ENGLISH HINDI Monday, September 16, 2019
Follow us on
 
चंडीगढ़

बैंक ऑफ इंडिया ने बैंकिंग को आम लोगों पर केन्द्रित ऋणों के वितरण पर दिया जोर

August 18, 2019 09:58 PM

चंडीगढ, हरियाणा और हिमाचल प्रदेश के 100 से अधिक शाखा प्रबंधकों ने बैंकर्स मीट में भाग लिया

चंडीगढ़,सुनीता शास्त्री।
बैंक ऑफ इंडिया (बीओआई) चंडीगढ़ जोनल ऑफिस ने रविवार बैंकर्स मीट का आयोजन किया। जिसमें बैंकिंग को नागरिक केंद्रित बनाने पर अधिक जोर दिया गया। इसके साथ ही वरिष्ठ नागरिकों, किसानों, छोटे उद्योगपतियों, उद्यमियों, युवाओं, छात्रों और महिलाओं की जरूरतों और आकांक्षाओं के प्रति अधिक संवेदनशील होने की जरूरत भी बताई गई।
बैंकरों की बैठक में चंडीगढ, हरियाणा और हिमाचल प्रदेश के 100 से अधिक शाखा प्रबंधक शामिल हुए। इस कॉन्फ्रेंस का उद्देश्य बैंकों के विचारों और समीक्षा प्रदर्शन और राष्ट्रीय प्राथमिकताओं के साथ उनके सही तालमेल और संतुलन को बनाना था। बैंकर्स मीट की अध्यक्षता महाप्रबंधक, अजीत कुमार मिश्रा, प्रमुख, नियोजन विभाग और जोनल प्रबंधक पुखराज पानगडिया ने की। शाखाओ के प्रबंधक ने स्वयं भी आत्म-मूल्यांकन किया और संबंधित मुद्दों पर विचार-विमर्श किया और भविष्य की रणनीति पर विचार विकसित किए।

इस कॉन्फ्रेंस के दौरान इनोवेशन के बारे में अधिक से अधिक आईटी सामग्री के साथ अर्थव्यवस्था के विभिन्न क्षेत्रो में ऋणों का वितरण बढ़ाने और बड़े डेटा एनालिटिक्स का लाभ उठाने के तरीकों पर ध्यान केंद्रित किया गया।

डिजिटल भुगतान, सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों में कॉर्पोरेट प्रशासन (पीएसबी), एमएसएमई के लिए क्रेडिट, खुदरा, कृषि, निर्यात ऋण, वित्तीय ग्रिड स्थापित करने और 5 ट्रिलियन डॉलर अर्थव्यवस्था के लिए बैंक ऋणों को सक्षम करने जैसे कई सामयिक विषयों को देने के लिए भी विस्तार से चर्चा की गई। पीएसबी के लिए विशिष्ट रोडमैप तैयार करने के लिए भी विचार-विमर्श किया गया।

इस बैठक में विभिन्न राष्ट्रीय प्राथमिकताओं में बैंक के योगदान की समीक्षा की गई जैसे - आर्थिक विकास के लिए क्रेडिट समर्थन, बुनियादी ढांचा / उद्योग, कृषि क्षेत्र और ब्लू इकोनॉमी, जल शक्ति, एमएसएमई क्षेत्र और मुद्रा ऋण, शिक्षा ऋण, निर्यात ऋण, हरित अर्थव्यवस्था, स्वच्छ भारत, वित्तीय समावेशन और महिला सशक्तीकरण, प्रत्यक्ष लाभ अंतरण, कम नकदी / डिजिटल अर्थव्यवस्था, जीवनयापन में आसानी, स्थानीय क्षमता का लाभ आदि। इस दौरान सामान्य रूप से पीएसबी और विशेष रूप से बैंक ऑफ इंडिया कैसे राष्ट्र निर्माण में अधिक प्रभावी भूमिका निभा सकते हैं, जैसे अभिनव सुझाव भी लिए गए।

इन सुझावों को एकत्र किया गया और राज्य स्तर पर आगे की चर्चा के लिए भेजा गया, साथ ही प्रत्येक क्षेत्र के तहत शाखाओं के तुलनात्मक प्रदर्शन का आकलन किया गया। स्टेट लेवल बैंकर्स कमेटी के स्तर के बाद, इंट्रा और इंटर-बैंक प्रदर्शन दोनों की तुलना करने के लिए और पीएसबी के कार्यान्वयन के लिए आगे के रास्ते के बारे में सुझावों को अंतिम रूप देने के लिए राष्ट्रीय स्तर पर अंतिम परामर्श सत्र आयोजित किया जाएगा। बैंकर्स मीट के बाद, भविष्य के लिए रोडमैप लागू किया जाएगा।

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
और चंडीगढ़ ख़बरें
भगवान वाल्मीकि शोभायात्रा आयोजक कमेटी के चेयरमैन बने गुरचरण सिंह: निकाली जाएगी भव्य रथ यात्रा ट्राईसिटी वेटर एसोसिएशन ने किया पौधरोपण लास्ट बेंचर्स"-हेल्पिंग द हेल्पलेस ने की"कहो प्लास्टिक को ना" मुहिम की शुरुआत लिप्पी परिदा ने प्रकृति के रंग द ताओ ऑफ थिंग्स, में कैमरे ऑख से पेश किये अरविंदो स्कूल के खिलाड़ियों ने चैंपियनशिप में तीन गोल्ड मेडल झटके हेरोइन के साथ अम्बाला से दबोचे तस्कर की निशानदेही पर मुख्य आरोपी को चंडीगढ़ से किया काबू, पूछताछ के लिए दो दिन का पुलिस रिमांड डाइट क्लिनिक ने पंचकूला में खोला अपना नया क्लिनिक काव्य संग्रह ‘मन की लहरें’ का हुआ विमोचन व चर्चा से. 43 स्थित बस अड्डे पर बाथरूम जा रहे ऑटो रिक्शा चालक को सीटीयू कर्मियों ने पीट डाला : पैसे भी छीन लिए वैदिक गर्ल्स स्कूल की प्रिंसिपल पूनम सेखरी को सम्मानित किया