ENGLISH HINDI Friday, April 03, 2020
Follow us on
 
ताज़ा ख़बरें
मरकज की तब्लीगी जमात से लौटे छह नागरिकों की पहचान: डीसी सोशल डिस्टेंसिंग से ही बचा जा सकता है कोरोना सेनेतागिरी चमका रहे राजसी नेताओं पर नहीं कसा जा रहा शिकंजाकोविड-19 से लड़ने में युद्ध स्तर पर जुटे सीएसआईआर के वैज्ञानिकराष्ट्रपति करेंगे राज्यपालों, लेफ्टिनेंट गवर्नरों एवं राज्यों तथा केंद्र शासित प्रदेश प्रशासकों के साथ कोविड-19 पर चर्चादेश के 410 जिलों में कराया गया राष्‍ट्रीय कोरोना सर्वेक्षण जारीलक्ष्य ज्योतिष संस्थान ने जरूरतमन्द लोगों में भोजन बांटालॉक डाउन: डोर टू डोर गार्बेज कलेक्टर यूनियन ने प्रधानमंत्री को समस्याओं और मांगों से ट्वीट कर करवाया अवगत
हरियाणा

हरियाणा में कांग्रेस केवल भूपेन्द्र हुड्‌डा कांग्रेस, शेष नेताओं का वजूद गायब: मलिक

March 17, 2020 08:06 PM

गुरुग्राम, फेस2न्यूज:
हरियाणा में कांग्रेस केवल भूपेन्द्र हुड्‌डा की बपौती बन गई है। यहां प्रदेशभर में केवल राज्यसभा जाने के लिए केवल दीपेन्द्र हुड्‌डा ही एक चेहरे हैं। जबकि अन्य सभी नेताओं को देखकर लगता है कि उनका वजूद ही नहीं है। यह बात मंगलवार को भाजपा के प्रदेश प्रवक्ता रमन मलिक ने कही। उन्होंने कहा कि राज्यसभा में खाली सीटों का चुनाव क्या आया लगता है कि कांग्रेस के अंदर विखंडीकरण का वायरस घुस गया है। आज कांग्रेस अपने ही पक्षपाती रवैया से जूझ रही है। जहां पिछले सप्ताह ही मध्यप्रदेश के दिग्गज नेता और पूर्व केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया कांग्रेस को छोड़ भाजपा में शामिल हो गए। लेकिन इसके बावजूद भी कांग्रेस के कर्ताधर्ताओं का संगठन पर कोई ध्यान नहीं है।
आज कांग्रेस गुजरात, राजस्थान, पंजाब, हरियाणा, महाराष्ट्र, झारखंड सभी जगह अंतरकलह से जूझ रही है। हरियाणा में कांग्रेस अपना अस्तित्व खो चुकी है और वह मात्र एक परिवार का दल है। विधानसभा चुनाव के दौरान हरियाणा में भूपेंद्र सिंह हुड्डा की चली थी और अन्य नेताओं को साइड कर दिया था। कुलदीप बिश्नोई, शैलजा, रणदीप सुरजेवाला, अजय यादव सब डरे सहमे से बैठे हैं। डॉक्टर अशोक तंवर का किस्सा सभी याद कर रहे हैं और अपने आपको नापतोल रहे हैं। दीपेंद्र हुड्डा को निर्वाचित करके राज्यसभा भेजने के फैसले ने यह स्पष्ट कर दिया है कि भारतीय कांग्रेस नहीं बल्कि हुड्डा कांग्रेस है। इस कांग्रेस के अंदर सिर्फ और सिर्फ भूपेंद्र सिंह हुड्डा की चलती है, यहां तक कि राहुल गांधी की भी नहीं। कांग्रेस के अंदर दो बड़े धड़े हैं, जिनमें एक धड़ा जिसको हम ओल्ड गार्ड कह सकते हैं जो माताजी और बहन जी के साथ है और दूसरा यंग ब्रिगेड है, जो राहुल के साथ है। कुछ समय से यह सामने आया है कि ओल्ड गार्ड और माताजी का दल यंग ब्रिगेड के ऊपर भारी पड़ रहा है। ज्योतिरादित्य सिंधिया की तरह कुछ अन्य नेता भी अपनी योजना के अनुसार प्रतीक्षा कर रहे हैं और जल्द ही अपनी सरकारों या अन्य दीवारों को तोड़कर अपने नए आशियाना ढूंढने निकल पड़ेंगे।

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
 
और हरियाणा ख़बरें
निजी अस्पतालों के डॉक्टरों, नर्सों, पैरामेडिक्स, अन्य कर्मचारियों को भी एक्सग्रेशिया मुआवजे की घोषणा हरियाणा में 70,000 लोगों की क्षमता के 467 राहत शिविर स्थापित हरियाणा सरकार का कोविड-19 फाइनेंशियल सपोर्ट ऐलान प्रवासी मजदूरों की मूवमेंट के दृष्टिगत सभी अंतर्राज्यीय और अंतर-जिला सीमाएं सील करने के निर्देश हरियाणा : कोरोना रिलीफ फंड में 5 करोड़ दिए सूचना, जन संपर्क एवं भाषा विभाग की जिम्मेवारी बढ़ी: मीणा कोरोना के चलते एक महीने तक बिजली विभाग के सभी कैश काउंटर बंद, सारचार्ज से छूट सरसों और गेहूं की खरीद के व्यापक प्रबंधों के निर्देश कोरोना से निपटने को सरकारी एवं गैर-सरकारी संस्थाओं, सामाजिक व धार्मिक संगठनों का सहयोग जरूरी: कोविन्द हरियाणा में तीन महीने की अवधि के लिए नियुक्त होंगे तक्नीकी कर्मचारी