ENGLISH HINDI Friday, July 10, 2020
Follow us on
 
पंजाब

धार्मिक स्थानों, होटलज, रैस्टोरैंटस और शॉपिंग मॉलज़ को फिर खोलने सम्बन्धी दिशा-निर्देश जारी

June 07, 2020 10:15 AM

चंडीगढ़, फेस2न्यूज:
पंजाब सरकार की ओर से लॉकडाउन 5- अनलॉक—1 में धार्मिक स्थानों, होटलज, रैस्टोरैंटस और अन्य आतिथ्य सेवाओं और शॉपिंग मॉलज़ को फिर खोलने के लिए दिशा-निर्देश जारी किये गए हैं।
इस संबंधी जानकारी देते हुये पंजाब सरकार के प्रवक्ता ने बताया कि गृह मंत्रालय (एम.एच.ए.), भारत सरकार ने 30 मई को धार्मिक स्थान, होटल, रैस्टोरैंट और अन्य आतिथ्य सेवाओं और शॉपिंग मॉलज़ को सेहत और परिवार कल्याण मंत्रालय (एम.एच.एफ.डबलयू), भारत सरकार की तरफ से जारी एस.ओ.पीज़ के अनुसार तारीख़ 08.06.2020 से खोलने के लिए दिशा-निर्देश जारी किये थे।
उन्होंने आगे बताया कि 8 जून से धार्मिक स्थानों, होटलों, रैस्टोरैंटों और अन्य आतिथ्य सेवाओं और शॉपिंग मॉलज़ को खोलने की आज्ञा दी गई है। इन संस्थाओं की मैनेजमेंट सम्बन्धी एस.ओ.पीज की पालना करेगी। इसके इलावा मैनेजमेंट पंजाब सरकार के दिशा-निर्देशों की पालना भी करेगी जैसे कि मॉल में दाखि़ल होने वाले हर व्यक्ति के फ़ोन में कोवा एप डाउनलोड होना चाहिए। परन्तु एक परिवार के मामले में एक व्यक्ति के पास एप हो तो मॉल में दाखि़ल होने की आज्ञा होगी। मॉल में फ़ाल्तू नौकरानी की आज्ञा नहीं होगी।
उन्होंने कहा कि मॉल में दाखि़ला टोकन प्रणाली के आधार होगा। आदर्शक तौर पर मॉल में दाखि़ल होने वाले व्यक्ति /व्यक्ति के समूह के लिए अधिकतम समय सीमा भी लागू की जानी चाहिए। मॉल की हर दुकान में निश्चित व्यक्तियों की अधिक से अधिक क्षमता 6 फुट की दूरी (2 गज की दूरी) के आधार पर निर्धारित की जाऐगी। भाव दुकान में दाखि़ल होने वाले हर व्यक्ति के लिए लगभग 10 & 10 का क्षेत्रफल। इसके अलावा मॉल का कुल सामथ्र्य निर्धारित करने के लिए आम क्षेत्रों के लिए अतिरिक्त 25 प्रतिशत की इजाज़त होगी।

उन्होंने बताया कि मैनेजमेंट मॉल और हर दुकान के अधिक से अधिक सामथ्र्य दिखाने को यकीनी बनाने के लिए जि़म्मेदार होगी और अधिक से अधिक सामथ्र्य का 50 प्रतिशत से अधिक किसी भी समय मॉल में दाखि़ल/ किसी एक दुकान में मौजूद नहीं होना चाहिए। इसके इलावा दुकान के अंदर दाखि़ल होने का इंतज़ार कर रहे व्यक्तियों के लिए सामाजिक दूरी दर्शाने के लिए निशानदेही की जायेगी। लिफ़्टों का प्रयोग अपाहिज व्यक्तियों या डाक्टरी एमरजैंसी के सिवाय नहीं किया जाऐगा। ऐसकलेटरस सिर्फ एक दूसरे से सामाजिक दूरी के नियम की पालना के साथ इस्तेमाल किये जा सकते हैं। इसके इलावा कपड़े और अन्य सामान की आज़माइश की आज्ञा नहीं होगी।
उन्होंने बताया कि जिलों की सेहत टीम बाकायदा मॉल की दुकानों पर काम करने वाले कर्मचारियों की जांच करेगी। किसी भी मॉल में रैस्टोरैंट/ फूड कोर्ट टेकवे/ होम डिलीवरी के इलावा काम नहीं करेंगे। इन स्थानों के प्रबंधन के लिए हाथों की सफ़ाई, सामाजिक दूरी और मास्क पहनने को यकीनी बनाने के लिए उचित प्रबंध करेंगे। रैस्टोरैंट को सिर्फ अब वस्तुएँ लेकर जाने और घर डिलीवरी देने के लिए खोलने के लिए आज्ञा दी जायेगी। अगले आदेशों तक यहाँ कोई ‘डाइन-इन’ सुविधा नहीं होगी। रात 8 बजे तक घर में डिलीवरी की आज्ञा हो सकती है।
उन्होंने कहा कि इन स्थानों के प्रबंधन के लिए हाथों की सफ़ाई, सामाजिक दूरी और मास्क पहनने को यकीनी बनाने के लिए उचित प्रबंध किये जाएंगे। होटल रैस्टोरैंट बंद रहेंगे और होटलों में मेहमानों के लिए सिर्फ कमरों में खाना परोसा जायेगा। स्थिति का जायज़ा 15 जून को लिया जायेगा। रात का कफ्र्यू सख्ती से लागू किया जाना चाहिए और व्यक्तियों का यातायात सिर्फ प्रात:काल 5 बजे से रात 9 बजे तक जायज होगा। हालाँकि, मेहमानों को उनकी उड़ान/ रेल के द्वारा यात्रा के नियम के आधार और रात 9 बजे से प्रात:काल 5 बजे के बीच होटल में दाखि़ल होने और बाहर जाने की आज्ञा होगी। हवाई/ रेल की टिकट को ही कफ्र्यू के घंटे (रात 9 बजे से प्रात:काल 5 बजे तक) के दौरान होटल और आने वाले मेहमान के लिए एक बारी के यातायात कफ्र्यू पास के तौर पर इस्तेमाल किया जायेगा। इन स्थानों के प्रबंधन के लिए हाथों की सफ़ाई, सामाजिक दूरी और मास्क पहनने को यकीनी बनाने के लिए उचित प्रबंध करेंगे।
उन्होंने कहा कि पूजा/ धार्मिक स्थान प्रात:काल 5 बजे से शााम 8 बजे तक ही खुले रहेंगे। पूजा के समय व्यक्तियों की अधिकतम संख्या 20 से अधिक नहीं होनी चाहिए और इसलिए पूजा का समय छोटे समूहों में बँटा होना चाहिए। इन स्थानों के प्रबंधन, हाथों की सफ़ाई, सामाजिक दूरी और मास्क पहनने को यकीनी बनाने के लिए उचित प्रबंध करना। प्रसाद, भोजन और भोजन/ लंगर का वितरण नहीं किया जाऐगा। इन दिशा-निर्देशों और तालाबन्दी उपायों का किसी भी तरह का उल्लंघन करने पर आपदा प्रबंधन एक्ट, 2005 की धारा 51 से 60 के अधीन, आइपीसी की धारा 188 के अंतर्गत कानूनी कार्यवाही की जाऐगी।
जिला अधिकारी, हालाँकि, स्थानीय स्थिति का उनके मूल्यांकन के आधार पर, ज़रूरी समझे तो अतिरिक्त पाबंदियां लगा सकते हैं।

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
 
और पंजाब ख़बरें
बरगाड़ी-बहबल कलां कांड में लोगों की कचहरी के मुख्य आरोपी हैं बादल: मान इंतकाल फीस 300 रुपए से बढ़ाकर 600 रुपए की, महामारी झेल रहे लोगों पर अतिरिक्त भार राज्य में खेल ढांचे की मज़बूती के लिए कड़े निर्देश शिरोमणि कमेटी के फ़ैसले से पंजाब के 3.5 लाख दूध उत्पादकों के पेट पर पड़ी लात: रंधावा पहलकदमी : बरनाला में घुटनों की तकलीफ के मरीजों का दूरबीन से इलाज डेराबस्सी में कोरोना का कहर: बेहड़ा में 33 पॉजिटिव, जवाहरपुर पुन: सुर्खियों में सिविल डिफेंस द्वारा रक्तदान शिविर 9 जुलाई को सिविल अस्पताल में पंजाब के 22 में से 18 जिले नशे की चपेट में : सांपला वेरका ने पशु खुराक के दाम 80-100 रुपए प्रति क्विंटल घटाये गांव खेड़ी गुजरां में दूषित पानी पीने से चार भैंसों की मौत का मामला, एसडीएम ने किया मौके का दौरा