ENGLISH HINDI Sunday, September 23, 2018
Follow us on
ताज़ा ख़बरें
"कल्याणी शक्ति एनजीओ गीता महायज्ञ में भागीदारी" गीता मनीषीढिल्लों के नेतृत्व में कांग्रेस की डेराबस्सी हलके में जिला परिषद और ब्लाक समिति चुनाव में क्लीन स्वीप जीत दर्जपत्रकार एकता मंच करेगा 21 पत्रकारों का सम्मान, मंत्री बलबीर सिंह सिद्धू बतौर मुख्य अतिथि शिरकत करेंगेकैप्टन की कार्यप्रणाली ने दिलवाई कांग्रेस को जीत: भुपिन्दर मांटु एवांस डेंटल केयर ने सफलतापूर्वक 3डी आधारित डेंटल इम्पलांट प्लेसमेंट कियासोलर संयंत्र लगाने के लिए सरकार बांट रही सब्सिडी, मिलेगा दोहरा मुनाफाधवन सर्वसम्मति से महिला परिषद चण्डीगढ़ की अध्यक्ष नियुक्त नेताओं को भेजो पाकिस्तान बॉर्डर पर: जयहिंद
पंजाब

जीरकपुर बिल्डिंग बायलाॅज की अनदेखी कर बनाए और बेचे जा रहे है प्रोजेक्ट

April 16, 2018 07:30 PM
जीरकपुर, जे एस कलेर:
जीरकपुर में पिछले लंबे समय से ज्यादातर प्रोजेक्टस बनाने वाले बिल्डर्स बिल्डिंग बायलॉज के नियमों की उल्लंघना कर रहे है लेकिन अभी भी जीरकपुर नगर कौंसिल प्रशासन गहरी नींद में है । शहर में कई स्थानों पर बगैर इजाजत निर्माण के बावजूद नगर कौंसिल प्रशासन बेपरवाह बना हुआ है।
भवन मालिक आवासीय निर्माण की आड़ में बहुमंजिला व्यावसायिक इमारतें खड़ी कर रहे हैं, लेकिन निगम के अफसर जैसे आंखें मूंदकर बैठे हैं। वहीं 30-35 प्रोजेक्ट्स को छोड़ शहर में बने तमाम मल्टीस्टोरी अपार्टमेंट बिल्डरों ने बगैर कंप्लीशन सर्टिफिकेट के बेच डाले। सूत्रों से पता चला है रियल एस्टेट रेगुलेटरी अथारिटी (रैरा) आने के बाद अब बिल्डरों में खलबली मची है।
एक्शन के डर से बिल्डरों ने रातोंरात कंप्लीशन सर्टिफिकेट के लिए नगर कौंसिल में आवेदन करने वाले हैं या कर चुके है । कंप्लीशन सर्टिफिकेट लेने के लिए बिल्डरों को अपार्टमेंट में मानक के मुताबिक सभी सुविधाएं देनी होती हैं। ऐसे में सुविधाओं में कटौती कर रहे बिल्डरों ने बगैर कंप्लीशन के ही अपार्टमेंट बेच डाले। पूरे खेल में नगर कौंसिल के अफसर, इंजीनियर व राजस्व विभाग भी शामिल हैं। शहर में 100 से अधिक मल्टीस्टोरी अपार्टमेंट्स हैं। लेकिन इनमें से अधिकांश के पास कंप्लीशन सर्टिफिकेट नहीं है।
नियमानुसार किसी भी अपार्टमेंट को बिल्डर तभी बेच सकता है जब वह नगर कौंसिल की बिल्डिंग शाखा या गमाडा से कंप्लीशन सर्टिफिकेट हासिल कर ले। नगर कौंसिल की बिल्डिंग ब्रांच किसी अपार्टमेंट को तभी कंप्लीशन सर्टिफिकेट दे सकता है जब उसमें निर्माण स्वीकृत नक्शे के अनुरूप किया गया हो, मानक के मुताबिक इन साइड और आउट साइड सुविधाएं पूरी हों, ओपन एरिया, पार्क, कम्युनिटी सेंटर, सिक्योरिटी, पार्किंग आदि सभी सुविधाएं नियमों के मुताबिक ठीक हों। नियमों पर गौर करें तो किसी भी मल्टीस्टोरी अपार्टमेंट को कंप्लीशन सर्टिफिकेट मिलने से पहले नहीं बेचा जा सकता। लेकिन बिल्डर कंप्लीशन सर्टिफिकेट लेने से कतराते हैं क्योकि इसके लिए उन्हें मानक के मुताबिक सुविधाएं देनी पड़ेंगी। कई अपार्टमेंट में स्वीकृत संख्या से अधिक फ्लैट बना लिए गए हैं। कई में तो फ्लोर ही बढ़ा दी गई हैं। ऐसे में बिल्डर कंप्लीशन के झंझट में पड़ना नहीं चाहते। लेकिन अब रियल एस्टेट रेगुलेटरी अथारिटी के वजूद में आने के बाद बिल्डरों में हड़कंप मचा है। पिरमुछैला स्थित इम्पीरियल गार्डन में इमारत ढ़हने की घटना के बाद अब रातोंरात कंप्लीशन सर्टिफिकेट के लिए नगर कौंसिल में जोड़तोड़ शुरू हो गई है। लेकिन इस घटना के बाद सरकार और प्रशासन अब सख्त है लिहाजा कौंसिल अफसर भी बिना मानकों के कंप्लीशन देकर अपनी कलम फंसाने से बच रहे हैं। 
कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
और पंजाब ख़बरें
ढिल्लों के नेतृत्व में कांग्रेस की डेराबस्सी हलके में जिला परिषद और ब्लाक समिति चुनाव में क्लीन स्वीप जीत दर्ज पत्रकार एकता मंच करेगा 21 पत्रकारों का सम्मान, मंत्री बलबीर सिंह सिद्धू बतौर मुख्य अतिथि शिरकत करेंगे कैप्टन की कार्यप्रणाली ने दिलवाई कांग्रेस को जीत: भुपिन्दर मांटु 'आप' ने यूथ विंग का बड़े स्तर पर विस्तार, पदाधिकारियों का ऐलान बठिंडा में एम्ज़ के लिए ज़मीन तबदील करने की मंजूरी सर्किट हाऊस बुकिंग करने वाला पोर्टल रहेगा 6 दिन बंद आठ जि़लों में 53 बूथों पर फिर पोलिंग के आदेश नहरों में 22 सितंबर से पानी छोडऩे के विवरण जारी नैना देवी रोपवे प्रोजैक्ट को हरी झंडी, पर्यटन को मिलेगा प्रोत्साहन जीरकपुर के लोहगढ़ क्षेत्र में ब्यूटी पार्लर रहस्यमयी हालत में लापता