ENGLISH HINDI Saturday, June 06, 2020
Follow us on
 
राष्ट्रीय

मुकाबले में मरे हिज़बुल कमांडर नायकू के दो साथियों को किया काबू

May 08, 2020 10:44 AM

अमृतसर, फेस2न्यूज:
एक बड़े खुलासे में पंजाब पुलिस ने श्रीनगर (कश्मीर) में बीते दिन मुकाबले में मरे हिज़बुल मुजाहदीन कमांडर, रिआज़ अहमद नायकू के नज़दीकी साथी हिलाल अहमद वागे के दो साथियों की बुधवार को अमृतसर से गिरफ़्तारी से आतंकवादी नायकू के अंतर-राज्ज़ीय संपर्क का पता लगाया है।    

अंतर-राज्ज़ीय, सरहद पार संबंधों को देखते हुये केंद्र ने अगली जांच के लिए एनआईए को दिए निर्देश

अपराधों की गंभीरता और पंजाब के अलावा केस के सरहद पार प्रभावों को देखते केंद्र ने एनआईए को निर्देश दिया है कि वह इस सारी साजि़श का पर्दाफाश करने के लिए इस मामले की और जांच करें जिसके सम्बन्ध जम्मू-कश्मीर के रास्ते से सरहद पार भी हैं।
जि़क्रयोग्य है कि पाबन्दीशुदा आतंकवादी संगठन हिज़बुल मुजाहदीन (एच.एम.) के कमांडर नायकू को बीते दिनों दक्षिणी कश्मीर में सुरक्षा बलों ने मुकाबले में मार दिया था। इससे पहले वागे को 25 अप्रैल को पंजाब पुलिस ने गिरफ़्तार किया था, जिसने बाद में केंद्र और जम्मू कश्मीर सरकार के सामने खुलासा किया था।
डीजीपी दिनकर गुप्ता ने कल हुई गिरफ़्तारियों का विवरण देते हुये बताया कि हिज़बुल के आतंकवादी हिलाल अहमद वागे, जिसको अमृतसर से काबू किया गया था, की खोज की गई थी, जहाँ दोनों रिआज़ अहमद नायकू, कश्मीर वादी में हिज़बुल कमांडर के निर्देशों पर अमृतसर से पैसे इकठ्ठा करने आए थे।
डीजीपी दिनकर गुप्ता ने कहा कि पाकिस्तान की तरफ से राज्य में नशीले पदार्थों और हथियारों की तस्करी की साजि़श का पर्दाफाश करने के साथ-साथ पुलिस ने उनसे 1 किलो हेरोइन समेत 32 लाख रुपए की भारतीय मुद्रा भी ज़ब्त की। उनकी गिरफ़्तारी के समय उनके पास से 20 लाख रुपए नकद बरामद की गई, बाद में बाकी रुपए उनके घरों से ज़ब्त किये गए और फिर अदालत की तरफ से उनको पुलिस रिमांड में भेज दिया गया।
डीजीपी ने बताया कि रणजीत सिंह उर्फ चीता, इकबाल सिंह उर्फ शेरा और श्रवण सिंह के निर्देशों पर बिक्रम सिंह उर्फ विक्की हिलाल अहमद को 29 लाख की नकद राशि देने के लिए एक स्कूटी पर रुपए लेकर आया था।
गिरफ़्तार किये दोनों मुलजिमों की पहचान बिक्रम सिंह उर्फ विक्की पुत्र सकत्तर सिंह निवासी मकान नं. 39 -सी, गुरू अमरदास ऐवीन्यू, अमृतसर और मनिन्दर सिंह उर्फ मनी पुत्र सकत्तर सिंह निवासी मकान नं. 39 -सी, गुरू अमरदास ऐवीन्यू, अमृतसर के तौर पर की गई है।
हिलाल को अमृतसर कमिशनरेट पुलिस की एक अलर्ट टीम ने काबू किया था, जो 25 अप्रैल देर शाम को अमृतसर शहर के मेट्रो मार्ट के नज़दीक एक मोटर साइकिल पर गस्त कर रहा था। थाना सदर, अमृतसर में अवैध गतिविधियां रोकथाम एक्ट 1967 की धाराओंं 10 /11 /13 /17 /18 /20 /21 और एन.डी.पी.एस एक्ट की धारा 21 /61 /85 के अधीन एफआईआर नंबर 135 तारीख़ 25 /04 /2020 को दर्ज किया गया।
दोनों मुलजिमों से पूछताछ से आगे यह पता चला कि बिक्रम और मनिन्दर दोनों, उसके चचेरे भाई (आंटी के बेटे) रणजीत सिंह उर्फ चीता, इकबाल सिंह उर्फ शेरा और श्रवण सिंह समेत सरहद पार नशे और हथियारों की तस्करी करते हैं।
डीजीपी ने बताया कि पुलिस टीमें रणजीत सिंह उर्फ चीता निवासी हवेलियाँ नौशहरा ढाला, थाना सराए अमानत खान, जि़ला तरन तारन, इकबाल सिंह उर्फ शेरा निवासी हवेलियाँ नौशहरा ढाला, थाना सराए अमानत खान, जि़ला तरन तारन, श्रवण सिंह पुत्र हरबंजन सिंह निवासी हवेलियां की खोज में थे, जिनकी शमूलियत के जांच के दौरान सामने आई है।

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
 
और राष्ट्रीय ख़बरें
मास्क पहनने का औचित्य 'दुखद: समाचार एवं श्रद्धासुमन' जेसिका लाल हत्याकांड: जेल में अच्छे व्यवहार के चलते सिद्धार्थ शर्मा उर्फ मनु रिहा मॉनसून ऋतु (जून–सितम्बर) की वर्षा दीर्घावधि औसत के 96 से 104 प्रतिशत होने की संभावना अनलॉक-1 के नाम से देश में 30 जून तक लॉकडाउन 5 लागू, क्या-क्या खुलेगा, किस पर रहेगी पाबंदी आखिर क्यों नहीं पीएमओ पीएम केयर फंड आरटीआई के दायरे में ? कितनी गहरी हैं सनातन संस्कृति की जड़ें कोरोना से युद्ध में रणनीति और वैज्ञानिक दृष्टिकोण का अभाव सीआईपीईटी केंद्रों ने कोरोना से निपटने के लिए सुरक्षात्मक उपकरण के रूप में फेस शील्ड विकसित किया एन.एस.यू.आई. ने छात्रों को एक-बार छूट देकर उत्तीर्ण करने का किया आग्रह