ENGLISH HINDI Wednesday, August 05, 2020
Follow us on
 
ताज़ा ख़बरें
5 सदियों बाद 5 अगस्त को अभिजित मुहूर्त में राम जन्म भूमि पूजन, राम राज्य की ओर अग्रसर भारतकोविड-19 के कारण गिरावट दर 9.26 प्रतिशत रहीपंजाब: मुख्य चुनाव अधिकारी द्वारा डिजिटल माध्यम से स्वीप गतिविधियों की शुरूआतश्री राम जन्मभूमि निर्माण की ख़ुशी में सैंकड़ों दिए जलाकर मनाई दीपावलीपेट्रोल— डीजल के थोक और खुदरा विपणन का अधिकार नियमों को बनाया सरलजनशिकायतों निपटारे के लिए आईआईटी कानपुर तथा प्रशासनिक सुधार और लोकशिकायत विभाग के साथ त्रिपक्षीय कराररूड़की में वेस्ट टू एनर्जी प्लांट लगाए जाने के संबंध में बैठक, 05 सितम्बर तक बिड प्रक्रिया पूर्ण करने के निर्देशधौला कुआं में आईआईएम का शिलान्यास
धर्म

चंडीगढ़ के मंदिर दिखे सुनसान .....

June 10, 2020 11:28 AM

Pt. Ishawar Chand Shastri
 चंडीगढ़, अनुराधा कपुर
सिटी ब्यूटिफुल के मंदिर तो खुल चुके हैं, परंतु दर्शन करने वाले श्रद्धालुओं की संख्या बहुत कम है। इसके मुख्य कारणों में से कोरोना एक है; इसके अलावा एक कारण यह भी है कि शिवलिंग पर दूध, जल इत्यादि से अभिषेक करना वर्जित था। जब श्रद्धालुओं को जल न चढ़ाने की जानकारी मिली तो बहुत मायूस हुए। दो श्रद्धालु तो मंदिर में बैठ कर रोने लगे कि हम घर से जल, दूध, फूल इत्यादि लेकर आए हैं, वह भी हमें नहीं चढ़ाने दिया जा रहा है।

हालांकि सेक्टर 30 के महाकाली व शिव शक्ति मंदिर एवं सेक्टर 8 के शिव मंदिर में जल चढ़ाने व शिव पूजन की सभी को अनुमति थी। मंदिर में आने वाले कुल श्रद्धालुओं में 50% लोग तो 65 साल के ही होते हैं व बच्चे भी होते हैं,उन्हीं को आने के लिए मना किया गया है।

हमने कई सेक्टरों के मंदिरों के पुजारियों से संपर्क किया तो सबने एक ही बात कही कि जब तक मंदिर मे सनातन धर्म की परंपरा के अनुसार पूजा की अनुमति नहीं दी जाएगी तब तक मंदिर में आने वालों की संख्या कम रहेगी। शाम को आरती के समय कोई नहीं आ रहा । हम यह पूछना चाहते हैं कि यह कोरोना केवल मंदिरों से ही फैलता है क्या, जबकि सारे बाजार, दुकानें, मॉल, शराब के ठेके खुले हैं और इन सब में नियमों की धज्जियां उड़ाई जा रही हैं।

देवालय पूजक परिषद्" के अध्यक्ष पंडित ईशवर चन्द्र शास्त्री ने गुरूद्वारा साहिब का उदाहरण देते हुए कहा कि वे लंगर चला सकते हैैं व प्रसाद बांट सकते हैं किंतु मंदिर नहीं। भला ये दोहरा मापदंड क्यों? मंदिर सेनीटाइजिंग और सोशल डिसटेंस के नियम मान रहे हैं तो प्रशासन को भी मंदिर की गरिमा को बनाए रखना चाहिये। इस पर अवश्य विचार करें।

 
कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
 
और धर्म ख़बरें
नागपंचमी पर श्री शिव खेड़ा मंदिर में कोरोना महामारी के प्रकोप से मुक्ति के लिए विशेष पूजन स्वयं को सशक्त कर बाह्य परिस्थितयों पर कर सकते है विजय प्राप्त कोरोना से बचाव का फार्मूला: जलाभिषेक करना है तो लोटा घर से लाना होगा संत निरंकारी मिशन ने संभाली जरूरतमंदों को घर बैठे राशन सामग्री पहुंचाने की कमान विशाल साईं भजन संध्या का आयोजन कैंम्बवाला गौशाला में गौभक्तों ने महाशिवरात्रि पर किया शिवपूजन महाशिवरात्रि पर्व: शिव खेड़ा मंदिर में लगा शिव भक्तों का तांता सेक्टर 24 मार्किट वेलफेयर एसोसिएशन ने लगाया लंगर प्रसाद: चना-पूरी और खीर का भोले भक्तों में बांटा प्रसाद महाशिवरात्रि पर्व: लक्ष्य ज्योतिष संस्थान ने लगाया लंगर: 24 प्रकार के व्यंजन शिव भक्तों में प्रसाद स्वरूप किये वितरित श्रीसालासर बालाजी परिवार की मूर्तियो का विधिवत रूप से श्री सनातन धर्म मंदिर सेक्टर-32 में प्राण प्रतिष्ठा कर स्थापित की गई