ENGLISH HINDI Sunday, July 12, 2020
Follow us on
 
राष्ट्रीय

पूर्व CIC हबीब उल्लाह ने सुप्रीम कोर्ट में कहा, शाहीन बाग शांतिपूर्ण सभा का संगम

February 24, 2020 12:14 PM

चंडीगढ़, संजय मिश्रा:
पूर्व CIC वजाहत हबीब उल्लाह ने शाहीन बाग का दौरा करने और साइट पर प्रदर्शनकारियों के साथ बातचीत करने के बाद सुप्रीम कोर्ट में एक हलफनामा दायर किया है। हबीब उल्लाह ने विरोध स्थल पर विभिन्न धर्मों के संगम और शांतिपूर्ण सभा में प्रदर्शनकारियों के बीच मजबूत बंधन को दर्शाया है, जो सीएए-एनआरसी-एनपीआर का विरोध करने के इरादे के उद्देश्य के लिए एकजुट हुए हैं। "साइट पर महिलाओं में छोटे बच्चों के साथ बूढ़े, मध्यम आयु वर्ग के और युवा शामिल हैं। यह विरोध सभा शांतिपूर्ण है।" यह देखते हुए कि धरना स्थल पर कुछ महिला प्रदर्शनकारियों ने कुछ पहलुओं को अदालत के सामने लाने का अनुरोध किया है,
हबीब उल्लाह की रिपोर्ट में कहा गया है कि
1. CAA-NRC-NPR के खिलाफ विरोध प्रदर्शन शांतिपूर्ण असंतोष व्यक्त करने का एक तरीका है, यह उस कानून का विरोध है, जिसने गरीबों और वंचितों के दिलों में डर पैदा किया है।
2. प्रदर्शनकारियों ने सीएए-एनआरसी-एनपीआर को उनके अस्तित्व के लिए और उनकी आने वाली पीढ़ियों के लिए खतरे के रूप में देखा और हताश होकर इसका विरोध करने के लिए सामने आए।
3. असंतुष्ट होकर आवाज़ उठाने पर उन्हें अपने जीवन पर गंभीर खतरों का सामना करना पड़ा है, लेकिन उन्होंने विरोध जारी रखा क्योंकि उनका अस्तित्व दांव पर है।
4. शाहीन बाग के आसपास के निवासियों या दुकानदारों में से किसी ने भी उनके शांतिपूर्ण विरोध पर आपत्ति नहीं जताई लेकिन वास्तव में इसका कारण प्रदर्शनकारियों के साथ उनकी सहानुभूति है।
5. वे भारत के गौरवशाली नागरिक हैं और उन्हें राजनीतिक दलों द्वारा और मीडिया द्वारा देशद्रोही/ पाकिस्तानी कहे जाने पर गहरा दुख होता है।
6. उन्होंने कहा कि शाहीन बाग में विरोध स्थल उन्हें सुरक्षा देता है क्योंकि यह सभी तरफ से खुला और सुरक्षित है और आपातकालीन वाहनों को यहां तत्काल और सुरक्षित मार्ग दिया जाता है। इसके अलावा, हबीब उल्लाह ने कहा कि उन्होंने व्यक्तिगत रूप से साइट और बैरिकेड्स का निरीक्षण किया। ऐसा करने के दौरान उन्होंने पाया कि समानांतर और आस-पास की सड़कों पर पुलिस ने बैरिकेड लगा दिए थे, हालांकि वे वास्तव में दूरी पर थे और वास्तविक विरोध स्थल के साथ उसका संबंध नहीं था। "जुड़ी हुई सड़कों की इस बैरिकेडिंग से अराजक स्थिति पैदा हुई है" उन्होंने आगे कहा, "यह बेहतर होगा यदि पुलिस से उन व्यक्तियों के नाम प्रकट करने को कहा जाए जो इस क्षेत्र में और यूपी में अन्य सभी समानांतर और जुड़ी हुई सड़कों को अवरुद्ध करने के निर्णय के लिए जिम्मेदार थे।
अपने हलफनामे में हबीब उल्लाह ने कहा है कि भले ही सीएए-एनआरसी-एनपीआर एक ज्वलंत मुद्दा है और देशभर में इसके प्रति असंतोष देखा जा रहा है, सरकार ने प्रदर्शनकारियों की चिंता को समझने के लिए उनके साथ रचनात्मक बातचीत का प्रयास नहीं किया है। रिपोर्ट में कहा गया है, "प्रदर्शनकारियों ने इस बात पर जोर दिया है कि वे प्रतिदिन हमलों के खतरों के डर के साथ विरोध प्रदर्शन में बैठते हैं। उन्होंने कहा कि प्रदर्शकारियों में एक आपातकालीन वाहन को तत्काल सुरक्षित मार्ग दिया और उसे वहां से तुरंत निकाला।
हबीब उल्लाह ने स्पष्ट किया कि पुलिस द्वारा अनावश्यक रूप से विभिन्न सड़कों को अवरुद्ध किया गया है। इनमें कालिंदी कुंज मेट्रो स्टेशन के गोल चक्कर से जामिया, न्यू फ्रेंड्स कॉलोनी आदि जाने वाली मुख्य सड़क के साथ-साथ 40 फीट की सड़क, ओखला के लिए नाकाबंदी, एक्सप्रेस वे पर नोएडा से दिल्ली और फरीदाबाद तक जाने वाली सड़क और यमुना ब्रिज पर अक्षरधाम मंदिर मार्ग शामिल हैं।
सीएए-एनआरसी-एनपीआर के खिलाफ असंतोष की आवाज के रूप में शाहीन बाग विरोध प्रदर्शन दो महीने से अधिक समय से चल रहा है। शाहीन बाग विरोध प्रदर्शन के कारण सड़क नाकाबंदी के समाधान की खोज के उद्देश्य से सुप्रीम कोर्ट ने सोमवार को वरिष्ठ वकील संजय हेगड़े की अध्यक्षता में मध्यस्थता टीम का गठन किया जिसने प्रदर्शनकारियों के साथ बातचीत की।

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
 
और राष्ट्रीय ख़बरें
एम.ई.टी.एल क्षेत्र में जापानी कंपनी टीसुजुकी का बड़ा निवेश विकास दुबे एनकाउंटर— जरूरी या मजबूरी क्या करें अगर आपके खिलाफ कोई झूठी शिकायत दर्ज की गई है भ्रष्ट तंत्र की उपज है विकास दुबे— जो बहुतों का जीवन ही ले डूबे एम्‍स दिल्‍ली ने कोविड क्‍लीनिकल मैनेजमेंट के बारे में राज्‍य के डॉक्‍टरों को टेली-परामर्श देना शुरु किया 25 वर्ष के अविवाहित दिव्यांग पुत्र ईसीएचएस सुविधा प्राप्त करने के पात्र कोविड-19 से लड़ने हेतु ईसीएचएस के तहत प्रति परिवार एक पल्स ऑक्सीमीटर की प्रतिपूर्ति की अनुमति अतिरिक्त खाद्यान्न आवंटन योजना अवधि को जुलाई से पांच माह और बढ़ाकर नवंबर तक की मंजूरी भारत में दीपगृह पर्यटन के अवसरों को विकसित करने का आह्वान महामारी को देखते हुए परीक्षाओं पर यूजीसी संशोधित दिशानिर्देश, अकादमिक कैलेंडर जारी