ENGLISH HINDI Wednesday, July 08, 2020
Follow us on
 
राष्ट्रीय

अनलॉक-1 के नाम से देश में 30 जून तक लॉकडाउन 5 लागू, क्या-क्या खुलेगा, किस पर रहेगी पाबंदी

June 01, 2020 11:22 AM

चंडीगढ:
पूरे देश में 30 जून तक लॉकडाउन 5 लागू रहेगा। केन्द्रीय गृह मंत्रालय ने लॉकडाउन 5.0 को लेकर दिशा निर्देश जारी कर दिए हैं। नए दिशा निर्देशों में कंटेनमेंट जोन में और सख्ती से लागू करने की बात कही गई है। सरकार ने इसे लॉकडाउन की जगह अनलॉक-1 कहा है। सरकार की कोशिश है कि आम जन जीवन को पटरी पर वापस लाया जाए।
नए दिशा निर्देशों अनुसार रात का कर्फ्यू जारी रहेगी, जो जरूरी चीजें हैं, उनके लिए कोई कर्फ्यू नहीं रहेगा। रात को 9 बजे से सुबह पांच बजे तक अब नाइट कर्फ्यू रहेगा। अभी तक यह शाम 7 से सुबह 7 बजे तक था। मंदिर-मस्जिद-गुरुद्वारा-चर्च आठ जून से खोल दिए जाएंगे। मॉल भी चरणबद्ध तरीके से खुलेंगे, स्कूल-कॉलेज जुलाई से खोले जा सकते हैं, इसके लिए एसओपी स्वास्थ्य मंत्रालय जारी करेगा। स्कूल-कॉलेज और शैक्षणिक संस्थान खोले जाने पर फैसला सरकार बाद में लेगी।
सरकार ने यह फैसला किया है कि लॉक डाउन 4 के बाद अनलॉक फेज वन में अलग-अलग चरणों में छूट का दायरा बढ़ाया जाएगा। अनलॉक—वन के अंदर 8 जून से होटल और रेस्टोरेंट खोले जाएंगे। इसी दौरान मंदिरों और धार्मिक स्थानों को खोलने की इजाजत भी दी जाएगी।
केंद्रीय गृह मंत्रालय ने जो गाइडलाइन जारी की है उसके मुताबिक अब अनलॉक वन के दूसरे चरण में स्कूल कॉलेज खोलने पर सरकार फैसला लेगी। राज्य सरकारों को इस फैसले के लिए अधिकृत किया गया है।
लॉकडाउन—5 पर गृह मंत्रालय ने जारी की गाइडलाइन:
-देशभर में 1 से 30 जून तक अनलॉक-1 का एलान
-कंटेनमेंट जोन के बाहर चरणबद्ध तरीके से छूट
-कंटेनमेंट जोन 30 जून तक रहेंगे बंद
-1 जून से 30 जून तक जारी रहेगी गाइडलाइन
-कंटेनमेंट जोन के बाहर आर्थिक गतिविधियों में छूट होगी
-रात 9 बजे से सुबह 5 बजे तक कर्फ्यू जारी रहेगा
-8 जून से धार्मिक स्थलों को शर्तों के साथ खोलने की मंजूरी
-स्कूल, कॉलेज खोलने पर राज्य सरकारें लेंगी फैसला
-होटल, रेस्टोरेंट,मॉल्स 8 जून से खोले जाएंगे
एक नजर अनलॉक दौरान जारी पाबंदी पर:
.पहले की तरह है अनलॉक पीरियड में भी 65 साल से ज्यादा उम्र के लोगों को घर से बाहर नहीं जाने की सलाह दी गई है।
. गर्भवती महिलाएं गंभीर रूप से बीमार लोगों और 10 साल से छोटे बच्चों को भी घर में रहने को कहा गया है।
. इन सभी को केवल इमरजेंसी और स्वास्थ्य कारणों से ही घर से बाहर निकलने की इजाजत दी गई है।
. पहले की तरह डिस्टेंसिंग का पालन अनिवार्य रखा गया है और मास्क लगाने की बाध्यता भी जारी रहेगी।
. किसी भी स्थान पर भीड़ लगाने की इजाजत नहीं होगी।
. शादियों में अभी भी 50 से ज्यादा लोगों को इकट्ठा होने की मंजूरी नहीं दी जाएगी।
. किसी के अंतिम संस्कार में अभी 20 लोग से ज्यादा इकट्ठे नहीं होंगे।
. सार्वजनिक जगहों पर पहले की तरह थूकने पर प्रतिबंध रहेगा, साथ ही साथ पान गुटखा के सेवन पर भी रोक लागू रहेगी।
. कार्यालयों में प्रॉपर स्क्रीनिंग और साफ सफाई रखी जाएगी, साथ ही साथ सैनिटाइजेशन भी कराया जाएगा।
. अंतरराष्ट्रीय उड़ानों, मेट्रो, सिनेमा, जिम, स्वीमिंग पुल, बार नहीं खुलेंगे।
अंतर्राज्यीय परिवहन पर रोक नहीं होगी, राज्य चाहें तो इस परिवहन को नियंत्रित कर सकता है।
बता दे कि देश में लागू लॉकडाउन का चौथा चरण का रविवार यानी 31 मई को आखिरी दिन समाप्त हो गया है। चौथा लॉकडाउन 18 मई से 31 मई तक के लिए लगाया गया था। इससे पहले 25 मार्च से 14 अप्रैल, 15 अप्रैल से 3 मई और 4 मई से 17 मई तक के लिए लॉकडाउन का एलान किया गया था।

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
 
और राष्ट्रीय ख़बरें
श्रावण मास में कैसे करें भगवान शिव को प्रसन्न ? कुछ क्षेत्रों में 16 जुलाई से होगा सावन आरंभ भारत में दीपगृह पर्यटन के अवसरों को विकसित करने का आह्वान महामारी को देखते हुए परीक्षाओं पर यूजीसी संशोधित दिशानिर्देश, अकादमिक कैलेंडर जारी कोविड—19: ठीक होने वालों की संख्या करीब 4 लाख 40 हजार हुई आईसीएआर-राष्ट्रीय पादप आनुवांशिक संसाधन ब्यूरो ने किए एमओयू पर हस्ताक्षर सतत विकास के लिए आयु-अनुकूल व्यापक यौनिक शिक्षा क्यों है ज़रूरी? कोविड-19: ठीक होने की दर बढ़कर 60 प्रतिशत पहुंची उच्च स्तरीय उद्योग परामर्श में शीर्ष हस्तियां ले रही है भाग वेबिनार में बताए महिला सुरक्षा और महिला सशक्तिकरण के गुर केरल व हिमाचल दो राज्यों में बहुत सी साझी बातें: डॉ. चौहान