ENGLISH HINDI Tuesday, August 20, 2019
Follow us on
ताज़ा ख़बरें
कार्यशाला में मृदंगम वादक मननार काएल बालाजी ने दक्षिणी भारतीय ताल की बारीकियां बताईएनएच एम्प्लाइज यूनियन ने प्रशासन के खिलाफ स्वास्थ्य सेवायें बंदकर प्रदर्शन किया ट्राईसिटी में घर बैठे राशन पंहुचायेगा जीवाला डॉट.इन ग्रॉसरी स्टोरस्वास्थ्य और सौंदर्य प्रेमियों के लिए वेगनटिक सुपर फूड्स ने एल्मो-एल्मोंड बेवरेज लॉन्च कियाजीरकपुर के शिवालिक विहार में प्रधान के घर शॉर्ट सर्किट से लगी आग से लाखों का नुक्सानई फाइलिंग कभी भी कहीं भी, ई-रिटर्न भरने के दिए टिप्ससाइबर अपराध और कानूनी जागरूकता पर 3 दिवसीय प्रशिक्षण कार्यक्रम शुरूडेराबस्सी के सभी एटीएम पड़े हैं काफी समय से बंद
पंजाब

जीरकपुर में फैला स्मॉग, 5 बजे ही छाया अंधेरा, आंखों में जलन और सांस लेने में भी तकलीफ

November 09, 2018 07:10 PM
जीरकपुर, जेएस कलेर
दिवाली के बाद जीरकपुर की आबोहवा में धुआं-धुआं सा छाया है। सुबह-शाम के वक्त यह और गहरा गया है। बुधवार के मुकाबले शुक्रवार को शहर के ऊपर आसमान में स्मॉग छाया रहा। इससे जहां यातायात की रफ्तार पर भी असर पड़ रहा है सड़कों पर वाहन धीमी रफ्तार से चलने के कारण दिन भर जाम सी स्थिति बनी रही, वहीं कुछ लोग आंखों में जलन की भी शिकायत कर रहे हैं। 
मौसम में बढ़ती प्रदूषण की मात्रा और समय से पहले कोहरे की दस्तक से मौसम की चाल बदल गई है। शुक्रवार सुबह जहां घना कोहरा छाया रहा, वहीं शाम को धुंध जल्दी पड़ने से 5 बजे ही दिन ढलने लगा। कोहरे और धुंध से दिन में ही अंधेरा छा गया। वाहन चालकों को लाइट जलानी पड़ी।
 
बढ़ रहे प्रदूषण का असर जीरकपुर में भी दिखाई दे रहा है। क्षेत्र के खेतों में जलाई गई पराली और बढ़ते प्रदूषण के असर के चलते मौसम का मिजाज बदल रहा है। इस बार कोहरे ने भी समय से पहले दस्तक दे दी है। सुबह 10 बजे भी ऐसा लगा रहा था कि अभी दिन नहीं निकला है। सुबह के समय जहां हाईवे पर वाहनों की रफ्तार धीमी रही वहीं शाम को भी दिन छिपने से पहले ही चालकों को लाइट जलानी पड़ी। 
जानकारों का कहना है कि अक्तूबर में बारिश नहीं हुई, हवा भी शांत चल रही है। बढ़ते डस्ट पार्टिकल और वायमुंडल में बन रही नमी के चलते धुंध और कोहरे का असर बना हुआ है। प्रदूषण बढ़ने का असर मौसम पर साफ दिख रहरा है जिसकी वजह से पूरे दिन हल्की धुंध जैसा आवरण बना रहा, जिसके कारण लोगों को सांस लेने में भी तकलीफ हो रही थी तो साथ ही आंखों में जलन भी महसूस हुई। 
मौसम विशेषज्ञों का कहना है कि आमतौर पर तो स्मॉग चार से पांच दिन के बाद अपने आप ही चला जाता है। मगर कई बार बारिश होने तक स्मॉग का असर वातावरण में बना रहता है। 
कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
और पंजाब ख़बरें
जीरकपुर के शिवालिक विहार में प्रधान के घर शॉर्ट सर्किट से लगी आग से लाखों का नुक्सान ई फाइलिंग कभी भी कहीं भी, ई-रिटर्न भरने के दिए टिप्स डेराबस्सी के सभी एटीएम पड़े हैं काफी समय से बंद 20 घंटों की बारिश से खुल जाती है 20 वर्षों के विकास की पोल: मान लौंगोवाल शहीदी दिवस के अवसर पर 20 अगस्त को जि़ला बरनाला और संगरूर में छुट्टी का ऐलान पंजाब का राष्ट्रीय खेल सम्मान में वर्चस्व नकली कीटनाशक, खाद बेचने वाले डीलर्ज के खि़लाफ़ बड़ी कार्रवाई बलटाना के लोगों ने हरमिलाप नगर-रायपुर कलां रेलवे क्रॉसिंग पर अंडरपास बनवाने में हो रही देरी को लेकर चंडीगढ़ प्रशासन के खिलाफ किया प्रदर्शन जीरकपुर में आफ़त की बारिश, घरों में भरा एक एक फुट पानी, अगले दो दिन भी तेज बारिश की संभावना सी.बी.एस.ई. फीसों की भारी बढ़ौतरी वापस ले सरकार: ‘आप’