ENGLISH HINDI Sunday, November 18, 2018
Follow us on
पंजाब

जीरकपुर में फैला स्मॉग, 5 बजे ही छाया अंधेरा, आंखों में जलन और सांस लेने में भी तकलीफ

November 09, 2018 07:10 PM
जीरकपुर, जेएस कलेर
दिवाली के बाद जीरकपुर की आबोहवा में धुआं-धुआं सा छाया है। सुबह-शाम के वक्त यह और गहरा गया है। बुधवार के मुकाबले शुक्रवार को शहर के ऊपर आसमान में स्मॉग छाया रहा। इससे जहां यातायात की रफ्तार पर भी असर पड़ रहा है सड़कों पर वाहन धीमी रफ्तार से चलने के कारण दिन भर जाम सी स्थिति बनी रही, वहीं कुछ लोग आंखों में जलन की भी शिकायत कर रहे हैं। 
मौसम में बढ़ती प्रदूषण की मात्रा और समय से पहले कोहरे की दस्तक से मौसम की चाल बदल गई है। शुक्रवार सुबह जहां घना कोहरा छाया रहा, वहीं शाम को धुंध जल्दी पड़ने से 5 बजे ही दिन ढलने लगा। कोहरे और धुंध से दिन में ही अंधेरा छा गया। वाहन चालकों को लाइट जलानी पड़ी।
 
बढ़ रहे प्रदूषण का असर जीरकपुर में भी दिखाई दे रहा है। क्षेत्र के खेतों में जलाई गई पराली और बढ़ते प्रदूषण के असर के चलते मौसम का मिजाज बदल रहा है। इस बार कोहरे ने भी समय से पहले दस्तक दे दी है। सुबह 10 बजे भी ऐसा लगा रहा था कि अभी दिन नहीं निकला है। सुबह के समय जहां हाईवे पर वाहनों की रफ्तार धीमी रही वहीं शाम को भी दिन छिपने से पहले ही चालकों को लाइट जलानी पड़ी। 
जानकारों का कहना है कि अक्तूबर में बारिश नहीं हुई, हवा भी शांत चल रही है। बढ़ते डस्ट पार्टिकल और वायमुंडल में बन रही नमी के चलते धुंध और कोहरे का असर बना हुआ है। प्रदूषण बढ़ने का असर मौसम पर साफ दिख रहरा है जिसकी वजह से पूरे दिन हल्की धुंध जैसा आवरण बना रहा, जिसके कारण लोगों को सांस लेने में भी तकलीफ हो रही थी तो साथ ही आंखों में जलन भी महसूस हुई। 
मौसम विशेषज्ञों का कहना है कि आमतौर पर तो स्मॉग चार से पांच दिन के बाद अपने आप ही चला जाता है। मगर कई बार बारिश होने तक स्मॉग का असर वातावरण में बना रहता है। 
कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
और पंजाब ख़बरें