बहुत कम खानी पड़ती है।

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
 
और पंजाब ख़बरें
दृष्टि पंजाब ने 23 विद्यार्थी किए 11.50 लाख के अवार्ड से सम्मानित मूलभूत सुविधाएं न मिलने को लेकर शिवालिक निवासियों ने खोला कॉलोनाइजर के खिलाफ मोर्चा अवैध पुल व माईनिंग के खिलाफ विभाग ने दी पुलिस को शिकायत, पुलिस की जांच शुरु सर्वहितकारी विद्या मंदिर में वार्षिक कार्यक्रम सम्पन्न जेलों में सी.सी.टी.वी. कैमरे, करंट वाली तार लगाने व अलग ख़ुफिय़ा विंग सहित कई फ़ैसलों की मंजूरी सरकारी संस्थानों के साईन बोर्ड, सडक़ों के मील पत्थर पंजाबी में लिखे जाना अनिवार्य: बाजवा हाईकोर्ट के आदेशों पर 100 मीटर क्षेत्र में 13 गोदामों पर चला पीला पंजा उपभोक्ता फोर्म के स्टाफ को क्यों ज्वाइन नहीं करवा रही सरकार?: चीमा ‘आप’ विधायका रूबी ने उठाया असुरक्षित स्कूलों का मामला चोरों ने बंद घर में लाखों की नगदी व गहनों पर किया हाथ साफ