ENGLISH HINDI Thursday, April 09, 2020
Follow us on
 
ताज़ा ख़बरें
कोविड -19 खिलाफ जंग में डटे सेहत विभाग के अमले व सफाई कर्मियों को दिया गार्ड आफ ऑनर15000 लोगों को होम क्वारंटीन के निर्देशपुलिस द्वारा फेसबुक पर अपमानजनक और आपत्तिजनक टिप्पणी करने वाला गिरफ़्तारहोम क्वारंटीन की उल्लंघना करने पर एक के खिलाफ एफआईआर: डीसीडेराबस्सी में कोरोना पॉजिटिव के चार और मामले, ढिल्लों की रिपोर्ट नेगेटिव14 अप्रैल के बाद कफ्र्यू को और आगे बढ़ाने की रिपोर्टों को रद्द कियाप्रधानमंत्री श्री मोदी ने राजनीतिक दलों के नेताओं के साथ किया विचार-विमर्शकोविड-19 के मद्देनजर जरूरतमंदों में वितरण हेतु केंद्रीय भंडार द्वारा निर्मित 2200 से ज्‍यादा आवश्‍यक किट्स सौंपी
हिमाचल प्रदेश

भाजपा ने ज्वालामुखी के लोगों को विकास व वोट के नाम पर छला: संजय रतन

February 19, 2020 06:18 PM

धर्मशाला (विजयेन्दर शर्मा)

ज्वालामुखी के पूर्व विधायक संजय रतन ने आरोप लगाया कि भाजपा ने ज्वालामुखी के लोगों को विकास व वोट के नाम पर छला है। विधानसभा चुनावों में भाजपा ने लोगों को गुमराह कर वोट तो हासिल कर लिये,लेकिन जो वायदे चुनावों में किये गये,उन्हें पूरा करने के बजाये अब ठेंगा दिया।

ज्वालामुखी में चल रहे कई विकास कार्य बंद करवा दिये गये है। जो कि एक गलत परंपरा है। इलाके की सडक़ें बदहाल है। पेयजल योजनाओं के भी बुरे हाल है। उन पर ध्यान नहीं दिया जा रहा। ईमानदारी का चोला पहनने वाले विधायक अपने रिशतेदारों को नियम कायदों को ताक पर रख कर ठेके दिलवाने के लिये अफसरों पर दवाब डाल रहे हैं। धवाला जिस तरीके से सरकारी कर्मचारियों को डराने धमकाने की राजनिति कर रहे हैं। वह गलत है।

    यहां पत्रकारों को संबोधित करते हुये पूर्व विधायक ने कहा कि 2 साल के कार्यकाल के दौरान स्थानीय विधायक रमेश धवाला एक भी पैसा ज्वालामुखी के विकास के लिये लाने में कामयाब नहीं हो पाये हैं। जिससे लोगों अपने आपको ठगा सा महसूस कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि धवाला जो आजकल उद्घाटन कर रहे हैं,उन्हें कांग्रेस राज में ही स्वीकृत करवाया गया और धन भी मुहैया करवाया गया। भाजपा सरकार बनने के 2 साल बाद अब तक ज्वालामुखी में विकास का कोई काम नहीं हो रहा।

उन्होंने आरोप लगाया कि कांग्रेस शासनकाल में शुरू हुए विकास कार्यों को रोका जा रहा है। ज्वालामुखी में चल रहे कई विकास कार्य बंद करवा दिये गये है। जो कि एक गलत परंपरा है। इलाके की सडक़ें बदहाल है। पेयजल योजनाओं के भी बुरे हाल है। उन पर ध्यान नहीं दिया जा रहा। ईमानदारी का चोला पहनने वाले विधायक अपने रिशतेदारों को नियम कायदों को ताक पर रख कर ठेके दिलवाने के लिये अफसरों पर दवाब डाल रहे हैं। धवाला जिस तरीके से सरकारी कर्मचारियों को डराने धमकाने की राजनिति कर रहे हैं। वह गलत है।

संजय रतन ने कहा कि कांग्रेस शासनकाल में खुंडियां में एक सप्ताह के तीन दिन के लिये ज्वालामुखी के एसडीएम को वहां बिठाने की योजना थी। ताकि चंगर के लोगों को उनके घर द्धार प्रशासन की सुविधा मिलती। लेकिन नई सरकार बनने के बाद यह सब ठंडे बस्ते में डाल दिया गया है। उन्होंने प्रदेश सरकार से ज्वालामुखी के एसडीएम को तीन दिन के लिये भेजने की व्यवस्था करने की मांग की है। ताकि दूर दराज के लोगों के नाम उनके घरों के पास आसानी से हो सकें। उन्होंने कहा कि सिहारेबाला से लेकर खुंडियां तक के लोग रोजाना अपना काम करवाने के लिये ज्वालामुखी नहीं आ सकते। उनके लिये खुंडियां में ही प्रशासनिक बंदोबस्त होना चाहिए।

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
 
और हिमाचल प्रदेश ख़बरें
15000 लोगों को होम क्वारंटीन के निर्देश होम क्वारंटीन की उल्लंघना करने पर एक के खिलाफ एफआईआर: डीसी तबलीगी जमात के कोरोना संक्रमित व्यक्तियों के नजदीकी लोगों का पता लगाने निर्देश बीज, खाद तथा कीटनाशक दवाइयों की दुकानें भी खुलेंगी सार्वजनिक स्थानों पर एक मीटर की दूरी नहीं तो होगी एफआईआर कोरोना से जंग में जनप्रतिनिधियों के वेतन भत्ते में कटौती स्वागत योग्य कदम एक्टिव केस फाईंडिंग अभियान के तहत 23 लाख व्यक्तियों की स्वास्थ्य जानकारी प्राप्त शहीद बालकृष्ण का पूरे सैन्य सम्मान के साथ अंतिम संस्कार, मुख्य मंत्री जयराम ठाकुर ने शोक जताया, गोविंद सिंह ठाकुर ने दी श्रद्धांजलि मीडिया में कोविड-19 बारे अप्रमाणिक समाचारों को रोकने का आग्रह देश के करोड़ों देशवासी लॉकडाउन का पालन कर देश को बचाने में लगे हैं