ENGLISH HINDI Monday, February 24, 2020
Follow us on
 
ताज़ा ख़बरें
टीचर्स ने एग्जाम में नहीं दी ड्यूटी, अब बोर्ड ने बच्चों को जारी नहीं किए रोलनंबर: कुलभूषण शर्माफाइल पर देरी के लिए संबधित अधिकारी की जिम्मेदारी सुनिश्चित की जाएअखिल भारतीय पुलिस कुश्ती प्रतियोगिता में भाग लेने पहुंचे देशभर से खिलाड़ीदृष्टि पंजाब ने 23 विद्यार्थी किए 11.50 लाख के अवार्ड से सम्मानितसोलन की पूर्व विधायक मेजर कृष्णा मोहिनी का निधन मूलभूत सुविधाएं न मिलने को लेकर शिवालिक निवासियों ने खोला कॉलोनाइजर के खिलाफ मोर्चाविशाल परमार बने मिस्टर चंडीगढ़: रीटा देवी ने जीता मिस चंडीगढ़ का खिताब एक भारत—श्रेष्ठ भारत पर चित्र प्रदर्शनी मनसा देवी मंदिर परिसर में आयोजित
पंजाब

स्कूलों में खाली पड़े पदों की भर्ती प्रक्रिया शुरू करे सरकार: आप

January 24, 2020 10:10 AM

चंडीगड़, फेस2न्यूज:
आम आदमी पार्टी पंजाब ने कैप्टन अमरिन्दर सिंह सरकार से मांग की है कि राज्य के सरकारी स्कूलों में 27 हजार से अधिक खाली पड़े पदों पर भर्ती प्रक्रिया तुरंत शुरू किया जाए, जिससे गरीबों, दलितों समेत आम परिवारों से सम्बन्धित और सरकारी स्कूलों पर निर्भर बच्चे अच्छी शिक्षा हासिल कर सकें।
‘आप’ द्वारा जारी बयान में पार्टी की कोर समिति के चेयरमैन और विधायक प्रिंसीपल बुद्ध राम और विपक्ष की उप नेता बीबी सरबजीत कौर माणूंके ने कहा कि पंजाब में लगभग 70 हजार ईटीटी और बी एड -टैट पास की योग्यता रखने वाले अध्यापक बेरोजगार हैं, जो पिछली बादल सरकार के समय से आज तक नौकरी के लिए संघर्ष कर रहे हैं। दूसरी तरफ पंजाब के सरकारी स्कूलों में 27 हजार से अधिक ईटीटी और बी.एड. के पद खाली पड़ें हैं। जिस का क्षतिपूर्ति सरकारी स्कूलों में पढ़ते आम परिवारों के बच्चों को भुगतना पड़ रहा है।
प्रिंसीपल ने कहा कि घर-घर सरकारी नौकरी के वायदे से सत्ता में आई कैप्टन सरकार खाली पदों के लिए योग्य उम्मीदवारों के साथ भद्दा मजाक कर रही है। प्रिंसीपल बुद्ध राम ने कहा कि 15000 से अधिक योग्य ईटीटी अध्यापकों के लिए सिर्फ 500 पदों को मंजूरी इस बात का सबूत है, जबकि सरकारी स्कूलों में ईटीटी के 12000 से अधिक पद खाली पड़े हैं। यही सलूक बी एड टैट पास अध्यापकों के साथ किया जा रहा है, जो पिछले 4 महीने से नौकरियों के लिए पक्का मोर्चा लगाए बैठे हैं।
विधायका माणूंके ने कहा कि एक तरफ कैप्टन सरकार सरकारी स्कूलों को जरुरी अध्यापक और दूसरा स्टाफ न दे कर एक साजिश के अंतर्गत गरीब, दलितों और आम घरों के बच्चों को अच्छी शिक्षा से वंचित रख रही है, दूसरी तरफ हजारों की संख्या में एकसुर और एकजुट संघर्ष कर रहे योग्य अध्यापकों के लिए बहुत कम संख्या में असामियां निकाल कर बेरोजगार अध्यापकों के संघर्ष में दरार डालने का यत्न कर रही है। जो उस सरकार को बिल्कुल नहीं अच्छा लगता, जिस ने नौजवानों के साथ नौकरियों का लिखित वायदा किया हो।
‘आप’ विधायकों ने अध्यापकों समेत बाकी सरकारी नौकरियों के लिए उम्र की सीमा भी 37 साल से बढ़ा कर 42 साल करने की मांग की।

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
 
और पंजाब ख़बरें
दृष्टि पंजाब ने 23 विद्यार्थी किए 11.50 लाख के अवार्ड से सम्मानित मूलभूत सुविधाएं न मिलने को लेकर शिवालिक निवासियों ने खोला कॉलोनाइजर के खिलाफ मोर्चा अवैध पुल व माईनिंग के खिलाफ विभाग ने दी पुलिस को शिकायत, पुलिस की जांच शुरु सर्वहितकारी विद्या मंदिर में वार्षिक कार्यक्रम सम्पन्न जेलों में सी.सी.टी.वी. कैमरे, करंट वाली तार लगाने व अलग ख़ुफिय़ा विंग सहित कई फ़ैसलों की मंजूरी सरकारी संस्थानों के साईन बोर्ड, सडक़ों के मील पत्थर पंजाबी में लिखे जाना अनिवार्य: बाजवा हाईकोर्ट के आदेशों पर 100 मीटर क्षेत्र में 13 गोदामों पर चला पीला पंजा उपभोक्ता फोर्म के स्टाफ को क्यों ज्वाइन नहीं करवा रही सरकार?: चीमा ‘आप’ विधायका रूबी ने उठाया असुरक्षित स्कूलों का मामला चोरों ने बंद घर में लाखों की नगदी व गहनों पर किया हाथ साफ