ENGLISH HINDI Tuesday, February 20, 2018
Follow us on
ताज़ा ख़बरें
प्राइवेट बिल्डर ने नाजायज तौर पर सड़क खोदी, सीवरेज जोड़ने की कोशिशसांपला दुबई के दो दिवसीय दौरे पर: दुबई के गुरुद्वारा गुरु नानक दरबार में हुए नतमस्तकहरियाणा, एक आईएएस अधिकारी तथा दो एचसीएस अधिकारियों के स्थानांतरण एवं नियुक्ति आदेश यहां ड्राइव करने वालों के लिए तो रांग ही है राइटचुनाव खर्च का विवरण देने में किया परहेज तो यमुनानगर के 64 उम्मीदवार तीन साल पालिका चुनाव के लिए कर दिए अयोग्यहरियणा और यूपी विश्व शांति, एकता, आपसी सदभाव और समृद्धि के लिए बहुत अहम, सूरजकुंड मेले के समापन पर बोले सोलंकीप्रशिक्षण कार्यशाला में अध्यापकों ने बच्चों के मन की भावनाओं को किया व्यक्तकार्यक्षमता में सुधार करने के लिए समय निर्धारण विषय पर कार्यशाला आयोजित
एन. आर. आई.

प्रवासी महिला के खाते से लाखों रूपए निकलवाने पर एडीजीपी क्राईम को जांच के आदेश

May 09, 2014 07:16 AM

चंडीगढ़,फेस2न्यूज ब्यूरो:
यू के निवासी महिला सतविंदर कौर द्वारा उसके एचडीएफसी बैंक खाते में से 11.45 लाख रूपए निकाले जाने के मामले में पंजाब राज्य एनआरआई आयोग ने एडीजीपी क्राईम को कहा है कि इसकी जांच आर्थिक विंग से सीनियर अधिकारी निगरानी अधीन करवा कर आयोग को 30 जून तक रिपोर्ट सौंपी जाएं।
इस संबंधी जानकारी देते हुए आयोग के चेयरमैन जस्टिस/सेवानिवृत्त/ अरविंद कुमार ने बताया कि सतविंदर कौर ने आयोग के पास लिखित शिकायत की है कि उसका खाता /संख्या 13711530000366/एचडीएफसी बैंक, चंडीगढ़ रोड़ कुराली की ब्रांच में है। उसको सूचना मिली कि उसके मौजूदा खाते में आवश्यक फंड जमा नहीं हैं। जिसके बाद उन्होंने अपने परिवार से संपर्क बनाया और पता करवाने एवं उनके खाते में से 11,45,000/- रूपए चोरी होने का पता चला। शिकायतकर्ता ने बताया कि वह 6 दिसंबर 2009 के बाद कभी भी भारत नहीं आई और ना ही किसी को खाते में से पैसे निकलवाने या जमा करवाने की अॅथारिटी दी थी। शिकायतकर्ता ने आशंका व्यक्त की कि या तो उनके खाते में से पैसे चोरी किए गए हैं या फिर किसी अन्य खाते में ट्रांस्फर कर दिए गए हैं।
चेयरमैन ने बताया कि इस शिकायत पर एचडीएफसी की संबंधित ब्रांच के प्रबंधक को नोटिस जारी किया गया जिन्होंने आयोग के आगे पेश होकर आवश्यक दस्तावेज जमा करवाएं। शिकायतकत्र्ता के बैंक खाते में से बारी-बारी 17 से 31 दिसम्बर 2013 तक 11 लाख 45 हज़ार रूपए निकलवाए गए।

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
और एन. आर. आई. ख़बरें