ENGLISH HINDI Sunday, July 05, 2020
Follow us on
 
पंजाब

कैदियों व हवालातियों की नहीं है फिक्र, वकीलों ने वीडियो वायरल कर सरकार को चेताया

March 26, 2020 08:44 AM

बरनाला, अखिलेश बंसल:
पंजाब प्रदेश की जेल बैरकों में बड़ी संख्या में कैदी व हवालाती विभिन्न केसों में सजा भुगत रहे हैं। जिनको सेहतमंद रखने के लिए सरकार व पुलिस प्रशासन कोई कदम नहीं उठाया है। सरकारों को चेताने के लिए बठिंडा व बरनाला के दो वकीलों ने वीडियो वायरल की है। बठिंडा के वरिष्ठ वकील रणधीर कौशल एवं बरनाला के युवा वकील करन अवतार कपिल ने सरकार को चेताया है कि देशभर की जेलों में जो कैदी व हवालाती सजा भुगत रहे हैं उनमें बहुत से सजायाफ्ता कैदी हैं और काफी संख्या में ट्रायल के आधार पर हवालाती बंद हैं। आने वाले दिनों में उनमें एक भी केस संक्रमित या संदिग्ध पाया गया तो स्थिती गंभीर हो जाएगी।
समय रहते जेलों को करना होगा संक्रमण से दूर:
पंजाब राज्य की बात करें तो पंजाब की जेलों में कैदियों व हवालातियों की भरमार है। जरूरत से ज्यादा बैरकें भरी पड़ी हैं। जेलों को सैनेटाईज करना तो दूर की बात कैदियों व हवालातियों तक के लिए अभी तक सैनेटाईजर व मास्क का प्रबंध तक नहीं किया जा सका है। उधर पंजाब सरकार ने तो उनके साथ परिवारों से मुलाकातें करने पर पाबंदी लगा रखी है। कोरोना वायरस की गति को देखते यदि देश की किसी भी जेल में एक भी कैदी या हवालाती संक्रमित हो गया तो जेलों की स्थिती संभालना मुशिकल हो जाएगी। कैदी या हवालाती अपने अपने घरों में रहेंगे तो उनकी वहां बेहतरीन ढंग से देखभाल हो सकेगी।
जेल अधिकारी व मंत्री खामोश:
कोरोना महामारी के चलते कैदियों व हवालातियों की सुरक्षा के लिए और उन्हें किसी तरह की बीमारी से दूर रखने के लिए देश की किसी जेल के किसी अधिकारी या किसी राज्य के जेल मंत्री का ब्यान नहीं आया है कि उनके द्वारा क्या कदम उठाए जा रहे हैं। इसके अतिरिक्त जेलमंत्रियों एवं जेल अधिकारियों को इस बात का ध्यान रखना होगा कि जिन लोगों के खिलाफ गत दिनों नए मामले दर्ज हुए हैं जिनकी गिरफ्तारी अभी बाकी है उनके बारे में वे क्या विचार बना रहे हैं।
पुलिस/प्रशासन/सेहत अमला पूरी तरह से व्यस्त:
गौरतलब है कि कोरोना से बचाव के लिए देशभर में शुरु हुए कर्फयू के बाद पुलिस की अधिकांश नफरी पैनी नजर रखने चौबीस घंटे ड्यूटियां दे रही है। गरीबों के लिए भोजन प्रबंध कर रही है। संभव है कि जेलों का अमला भी सुरक्षा में लगाया होगा। अभी तक जेलों से कैदियों व हवालातियों की सेहतयाबी का डेटा भी सामने नहीं लाया जा सका है। देश में जेलों से बाहर की स्थिती यह है कि जो लोग कोरोना संक्रमित पाए गए हैं या संदिग्ध हैं सेहत विभाग उनका ईलाज तक नहीं कर पाया है, यहां तक कि सेहत विभाग अमला अभी तक किसी भी शहर या किसी गांव को मास्क व सैनेटाईजर उपलब्ध नहीं करवा सका है।

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें