ENGLISH HINDI Wednesday, September 18, 2019
Follow us on
 
राष्ट्रीय

सरला दीदी पंचतत्व में विलीन, सैकड़ों लोगों ने दी श्रद्धांजलि, उपराष्ट्रपति, पीएम मोदी ने जताया दुख

June 09, 2019 10:11 AM

आबू रोड, फेस2न्यूज
ब्रह्माकुमारीज संस्थान गुजरात जोन की निदेशिका राजयेागिनी सरला दीदी का पार्थिक शरीर पंचतत्व में विलीन हो गया। उनका पार्थिव शरीर शुक्रवार ब्रहकुमारीज संस्थान आबू रोड होते हुए माउण्ट आबू लाया गया। जहॉं रथ सजाकर उनकी यात्रा निकाली गयी। जिसमें बड़ी संख्या में लोग शामिल हुए। पांडव भवन में चारों धामों की यात्रा कराते हुए नक्की झील के पास स्थित आध्यात्मिक म्यूजियम होते हुए शांतिवन लाया गया।

 शांतिवन के तपस्या धाम में पार्थिव शरीर रखा गया जहॉं ब्रह्माकुमारीज संस्थान की संयुक्त मुख्य प्रशासिका राजयोगिनी दादी रतनमोहिनी, संस्था के महासचिव बीके निर्वेर, मीडिया प्रभाग के अध्यक्ष बीके करूणा, शांतिवन प्रबन्धक बीके भूपाल, कार्यक्रम प्रबन्धिका बीके मुन्नी, यूरोपियन सेवाकेन्द्रों की प्रभारी बीके जयन्ति, दक्षिण अफ्रीका से आयी बीके वेदान्ती, निरमा कम्पनी के चेयरमैन करसन भाई पटेल, राजकोट प्रभारी बीके भारती, गॉडलीवुड स्टूडियो के कार्यकारी निदेशक बीके हरीलाल, बीके भरत समेत कई संस्थान के वरिष्ठ पदाधिकारियों ने पुष्पांजलि अर्पित की ।

इन्होनें ट्वीट कर जताया दुख: सरला दीदी के देहावसान पर उपराष्ट्रपति वेकैय्या नायडू, प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी, केन्द्रिय मंत्री हर्षवर्धन, गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रूपाणी, उपमुख्यमंत्री नितिन पटेल, राज्यपाल ओपी कोहली ने दुख व्यक्त करते हुए लिखा है कि सरला दीदी का जीवन मानवता की सेवा के लिए समर्पित था। जिनका आशिर्वाद हमेशा मिलता रहा है।
पुष्पांजलि कर दी श्रद्धांजलि: गुजरात के उद्योगपति गौतम अडानी ने सरला दीदी के पार्थिव शरीर पर पुष्पा अर्पित कर श्रद्धांजलि दी। वहीं निरमा कम्पनी के प्रबन्धक निदेशक करसन भाई पटेल, शिवानन्द आश्रम के अध्यक्ष आध्यात्मानन्द समेत अध्यात्म तथा प्रशासनिक अधिकारियों ने श्रद्धांजलि दी।

बहुमुखी प्रतिभा की धनी थी सरला दीदी: राजयोगिनी सरला दीदी एक अद्वितीय प्रतिभा की धनी थी। उनका जन्म 8 मार्च, 1940 में एक संभ्रात परिवार में कच्छ में हुआ था। लेकिन वे पली बढ़ी मुम्बई में क्योंकि माता पिता मुम्बई में ही रहते थे। वे मात्र 14 वर्ष की तरुण आयु में ही ब्रह्माकुमारीज संस्थान में आ गयी। उनकी माता जी इस संस्थान से जुड़ी हुई थी। वह गुजरात में 200 से अधिक केंद्रों और उप-केंद्रों की देखभाल करती थी। 

 

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
और राष्ट्रीय ख़बरें