ENGLISH HINDI Saturday, May 30, 2020
Follow us on
 
ताज़ा ख़बरें
पंजाब विजीलैंस ब्यूरो द्वारा 8 अधिकारियों और कर्मचारियों को दी गई सामान्य विदाईपरिवहन साधनों द्वारा पंजाब में आने वालों के लिए दिशा-निर्देश जारीपंजाब स्कूल शिक्षा बोर्ड ने घोषित किया पाँचवी, आठवीं और दसवीं कक्षा का परिणामपंजाब के ब्राह्मणों ने की अल्पसंख्यक में शामिल करने की मांगकोरोना से युद्ध में रणनीति और वैज्ञानिक दृष्टिकोण का अभावलाॅकडाउन में विभिन्न हेल्पलाइन नम्बरों से लोगों को मिली राहतशिक्षा विभाग में ठेके पर काम करते 496 कर्मियों के कार्यकाल में साल की वृद्धि को मंज़ूरीअध्यापक के 12 वर्षीय गुमशुदा लड़के की वापसी के लिए उपायुक्त ने लखनऊ भेजी कार, दो महीने बाद परिवार से मिला बच्चा
पंजाब

बेलगाम शराब और केबल माफिया को क्यूं नहीं लगाम कस रही कैप्टन सरकार: चीमा

April 06, 2020 05:01 PM

चंडीगड़, फेस2न्यूज:
आम आदमी पार्टी पंजाब ने राज्य में कफ्र्यू के दौरान भी बेलगाम हुए शराब माफिया और केबल माफिया को लेकर कैप्टन अमरिन्दर सिंह सरकार को घेरा है।
‘आप’ द्वारा जारी बयान में विपक्ष के नेता हरपाल चीमा, उप नेता सरबजीत कौर माणूंके और विधायक मीत हेयर ने कहा कि कफ्र्यू के दौरान शराब और केबल माफिया ने अपने-अपने तरीके से आतंक मचा रखा है, परंतु कांग्रेस सरकार सो रही है। जिससे साफ संकेत मिल रहे हैं कि कैप्टन सरकार कोरोनावायरस के कारण मानवता पर आई आपदा के दौरान भी माफिया का साथ नहीं छोड़ रही।
चीमा ने कहा कि सरकार ने कफ्र्यू की स्थिति में शराब की बिक्री या न बिक्री के बारे में कोई भी स्पष्ट नीति या दिशा-निर्देश जारी नहीं किए। शराब के ठेके सील नहीं किए गए और न ही बिक्री के बारे में समय सीमा तय की गई है। जिस कारण सामने से बंद पड़े ठेके चोरी-चोरी शराब की सप्लाई कर रहे है। इसी तरह शराब माफिया के बड़े और प्रभावशाली खिलाडिय़ों (जिनमें सत्ताधारी पक्ष के बड़े नेता शामिल हैं) की तरफ से 2 नंबर में शराब की नाजायज बिक्री धड़ल्ले के साथ करवाई जा रही है।
मीत हेयर ने कहा कि शराब फैक्टरियों से सीधे और दूसरे राज्यों की शराब की नाजायज बिक्री से जहां लोगों को दुगने-चौगुने मूल्य के साथ लूटा जा रहा है, वहीं सरकारी खजाने को भी रोजाना ही करोड़ों रुपए की चपत लग रही है।
बीबी माणूंके ने केबल माफिया पर लगाम कसने की मांग करते बताया कि जब सरकारों ने दिशा-निर्देश जारी कर हर तरह की महीनावार वसूली पर अगले हुक्मों तक रोक लगाई हुई है तो राज्य की एक ही एक केबल कंपनी गांवों और शहर, मोहल्ला स्तर के स्थानीय ऑपरेटरों के गले में अंगूठा देकर वसूली कैसे कर सकती है। माणूंके ने कहा कि इस समय घर बैठे लोगों के लिए टीवी की सूचना प्रदान करता है, वहीं मनोरंजन का भी एक प्रमुख साधन है। इस लिए सरकार केबल कंपनी को वसूली करने से सख्ती के साथ रोके।

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
 
और पंजाब ख़बरें
पंजाब विजीलैंस ब्यूरो द्वारा 8 अधिकारियों और कर्मचारियों को दी गई सामान्य विदाई परिवहन साधनों द्वारा पंजाब में आने वालों के लिए दिशा-निर्देश जारी पंजाब स्कूल शिक्षा बोर्ड ने घोषित किया पाँचवी, आठवीं और दसवीं कक्षा का परिणाम पंजाब के ब्राह्मणों ने की अल्पसंख्यक में शामिल करने की मांग शिक्षा विभाग में ठेके पर काम करते 496 कर्मियों के कार्यकाल में साल की वृद्धि को मंज़ूरी अध्यापक के 12 वर्षीय गुमशुदा लड़के की वापसी के लिए उपायुक्त ने लखनऊ भेजी कार, दो महीने बाद परिवार से मिला बच्चा जुर्माने में भारी वृद्धि: अब सार्वजनिक स्थानों पर मास्क न पहनने पर होगा 500 रुपए का जुर्माना बीज घोटाला: सीबीआई से जांच के डर से राज्यभर के सीइएओ ने बीज की दुकानों पर दौड़ाई टीमें रेलगाडिय़ों से यात्रा करने वालों के लिए दिशा-निर्देश जारी सामाजिक सुरक्षा विभाग में 94 सुपरवाइजऱ पदों के नतीजों का एलान