ENGLISH HINDI Tuesday, April 07, 2020
Follow us on
 
राष्ट्रीय

कैट ने वित्त मंत्री की घोषणाओं को सराहा -ब्याज को पूरी तरह समाप्त करने का आग्रह किया

March 25, 2020 04:55 PM

वर्तमान वित्तीय वर्ष को 30 जून तक बढ़ाया जाए 

धर्मशाला(विजयेन्दर शर्मा) 

कन्फेडरेशन ऑफ ऑल इंडिया ट्रेडर्स (कैट ) ने वित्त मंत्री द्वारा आयकर, जीएसटी और अन्य अधिनियमों के तहत विभिन्न वैधानिक अनुपालनों की तारिकोहों को आगे बढ़ाने के लिए की गई विभिन्न घोषणाओं की सराहना की है। कैट ने कहा की इस विस्तारित तारीख की घोषणा ने देश भर के व्यापारियों को एक बड़े बोझ से मुक्त कर दिया है, जिन्हें इस बात का डर था कि जब सब कुछ लॉकडाउन है तो ऐसे में वैधानिक अनुपालन कैसे होगा। यह कदम व्यापारियों के प्रति सरकार की संवेदनशीलता को दर्शाता है !

उल्लेखनीय है कि कुछ दिनों पहले प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी को लिखे पत्र में कैट ने 30 जून, 2020 तक सभी वैधानिक अनुपालन के विस्तार की मांग की थी। 

सरकार को केवल तालाबंदी की अवधि के लिए अपने श्रमिकों को मजदूरी का भुगतान करने के लिए व्यापारियों को सब्सिडी प्रदान करनी चाहिए। नकद करेंसी वायरस के गंभीर कैरियर में से एक है और इसलिए डिजिटल भुगतान को देश भर में प्रेरित करने के लिए एक राष्ट्रीय अभियान है व्यापारिक संगठनों के सहयोग से व्यापारियों से देश भर में चलाया जाना चाहिए ! डिजिटल लेनदेन पर लगाए गए बैंक शुल्क को या तो माफ किए जाने चाहिए या सरकार को सीधे बैंकों को सब्सिडी देनी चाहिए और न ही व्यापारी को और न ही उपभोक्ता पर बैंक शुल्क लगाया जाए । व्यापारियों और उपभोक्ताओं के लिए एक आकर्षक उपहार या कर छूट योजना प्रदान की जा सकती है जो डिजिटल भुगतान को अपनाते हैं

कैट के राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री बी.सी.भरतिया एवं राष्ट्रीय महामंत्री श्री प्रवीन खंडेलवाल ने वित्त मंत्री की घोषणाओं का स्वागत करते हुए कहा कि ब्याज दर कम करने के बजाय विस्तारित अवधि के लिए ब्याज वापस लेना बेहतर होगा। दोनों व्यापारी नेताओं ने वित्त मंत्री को विस्तारित अवधि के लिए ब्याज की पूर्ण छूट देने का आग्रह किया! 

श्री भरतिया और श्री खंडेलवाल दोनों ने कहा कि देश भर में 7 करोड़ व्यापारी बेहद उत्सुकता से सरकार द्वारा घोषित होने वाले आर्थिक पैकेज की प्रतिसजहा कर रहे हैं! कैट ने वित्त मंत्री वर्तमान वित्तीय वर्ष को से 31 मार्च बजाय 30 जून तक आगे बढ़ाने का आग्रह किया ! वित्त मंत्री को दिए अन्य सुझावों में कैट ने कहा की अगले वित्तीय वर्ष को नौ महीने के लिए किया जाए । बैंक ऋणों की वापसी, ईएमआई और अन्य बैंकिंग दायित्वों को 30 सितंबर तक बढ़ाया जाना चाहिए और विस्तारित अवधि पर कोई ब्याज या जुर्माना नहीं वसूला जाना चाहिए।

बिजली, पानी, संपत्ति कर जैसे सभी सरकारी बिलों का भुगतान 30 सितंबर, 2020 तक स्थगित कर दिया जाना चाहिए और सेवाओं के ऐसे बिल में 50% का डिस्काउंट दिया जाए ! कर्मचारियों की भविष्य निधि में उनके 50 प्रतिशत हिस्से को आगामी छह महीने के लिए सरकार द्वारा वाहन किया जाए ! देश की सप्लाई चेन को सुचारू रूप से चलाने के लिए व्यापारियों को.रियायती ब्याज दर पर कोरोना कैश लोन दिया जाए ! नॉन बैंकिंग फाइनेंस कंपनियां और माइक्रो फाइनेंस इंस्टीट्यूशन को आर्थिक रूप से मजबूत व्यापारियों को रियायती दर पर ऋण देने के लिए प्रोत्साहित किया जाए ! किसी भी व्यापारी के खाते को एनपीए घोषित नहीं किया जाए! 

श्री भरतिया और श्री खंडेलवाल ने वित्त मंत्री से आगे आग्रह किया कि सरकार को केवल तालाबंदी की अवधि के लिए अपने श्रमिकों को मजदूरी का भुगतान करने के लिए व्यापारियों को सब्सिडी प्रदान करनी चाहिए। नकद करेंसी वायरस के गंभीर कैरियर में से एक है और इसलिए डिजिटल भुगतान को देश भर में प्रेरित करने के लिए एक राष्ट्रीय अभियान है व्यापारिक संगठनों के सहयोग से व्यापारियों से देश भर में चलाया जाना चाहिए ! डिजिटल लेनदेन पर लगाए गए बैंक शुल्क को या तो माफ किए जाने चाहिए या सरकार को सीधे बैंकों को सब्सिडी देनी चाहिए और न ही व्यापारी को और न ही उपभोक्ता पर बैंक शुल्क लगाया जाए । व्यापारियों और उपभोक्ताओं के लिए एक आकर्षक उपहार या कर छूट योजना प्रदान की जा सकती है जो डिजिटल भुगतान को अपनाते हैं

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
 
और राष्ट्रीय ख़बरें
नौसेना दक्षिणी कमान ने गैर चिकित्‍साकर्मियों के लिए प्रशिक्षण कैप्‍सूल तैयार किया रक्षा पीएसयू, ओएफबी हुए कोविड-19 से लड़ाई में शामिल जनऔषधि केंद्र निभा रहे है लोगों को दवाइयां उपलब्ध कराने में महत्वपूर्ण भूमिका विज्ञानं नहीं आध्यात्म से जीतता भारत ‘कोविड-19’ से निपटने की देशव्यापी तैयारियों की समीक्षा की खेती-किसानी के संबंध में दी गई छूट 5 अप्रैल को 9 बजे बत्तियां बुझाए जाने दौरान ग्रिड की स्थिरता बनाए रखने के लिए पुख्‍ता प्रबंध उपराष्ट्रपति ने राज्यपालों/उप राज्यपालों से कहा कि वे धर्म गुरुओं को भीड़ वाले धार्मिक आयोजन न करने की सलाह दें कोविड-19 से निपटने के लिए देश में चिकित्‍सा आपूर्तियों का कोई अभाव नहीं: गौड़ा कोविड-19 से लड़ने में युद्ध स्तर पर जुटे सीएसआईआर के वैज्ञानिक