ENGLISH HINDI Saturday, June 06, 2020
Follow us on
 
राष्ट्रीय

रक्षा पीएसयू, ओएफबी हुए कोविड-19 से लड़ाई में शामिल

April 05, 2020 08:35 PM

नई दिल्ली, फेस2न्यूज:
रक्षा मंत्रालय के रक्षा सार्वजनिक क्षेत्र उपक्रम (डीपीएसयू) और आर्डनेंस फैक्टरी बोर्ड (ओएफबी) कोविड-19 के खिलाफ राष्ट्रीय लड़ाई को मजबूती देने के लिए शामिल हो गए हैं।
चिकित्सा सुविधाएं ओएफबी ने देश के छह राज्यों में फैले 10 अस्पतालों में 280 आईसोलेशन बेडों की योजना बनाई है। ये वेहिकल फैक्टरी जबलपुर, धातु एवं इस्पातत फैक्टरी ईशापुर (पश्चिम बंगाल), गन एवं शेल फैक्टरी कोसिपुर (पश्चिम बंगाल), एमुनिशन फैक्टरी खडकी (महाराष्ट्र), आर्डनेंस फैक्टरी कानपुर (उत्तर प्रदेश), आर्डनेंस फैक्टरी खमरिया, हेवी वेहीकल फैक्टरी अवदी (तमिलनाडु) एवं आर्डनेंस फैक्टरी मेडक (तेलंगाना) में स्थित हैं।
हिन्दुस्तान एयरोनाटिक्स लिमिटेड (एचएएल) बंगलुरु में इंटेसिंव केयर यूनिट में तीन बेड एवं वार्डों में 30 वार्ड के साथ आईसोलेशन सुविधा है। इसके अतिरिक्त, 30 कमरों वाला एक भवन तैयार किया गया है। कुल मिलाकर, एचएएल सुविधा केंद्र में 93 लोगों को समायोजित किया जा सकता है।
ओएफबी ने अल्प सूचना पर अरुणाचल प्रदेश सरकार के लिए कोविड-19 मरीजों केे लिए 50 विशिष्ट तंबुओं का निर्माण किया है और उन्हें वहां भेज दिया है।
विश्व स्वास्थ्य संगठन के मानकों के अनुरूप ओएफबी की फैक्टरियों में हैंड सैनिटाइजरों का विकास और उत्पादन आरंभ कर दिया गया है। भारत सरकार द्वारा केंद्रीकृत खरीद के लिए नियुक्त नोडल एजेंसी एचएलएल लाइफकेयर लिमिटेड (एचएलएल) से उन्होंने 13,000 लीटरों की आवश्यकता प्राप्त की है। 1,500 लीटर सैनिटाइजरों की पहली खेप 31 मार्च, 2020 को कोर्डाइट फैक्टरी अरुवनकाडु (तमिलनाडु) से भेजा गया। दो और फैक्टरियों नामतः आर्डनेंस फैक्टरी (ओएफ) इटारसी (मध्य प्रदेश) और ओएफ भंडारा (महाराष्ट्र) बल्क उत्पादन के साथ तैयार हैं। एक साथ मिल कर उनकी क्षमता राष्ट्रीय आवश्यकता की पूर्ति करने के लिए प्रति दिन 3000 लीटर उत्पादित करने की है।
प्रोटेक्टिव इक्विपमेंट: कवरआल और मास्क:
कानपुर, शाहजहांपुर, हजरतपुर (फिरोजाबाद) एवं चेन्नई स्थित आर्डनेंस इक्विपमेंट फैक्टरियां कवरआल और मास्क का विकास करने में व्यस्त हैं। उन्होंने बहुत अल्प सूचना पर इन गारमेंटों के निर्माण के लिए स्पेशल हीट स्केलिंग मशीनों की भी व्यवस्था की है।
फैक्टरियों के बोर्डों ने रक्षा अनुसंधान एवं विकास प्रतिष्ठान, ग्वालियर से आग्रह किया और वे ग्वालियर में परीक्षित कवरआल के पहले नमूने प्राप्त करने में सफल रहे। मास्कों का परीक्षण कोयंबटूर के साउथ इंडिया टेक्स्टाइल रिसर्च एसोसिएशन (एसआईटीआरए) में किया जाना जारी रहेगा। ओएफबी जल्द ही प्रति सप्ताह 5,000 से 6,000 पीस तक कवरआल का बल्क उत्पादन आरंभ कर रहा है। तीन मशीनों का विकास किया गया है जिन्हें कवरआल तथा मास्कों की दक्षता के परीक्षण के लिए एसआईटीआरए द्वारा अनुमोदित कर दिया गया है। इनका उपयोग उत्पादन से लेकर मानकों के रखरखाव में किया जाएगा।
भारत इलेक्ट्रोनिक्स लिमिटेड (बीईएल) ने स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय के आग्रह पर अगले दो महीने के दौरान आईसीयू के लिए 30,000 वेंटिलेटरों के निर्माण एवं आपूर्ति के लिए कदम बढ़ाया है।
इन वेंटिलेटरों की डिजाइन मूल रूप से रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन द्वारा तैयार की गई थी जिसमें मेसर्स एसकैनरी, मैसूर द्वारा सुधार लाया गया था, जिसके साथ बीईएल का गठबंधन है। आर्डनेंस फैक्टरी, मेडक ने हैदराबाद में विभिन्न अस्पतालों में वेंटिलेटरों की मरम्मत आरंभ की है।

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
 
और राष्ट्रीय ख़बरें
मास्क पहनने का औचित्य 'दुखद: समाचार एवं श्रद्धासुमन' जेसिका लाल हत्याकांड: जेल में अच्छे व्यवहार के चलते सिद्धार्थ शर्मा उर्फ मनु रिहा मॉनसून ऋतु (जून–सितम्बर) की वर्षा दीर्घावधि औसत के 96 से 104 प्रतिशत होने की संभावना अनलॉक-1 के नाम से देश में 30 जून तक लॉकडाउन 5 लागू, क्या-क्या खुलेगा, किस पर रहेगी पाबंदी आखिर क्यों नहीं पीएमओ पीएम केयर फंड आरटीआई के दायरे में ? कितनी गहरी हैं सनातन संस्कृति की जड़ें कोरोना से युद्ध में रणनीति और वैज्ञानिक दृष्टिकोण का अभाव सीआईपीईटी केंद्रों ने कोरोना से निपटने के लिए सुरक्षात्मक उपकरण के रूप में फेस शील्ड विकसित किया एन.एस.यू.आई. ने छात्रों को एक-बार छूट देकर उत्तीर्ण करने का किया आग्रह