ENGLISH HINDI Sunday, June 07, 2020
Follow us on
 
ताज़ा ख़बरें
निजी तथा सार्वजनिक सेवा वाहनों को शर्तों सहित सुबह 5 से रात 9 बजे तक चलने की आज्ञाधार्मिक स्थानों, होटलज, रैस्टोरैंटस और शॉपिंग मॉलज़ को फिर खोलने सम्बन्धी दिशा-निर्देश जारी'जड़ों से जुड़ें' नामक मिशन तहत स्वदेशी अपनाने के जागरूकता फैलाने का संकल्पक्वारंटीन लोगों के लिए योग तथा मेडिटेशन शुरूखबरों के पीछे की खबर: सोनाली— सुल्तान थप्पड़ कांड— जनता में उठते कई सवालजानवरों के दाहगृह प्लांट के विरोध में युवा कांग्रेस सडक़ परजिम खोलने की इजाजत मिले, डेराबस्सी में नॉर्थ इंडिया बॉडी बिल्डिंग एसोसिएशन ने की मांगवजन कम करना सबसे आसान काम है अगर सही तरीके से किया जाए : हनान चौधरी
पंजाब

कोरोना : पहले कैदियों को रिहा किया, अब नशामुक्ति केंद्रों से नशेडिय़ों को भेजा जाएगा घर

March 31, 2020 09:23 PM

बरनाला, अखिलेश बंसल/करन अवतार:
कोरोना वायरस के खौफ ने सरकारों को हर तरह के एतिहात बरतने के लिए विवश कर दिया है। जिसके चलते पहले राज्यभर की जेलों में सजा भुगत रहे कैदियों को पेरोल पर घर भेजने का फैसला लिया अब नशामुक्ति केंद्रों को भी लगभग खाली करने की तैयारी कर ली है। बताया गया है कि नशामुक्ति केंद्रों में उपचाराधीन जो पंजीकृत नशेड़ी हैं उन्हें केंद्रों से घर लेजाने की अनुमति दी जा रही है और उन्हें दो माह की दवा भी एडवांस में दी जा रही है।

डा. गुरिन्दरबीर सिंह ने बताया कि करोना वायरस के इस चुणौती भरे समय के दौरान नशापीडित मरीजों के लिए पंजाब सरकार ने राहत दी है। सरकार नेे ओट क्लीनिकों, सरकारी नशा मुक्ति केंद्रों, और लायसेंसशुदा निजी नशा मुक्ति केंद्रों को मानसिक रोगों के डाक्टर द्वारा मुलांकन करवाने के बाद पंजीकृत मरीजों को घर लेजाने की अनुमति दी है। इसके साथ ही मरीजों को दो सप्ताह की दवा देने के साथ भेजने को कहा है। उन्होंने बताया कि सरकार ने कफ्र्यू के दौरान नशा मरीजों की देखभाल करने के लिए पहलकदमी की है। 

  

डाक्टर द्वारा मुलांकन करवाने के बाद घर जाने की अनुमति:
नशामुक्ति केंद्रों से नशेडिय़ों को घर भेजने के बारे में जानकारी देते सिविल सर्जन बरनाला डा. गुरिन्दरबीर सिंह ने बताया कि करोना वायरस के इस चुणौती भरे समय के दौरान नशापीडित मरीजों के लिए पंजाब सरकार ने राहत दी है। सरकार नेे ओट क्लीनिकों, सरकारी नशा मुक्ति केंद्रों, और लायसेंसशुदा निजी नशा मुक्ति केंद्रों को मानसिक रोगों के डाक्टर द्वारा मुलांकन करवाने के बाद पंजीकृत मरीजों को घर लेजाने की अनुमति दी है। इसके साथ ही मरीजों को दो सप्ताह की दवा देने के साथ भेजने को कहा है। उन्होंने बताया कि सरकार ने कफ्र्यू के दौरान नशा मरीजों की देखभाल करने के लिए पहलकदमी की है। जिसका मुख्य मकसद नशामुक्ति केन्द्रों में जेरे ईलाज नशा मरीजों (नशेडिय़ों) को कोविड-19 के फैलाव एवं संक्रमित होने से दूर रखना है। उन्होंने कहा कि ऐसे केंद्रों पर तैनात स्टाफ को यह भी निर्देश दिए हैं कि मरीजों को कोरोना के लक्षणों (तेज बुखार, खुश्क खांसी और सांस लेने में तकलीफ) के बारे में जागरूक करना है। आपातकाल स्थिति में सेहत विभाग के टोलफ्री नंबर 104 पर संपर्क करने को कहा गया है।
41 कैदियों को किया जा चुका रिहा:
इससे पहले जिला की माननीय अदालत के चीफ जुडीशियल मजिस्ट्रेट द्वारा जिला व सेशनज जज वरिंदर अग्रवाल के दिशा-निर्देश पर बरनाला जेल से 41 कैदियों को पेरोल पर रिहा किया जा चुका है। जिनमें 26 कैदी बाहरी जिलों से संबंधित है। कैदियों को रिहा करने का कारण भी कैदियों को कोरोना वायरस से दूर रखना है।

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
 
और पंजाब ख़बरें
निजी तथा सार्वजनिक सेवा वाहनों को शर्तों सहित सुबह 5 से रात 9 बजे तक चलने की आज्ञा धार्मिक स्थानों, होटलज, रैस्टोरैंटस और शॉपिंग मॉलज़ को फिर खोलने सम्बन्धी दिशा-निर्देश जारी 'जड़ों से जुड़ें' नामक मिशन तहत स्वदेशी अपनाने के जागरूकता फैलाने का संकल्प जिम खोलने की इजाजत मिले, डेराबस्सी में नॉर्थ इंडिया बॉडी बिल्डिंग एसोसिएशन ने की मांग पंजाब में भी होंगी गुरुकुल शिक्षा केंद्रों की स्थापना शराब के ग़ैर-कानूनी कारोबार और तस्करी जांच के लिए विशेष जांच टीम के गठन का ऐलान माह तक 6 एमसीएच अस्पताल कार्यशील कर दिए जाएंगे: सिद्धू संगरूर के कैप्टन करम सिंह नगर के लोग कर सकेंगे आधुनिक मशीनों से कसरत पकड़ा गया नशा तस्कर निकला कोरोना संक्रमित, पुलिस में मचा हड़कंप कैमिकल फैक्ट्री में बिना मंजूरी खड़ी कर दी तीन मंजिला बिल्डिंग