ENGLISH HINDI Sunday, October 22, 2017
Follow us on
चंडीगढ़

जन्माष्टमी की रौनक हर साल खींच लाती है मठ

August 13, 2017 05:56 PM

चंडीगढ़: जन्माष्टमी की रौनक लोगों को हार साल की तरह इस वर्ष भी मठ की और खींच लाई है। चंडीगढ़ सेक्टर 20 में भगवान श्री कृष्ण की लीलाओं को पिछले 44 वर्षों से आयोजित किया जा रहा है । इस वर्ष 45वीं जन्माष्टमी के अवसर पर लगाई विशेष झांकियां लोगों को काफी आकर्षित करेंगी ।

चैतन्य गौड़ीय मठ के प्रवक्ता जय प्रकाश गुप्ता ने जानकारी देते हुए बताया इन झांकियों का उद्घाटन चंडीगढ भाजपा प्रदेश अध्यक्ष संजय टंडन द्वारा किया जाएगा। सबसे पहले द्वार पर दो गोपाल जी के झूले व अन्य विशेष झांकियां बनाई गई हैं । जिम में सबसे पहले झांकी जिसमें दिखाया गया के दुर्योधन के घर जब भगवान श्री कृष्ण महाभारत से पूर्व शांति दू बनकर गए और दुर्योधन को समझाया कि यह युद्ध ना हो तो उसने मना कर दिया कहने लगा मर जाऊंगा या मार दूंगा पर हस्तिनापुर ना दूंगा, इसके बाद जब दुर्योधन ने कृष्ण को भोजन खाने लिए कहा तो कृष्ण ने मना कर दिया और साथ ही विदुरानी के घर जाकर भूख के कारण केले के छिलके को ही खाने लग गए ।

दूसरी झांकी में मुस्लिम भक्त श्री हरिदास जी की सफल जीवन लीला को दिखाया। फिर अजन्मे भगवान श्री कृष्ण की लीला जिसमें देवकी और वसुदेव भगवान कृष्ण की तपस्या कर उनके जैसा पुत्र मांगने की इच्छा करते हैं, तो भगवान श्री कृष्ण कहते हैं कि मुझ सा दूसरा तो ना कोई बस मैं ही हूं , तो उस पर देवकी कहती के प्रभु आप ही मेरे पुत्र बनकर आओ। इसके बाद अगली झांसी में माता यशोदा जी की भक्ति के वश में सर्वशक्तिमान भगवान श्री कृष्ण ।

आल इंडिया श्री चैतन्य गौड़ीय मठ जेनरल सेक्ट्री विष्णु महाराज जी ने बताया कि हमारी इस जन्माष्टमी में सबसे बड़ी आकर्षक झांकी जिसमें स्क्रीन व मूर्तियों से लोगों को दिखाया गया राजा द्रोपद ने एक यज्ञ करवाया जिसके फल में द्रोपती व घृस्टघुमन युवा अवस्था में अवतरित हुए । फिर पांडवों के साथ द्रोपती का विवाह, पांडवों द्वारा द्रोपति को जुए में हारना वह दुर्योधन के कहने पर दुशासन का द्रोपति को बालों से खींचकर सभा में लाना , दुर्योधन के कहने पर दुशासन का द्रौपती की साड़ी खींचना, जिसे व खींचता-खिंचता थक जाता है । द्रोपति का भगवान श्री कृष्ण को पुकारना व अकाश मार्ग से गरुड़ पर सवार होकर भगवान श्री कृष्ण का आना और द्रोपति की लाज को बचाना । मठ की सुंदरता को बनाए रखने के लिए भगवान श्री कृष्ण का फूलों का महल जिसे इंटीरियर डिजाइनर करुण नरुला ने देसी वह विदेशी लगभग पांच क्विंटल फूलों से जैसे कि थाईलैंड से आए 8 रंगो वाले फूल आरकैट , हॉलेंड से आए ट्यूलीप , हिमाचल से आए गुलदोदी व अन्य ग्लैडर्स व रजनीगंधा जैसे फूलों से भगवान श्री कृष्ण के बंगले को सजाया जाता है। इन फूलों की कीमत लगभग 4:30 लाख रुपए के करीब है ।जिसकी सुंदरता और महक पूरे मठ को आकर्षित और महका देती है ।

सबसे पहले झांकी जिसमें दिखाया गया के दुर्योधन के घर जब भगवान श्री कृष्ण महाभारत से पूर्व शांति दूत बनकर गए और दुर्योधन को समझाया कि यह युद्ध ना हो तो उसने मना कर दिया कहने लगा मर जाऊंगा या मार दूंगा पर हस्तिनापुर ना दूंगा, इसके बाद जब दुर्योधन ने कृष्ण को भोजन खाने लिए कहा तो कृष्ण ने मना कर दिया और साथ ही विदुरानी के घर जाकर भूख के कारण केले के छिलके को ही खाने लग गए ।

इस रोनक को आप जन्माष्टमी के दिन देख पाएंगे। जन्माष्टमी उत्सव की रौनक व कारीगरी को विभिन्न राज्यों से आए 6 विशेष कारीगर लोगों के सहयोग से पूरा किया जाता है। जिनमें मठ प्रवक्ता जयप्रकाश बिहार से आए प्रोफेसर व मूर्तिकार जयप्रकाश, शम्भू अम्बष्ठा , इंजीनियर राजन इंटीरियर डिजाइनर करन नरुला ऑलराउंडर कारीगर मुकेश व सुमित रविंद्र कुमार वर्मा उर्फ छोटू है प्रतीक वर्ष फूलों से सजे और खूबसूरत मूर्तियों से सुसज्जित भगवान श्री कृष्ण की जन्म लीला जन्माष्टमी को देखने का उत्साह यहां आए भक्तों में देखा जाता है झांकियों के अंत में इस्कॉन के 50 वर्ष पूर्ण होने पर एक विशेष सो जिसमें दिखाया की इस्कॉन के फाउंडर स्वामी प्रभुपाद पानी के जहाज से हरे कृष्णा भक्ति प्रचार के लिए वह अमेरिका गए . जन्माष्टमी की रोज भगवान श्रीकृष्ण को रात 12:00 बजे 108 प्रकार के व्यंजनों से भोग लगाया जाता है नए वस्त्रों को पहनाया जाता है वह लोगों में चरणामृत बाटा जाता है पगले दिन विशाल भंडारे का आयोजन किया जाता है जन्माष्टमी पर आए हुए लोगों की सहूलियत के लिए छह वाटर atm लगाए जाते हैं चंडीगढ पुलिस को शासन की ओर से 20 पुलिस बल व दो मेटल डिटेक्टर लगाए जाते हैं व मठ की और से लोगों को दिशा निर्देश देने के लिए 70 से 80 वालंटियर भी तैनाती हैं जिससे लोगों को किसी प्रकार की दिक्कत न आए। 

Related Articles
कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
और चंडीगढ़ ख़बरें
छठ पूजा मसला सुलझाने पर अश्विनी चौबे का धन्यवाद किया सीमेंट के ट्रक ने तोड़े कई खंभे वरिष्ठ संगीतकार एचएम सिंह कुकी पंचतत्व में विलीन, नामी संगीतकारों, गीतकारों, लेखकों और गायकों ने दी श्रद्धांजिली बावा बने ब्लॉक 11 के अध्यक्ष नेशनल मीडिया कंफेडरेशन की पंजाब एंड चंडीगढ़ राज्य की आम सभा की बैठक का आयोजन 22वें सीआईआई चंडीगढ़ फेयर का रंगारंग शुभारंभ्भ पंचकूला के रैफल्स अस्पताल पहुंचे अमेरिकी सर्जन, घुटनों में किया थ्री डी नी इम्प्लांट उतराखण्ड भ्रात संगठन दरिया द्वारा स्वच्छ भारत अभियान के तहत सफाई अभियान राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ ने मनाया स्थापना दिवस भारतीय मानक ब्यूरो द्वारा "स्वच्छता ही सेवा" विषय पर करवाया गया नुक्कड़ नाटक