ENGLISH HINDI Saturday, May 30, 2020
Follow us on
 
ताज़ा ख़बरें
पंजाब विजीलैंस ब्यूरो द्वारा 8 अधिकारियों और कर्मचारियों को दी गई सामान्य विदाईपरिवहन साधनों द्वारा पंजाब में आने वालों के लिए दिशा-निर्देश जारीपंजाब स्कूल शिक्षा बोर्ड ने घोषित किया पाँचवी, आठवीं और दसवीं कक्षा का परिणामपंजाब के ब्राह्मणों ने की अल्पसंख्यक में शामिल करने की मांगकोरोना से युद्ध में रणनीति और वैज्ञानिक दृष्टिकोण का अभावलाॅकडाउन में विभिन्न हेल्पलाइन नम्बरों से लोगों को मिली राहतशिक्षा विभाग में ठेके पर काम करते 496 कर्मियों के कार्यकाल में साल की वृद्धि को मंज़ूरीअध्यापक के 12 वर्षीय गुमशुदा लड़के की वापसी के लिए उपायुक्त ने लखनऊ भेजी कार, दो महीने बाद परिवार से मिला बच्चा
राष्ट्रीय

जनऔषधि केंद्र निभा रहे है लोगों को दवाइयां उपलब्ध कराने में महत्वपूर्ण भूमिका

April 05, 2020 08:30 PM

नई दिल्ली, फेस2न्यूज:
कोरोना संक्रमण से उत्पन्न हुई विषम परिस्थितियों में भी प्रधानमंत्री भारतीय जनऔषधि परियोजना के अंतर्गत देश भर में चल रहे 6300 से अधिक जनऔषधि केंद्र अपने अपने एरिया के लोगों को जरूरी दवाइयां उपलब्ध करवा रहे है, फॉर्मिसिस्टों को अब लोगों ने "स्वास्थ्य के सिपाही" नाम दे दिया गया है जो बुजुर्ग व गम्भीर बीमार पेसेंट्स को घर पर भी दवाइयाँ पहुँचा रहे हैं।
हाल ही में हमारे एक जनऔषधि केंद्र के "स्वास्थ्य के सिपाही" ने अपने अनुभव को साझा करते हुए बताया कि मेरे क्षेत्र से ही मेरे मोबाइल पर एक कॉल आया और उधर से बडी ही करुण आवाज में एक वृद्ध महिला बोली कि बेटा मैं 80 साल की हूँ और मैं और मेरे पति के अलावा मेरे साथ कोई नहीं है। मेरी दवाइयाँ खत्म हो गई है, अगर आज मेरी दवाइयाँ मुझे नही मिली तो बहुत मुश्किल हो जाएगी। बेटा क्या तुम पहाड़िया, वाराणसी प्रधानमंत्री भारतीय जनऔषधि केन्द्र से बोल रहे हो। "स्वास्थ्य के सिपाही" ने जवाब में बोलै हाँ माता जी मैं जनऔषधि केंद्र से ही बोल रहा हूँ। वृद्ध महिला ने करुण आवाज में बोला की क्या आप इस मुसीबत में हमारी सहायता करोगे? फिर क्या था, न आँखों से आँसू रुके और न ही कदम रुके और निकल पड़ा में अपनी इस असहाय माँ की सेवा करने। और उस समय से ले कर हर रोज़ बुजुर्गों को घर तक दवाइयाँ पहुंचाने का सिलसिला रुका ही नहीँ।
देश के हर हिस्से में दवाइयां पहुंचने के लिए एक मजबूत व्यवस्था की गयी है जिसके लिए एक डब्लू एच ओ गाइडलाइन्स पर आधारित केंद्रीय गोदाम जो की गुरुग्राम में एवं दो क्षेत्रीय गोदाम जो की गुवाहाटी एवं चेन्नई में उपस्थित हैं। इसके अलावा 50 डिस्ट्रीब्यूटर की भी नियुक्ति की गयी गई जहा से देश भर के जन औषधि केंद्रों को दवाइयां मुहैया कराई जा रहे हैं। केंद्रीय गोदाम, क्षेत्रीय गोदाम, डिस्ट्रीब्यूटर एवं जन औषधि केंद्रों को पूरी तरह से SAP आधारित सॉफ्टवेयर से जोड़ा गया है साथ ही साथ सभी केन्द्रो पर पॉइंट ऑफ़ सेल सॉफ्टवेयर एप्लीकेशन भी लगाया गया है जिससे दवाइयों की आपूर्ति ठीक तरह से हो सके एवं देश के किसी भी केंद्र पर दवाइयों की कमी न हो।
प्रधानमंत्री भारतीय जनऔषधि परियोजना के द्वारा जन औषधि सुगम मोबाइल एप्लीकेशन को लॉन्च किया गया है जिसमें सभी ऑप्शन्स को बहुत ही यूजर फ्रेंडली बनाया गया है। इस मोबाइल एप्लीकेशन के द्वारा अब लोग अपने मोबाइल पर ही अपने नजदीकी जन औषधि केंद्र का पता, लोकेशन, दवाइयों की उपलब्धता, दवाइयों पर बचत, इत्यादी के बारें में घर बैठे ही जान सकते हैं। जन औषधि सुगम मोबाइल एप्लीकेशन को गूगल प्ले स्टोर पर एवं एप्पल स्टोर के माध्यम से फ्री में डाउनलोड किया जा सकता है।
प्रधानमंत्री भारतीय जनऔषधि परियोजना के द्वारा सोशल मीडिया के जरिये कोरोना संक्रमण से बचाव जैसे की सामाजिक दूरी, बच्चों और वृद्ध लोगों का ज्यादा ख्याल, अपने शरीर की प्रतिरोधक क्षमता कैसे बढ़ाएं इत्यादि अनेकों महत्वपूर्ण जानकारियां भी समय समय पर लोगों को जागरूक करने की लिए दी जा रही हैं। ये जानकारियां फेसबुक, टवीटर, इंस्टाग्राम इत्यादि पर @pmbjpbppi को फॉलो या लाइक करके प्राप्त की जा सकती हैं।

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
 
और राष्ट्रीय ख़बरें
कोरोना से युद्ध में रणनीति और वैज्ञानिक दृष्टिकोण का अभाव सीआईपीईटी केंद्रों ने कोरोना से निपटने के लिए सुरक्षात्मक उपकरण के रूप में फेस शील्ड विकसित किया एन.एस.यू.आई. ने छात्रों को एक-बार छूट देकर उत्तीर्ण करने का किया आग्रह एम्स ऋषिकेश में कोविड पॉजिटिव चार अन्य मामले सामने आए एम्स ऋषिकेश में कोविड पॉजिटिव के पांच नए मामले सामने आए उत्तराखंड में कोरोना संक्रमित लोगों का आंकड़ा 317 पहुंचा, सभी 13 जिले ऑरेंज जोन में चक्रवाती तूफान ‘अम्फान’ के बाद बंगाल में एनडीआरएफ की 10 अतिरिक्त टीमें तैनात की गई "जैव विविधता भारतीय संस्कृति का अनिवार्य हिस्सा है": शेखावत कोविड—19 परीक्षण में 9 पॉजिटिव जीवन चलाने के लिए जीवन को ही दांव पर लगा दिया गया