ENGLISH HINDI Saturday, April 20, 2019
Follow us on
राष्ट्रीय

जीरकपुर: रेत माइनिंग माफिया का खेल अब भी जारी

October 16, 2018 09:33 PM

जीरकपुर, जेएस कलेर

जीरकपुर क्षेत्र में घग्घर बांध के नजदीक रामपुरा गांव के पास अलाट खान से अभी भी माइनिंग माफियाओं का अवैध खेल जारी है। वह अवैध ढंग से रात के समय रेत निकलवा रहे हैं। इससे राजस्व को भारी नुकसान हो रहा है और इस काले कारोबार के जरिए खनन माफिया कमाकर लाल हो रहे हैं। घघर नदी के सटे गांव रामपुरा, बाकरपुर, बोहड़ा, बोहड़ी, ब्राहपुर, जनेतपुरा, ककराली व सनोली क्षेत्र में बिना रोक टोक के मनमानी तरीके से अवैध रूप से भारी मात्रा में अवैध माइनिंग कर ग्रैवर व रेत निकाला जा रहा है। शाम होते ही रात में हैवी मशीनों का प्रयोग कर सुनियोजित ढंग से कार्य किया जाता है। रेत इक्क्ठा कर आर्डर पर ओवरलोड टिप्पर व ट्रैक्टर ट्राली में लोड कर पहुंचा दिया जाता है। सरकार जहां अवैध माइनिंग पर रोक लगा रही है, वहीं विभागीय अनदेखी के चलते माफियाओं पर अंकुश नहीं लग रहा है। अगर शासन-प्रशासन द्वारा बारीकी से जांच की जाए तो मामला खुद-ब-खुद प्रकाश में आ जायेगा।

ओवरलोड टिप्पर बनूड़ कनाल की तोड़ी पुलिया, कनाल में मिट्टी दाल बनाया वैकल्पिक रास्ता

रेत और ग्रैवर खदानों से ओवरलोड वाहनों का निकलना बंद नहीं हो रहा है। क्षमता से अधिक रेत और ग्रैवर भरकर निकलने वाहनों से पांच साल तक की गारंटी वाली सड़कें महीनों में ही जवाब दे रही हैं। चाहे मंडीकरन बोर्ड की सड़क हो चाहे पीडब्ल्यूडी द्वारा बनवाई गईं सड़कों हो या फिर प्रधानमंत्री ग्राम सड़कें व नदी नालों पर पुल। कुछ ही महीनों में ही सड़कें कच्चे रास्ते का रूप ले लेती हैं। खास बात यह है कि ग्रामीणों द्वारा समय समय पर ओवरलोड वाहनों पर रोकने के लिए ज्ञापन दिए गए। शिकायतें की गईं लेकिन कार्रवाई नहीं होती है। वहीं सूत्रों से मिली जानकारी से पता चला कि बीती रात छतबीड़ के नजदीक रामपुरा घाट को जाने वाले रास्ते में बनूड़ कनाल प्रोजेक्ट पर बनाई गई एक पुलिया ओवरलोड टिप्परों के बोझ से टूट गई। जिसको आज पूर्ण रूप से तोड़ने के लिए बाकायदा जे सी बी लगाकर तोड़ दिया गया और पास में ही बनूड़ कनाल में मिट्टी डाल कर एक टैम्परेरी रास्ते का निर्माण कर दिया गया ताकि रात में होने वाला रेत का खेल जारी रहे।

जबकि नहरी विभाग के अधिकारी राजिंदर सिंह ने बताया कि यह पुलिया विभाग द्वारा ही तोड़ी जा रही है क्योंकि इस पुलिया को दोबारा बनाया जाना है जबकि इस पुलिया के पास ही एक अन्य पुलिया पहले ही मौजूद है।

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
और राष्ट्रीय ख़बरें
*"तेरी आवाज़ भी ज़रूरी तेरा वोट भी ज़रूरी "* जनता की अदालत में फैसला अभी बाकी है रेरा में अधिकारी होने के बावजूद भी उपभोक्ता मंच में सुने जा सकते है हाउसिंग मामले डेबिट कार्ड से भुगतान पर उपभोक्ता से शुल्क वसूली अवैध राष्‍ट्रपति ने महावीर जयंती की पूर्व संध्‍या पर देशवासियों को बधाई दी जयराम सरकार का एक साल का कार्यकाल शानदार : सुरेश कश्यप उत्तर ही नहीं दक्षिण भारत में भी कांग्रेस के पक्ष में माहौल: पराग शर्मा ज़ीरकपुर में नियम तोड़ते डिस्को मालिकों से लोग परेशान, पुलिस प्रशासन मेहरबान राष्ट्रीय प्रतिष्ठित महिला पुरस्कार 2019 समरोह में महिलाओं ने साबित कर दिया कि वह कमजोर नहीं जलियांवाला बाग नरसंहार शताब्दी मनाने के संबंध में फोटो प्रदर्शनी