ENGLISH HINDI Monday, August 19, 2019
Follow us on
पंजाब

जीरकपुर में लॉरेंस बिश्नोई गैंग के साथी अंकित भादू का एनकाउंटर, मौत, दो काब

February 07, 2019 10:32 PM
जीरकपुर, जे एस कलेर:
जीरकपुर- पीरमुच्छल्ला में बिश्नोई गैंग के गुर्गे के छिपे होने की आज ओको ऑर्गनाइजेशन काउंटर इंटेलिजेंस के एआईजी गुरमीत चौहान के दिशा निर्देशों पर पुलिस की एक विशेष टीम ने पिरमुछाला क्षेत्र के गोकुल होम्स की घेराबंदी कर ली। सूचना के अनुसार गोकुल होमज के एक फ्लैट पर पुलिस के विशेष दस्ते को खबर मिली थी कि उक्त फ्लैट में लॉरेंस बिश्नोई ग्रुप का इनामी  गैंगस्टर अंकित भादू, गिंदा काणा, जर्मनजीत रह रहे है।

डीएसपी विक्रम बराड़ द्वारा सीधा फायर कर अंकित भादू को ढेर कर दिया। घटना पर प्रत्यक्षदर्शियों ने बताया कि पूरे ऑपरेशन में दोनों तरफ से 80 के करीब फायर हुए। लोगों ने बताया कि पुलिस ने शाम को ही जगह को चारों तरफ से घेर कर सील कर दिया था। एनकाउंटर के चलते इलाके में दहशत का माहौल है। लोगों का सवाल है कि यहाँ इतने बड़े बड़े गैंगस्टर रह रहे है पर पुलिस वेरिफिकेशन ड्राइव नहीं चला रही।

 
 
 
 
जानकारी के अनुसार जैसे ही पुलिस मौके पर पहुची और घेराबंदी शुरू की तो अंकित भादू छत्त पर चढ़ गया और पुलिस पर फायर करना शुरू कर दिया। इसी बीच  बचने के लिये गैंगस्टर अंकित भादू दूसरी मंजिल पर रह रहे एक फ्लैट में घुस गया जहाँ एक परिवार रह रहा था वहाँ उसने उस फ्लैट में रह रहे परिवार  की 6 साल की बच्ची को ढाल बना लिया और उसने बच्ची की कनपटी पर बंदूक रख ली। इसी दौरान डीएसपी विक्रम बराड़ ने सामने की बिल्डिंग पर मोर्चा संभाल लिया।
इसी दौरान विशेष दस्ते के एक कमांडो ने तीसरी मंजिल से दूसरी मंजिल पर जंप कर अंकित भादू के चंगुल से बच्ची को छुड़ाया  इस दौरान बच्ची अक्षिता के पैर में अंकित भादू ने फायर कर दिया और एक फायर सामने बिल्डिंग पर मौजूद एएसआई सुखविंदर सिंह के लत में भी फायर कर घायल कर दिया जिसके बाद जवाबी कार्रवाई में पुलिस को भी फायर करना पड़ा।
सामने से डीएसपी विक्रम बराड़ द्वारा सीधा फायर कर अंकित भादू को ढेर कर दिया। घटना पर प्रत्यक्षदर्शियों ने बताया कि पूरे ऑपरेशन में दोनों तरफ से 80 के करीब फायर हुए। लोगों ने बताया कि पुलिस ने शाम को ही जगह को चारों तरफ से घेर कर सील कर दिया था। एनकाउंटर के चलते इलाके में दहशत का माहौल है। लोगों का सवाल है कि यहाँ इतने बड़े बड़े गैंगस्टर रह रहे है पर पुलिस वेरिफिकेशन ड्राइव नहीं चला रही।
घटना की जानकारी देते हुए एआईजी गुरमीत चौहान ने बताया कि आज ओकु विभाग को स्पेसिफिक इन्फर्मेशन थी कि उक्त फ्लैट में यह तीनों गैंगस्टर मौजूद है जिसके बाद पुलिस ने मौके पर घेरा डाल डीएसपी विक्रम बराड़ के नेतृत्व में उक्त फ्लैट में पहुच इन्हें सरेंडर करने के लिए कहा गया जिसपर अंकित भादू ने पुलिस पर फायर करने शुरू कर दिए।
इसी दौरान अंकित नीचे के फ्लैट में पहुच गया और एक परिवार को बंधी बना लिया और परिवार की एक बच्ची को ढाल बनाकर फायर करने लगा क्रॉस फायर में अंकित मौके पर ही मारा गया । इसमें बच्ची अक्षिता व पंजाब पुलिस ए एस आई सुखविंदर सिंह भी घायल हो गए। दोनों घायल चंडीगढ़ के सैक्टर 32 अस्पताल में इलाज के लिए भर्ती करवाया गया है। 
पिछले साल मई में श्रीगंगानगर में हिस्ट्रीशीटर जॉर्डन उर्फ विनोद चौधरी पर ताबड़तोड़ फायिरंग कर उसकी हत्या कर देने के मुख्य आरोपी अंकित भादू का पुलिस कई दिनों से पीछा कर रही थी। बता दें कि अंकित भादू पर गुरुवार सुबह राजस्थान के डीजीपी ने एक लाख रुपए का ईनाम घोषित किया था और शाम तक पुलिस ने एनकाउंटर में मार गिराया। अंकित के खिलाफ हत्या, लूट, रंगदारी जैसे अनेक गंभीर मामले पंजाब और राजस्थान में दर्ज हैं। इस कुख्यात बदमाश को लॉरेंश बिश्नोई का दाहिना हाथ बताया जाता था।  
हिस्ट्रीशीटर जॉर्डन का किया था मर्डर
राजस्थान के श्रीगंगानगर में पुरानी आबादी के मोहर सिंह चौक निवासी हिस्ट्रीशीटर जॉर्डन उर्फ विनोद चौधरी पर 23 मई 2018 को ताबड़तोड़ फायिरंग कर उसकी हत्या कर दी गई थी। वारदात को तब अंजाम दिया गया जब जॉर्डन इंदिरा वाटिका के पास मेटालिका जिम में सुबह करीब पांच बजे वर्क आउट करने गया था। 
अंकित भादू जॉर्डन की हत्या का मुख्य आरोपी भी है। सूचना देने वाले को मिलेंगे एक लाख रुपए जॉर्डन की हत्या के बाद से अंकित भादू फरार चल रहा था। इसको पकड़ने के लिए राजस्थान पुलिस लगातार प्रयास कर रही, मगर इस कुख्यात बदमाश का अभी तक कोई पता नहीं चल पाया था। इसकी सूचना देने पर 50 हजार रुपए का ईनाम रखा गया था, जो बढ़ाकर एक लाख रुपए कर दिया गया था। 
कौंन है डीएसपी विक्रम बराड़ 
पंजाब के मशहूर गैंगस्टर विक्की गौंडर का एनकाउंटर करने वाले इंस्पेक्टर को पंजाब सरकार डीएसपी ने डीएसपी बनाया था। राज्य सरकार कैबिनेट बैठक में यह निर्णय लिया था। उल्लेखनीय है कि 26 जनवरी, 2018 में पंजाब पुलिस द्वारा पंजाब-राजस्थान सीमा पर स्थित गांव पक्की ढाणी में पुलिस के साथ हुई मुठभेड़ में विक्की गौंडर, मप्रेमा लाहौरिया समेत तीन लोगों की मौत हो गई थी। इस एनकाउंटर की अहम भुमिका उस समय इंस्पेक्टर विक्रम बराड़ जिन्होंने आज के इनकाउंटर की अगवाई ने की थी। इस एनकाउंटर पर पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने विक्रम बराड़ को डीएसपी की तरक्की देकर निवाजा था।  
कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
और पंजाब ख़बरें
लौंगोवाल शहीदी दिवस के अवसर पर 20 अगस्त को जि़ला बरनाला और संगरूर में छुट्टी का ऐलान पंजाब का राष्ट्रीय खेल सम्मान में वर्चस्व नकली कीटनाशक, खाद बेचने वाले डीलर्ज के खि़लाफ़ बड़ी कार्रवाई बलटाना के लोगों ने हरमिलाप नगर-रायपुर कलां रेलवे क्रॉसिंग पर अंडरपास बनवाने में हो रही देरी को लेकर चंडीगढ़ प्रशासन के खिलाफ किया प्रदर्शन जीरकपुर में आफ़त की बारिश, घरों में भरा एक एक फुट पानी, अगले दो दिन भी तेज बारिश की संभावना सी.बी.एस.ई. फीसों की भारी बढ़ौतरी वापस ले सरकार: ‘आप’ भारी बरसात के हाई अलर्ट को लेकर प्रबंध पूरे किए: कार्यकारी अधिकारी छेड़छाड़ करने व अश्लील मैसेज भेजने वाला अम्बालवी काबू चीफ़ ऑफ डिफेंस स्टाफ नियुक्ति सेनाओं के कमांड ढांचे की मज़बूती के लिए बड़ा कदम बाजवा को नहीं पता कि वह क्या बोल रहा: कैप्टन