ENGLISH HINDI Monday, January 20, 2020
Follow us on
 
ताज़ा ख़बरें
प्रधानमंत्री जनकल्याणकारी योजना प्रचार प्रसार अभियान चंडीगढ़ संगठन ने अरुण सूद से मुलाकात कर दी बधाई छुप छुप कर किए थियेटर से हासिल किया मुकाम : मनु सिंहपरीक्षा पे चर्चा: पीएम मोदी से 60 से ज्यादा बच्चे पूछेंगे सवालएडवाकेट गुरदयाल शर्मा के सुपुत्र विनय शर्मा की रस्म पगड़ी 24 जनवरी कोद लास्ट बेंचर्स ने गरीब बच्चों के साथ धूमधाम से मनाया लोहड़ी का त्यौहार: बच्चों को बांटे गर्म वस्त्र, कम्बल और गिफ्ट्सविश्व हिंदू परिषद पंजाब की तरफ से पंजाब के माननीय राज्यपाल को दिया ज्ञापन1652 होमगार्ड जवानों की होगी भर्ती26 को राज्यपाल अंबाला में, मुख्यमंत्री जींद में फहराऐंगे राष्ट्रीय ध्वज
पंजाब

तीन महीने के प्रतिबंध के बावजूद की जा रही है रेत माईनिंग

September 10, 2019 08:42 PM

प्रतिबंध के बावजूद रोज रात नदी में घुसती है पोकलेन मशीन, मशीन की नदी क्षेत्र में चेन टूटी कोई कार्रवाई नहीं

ज़ीरकपुर, जेएस कलेर

पंजाब सरकार की ओर से बरसाती मौसम और प्राकृतिक आपदा से बचाने के लिए माइनिंग पर तीन महीनो की पाबंदी लगाई गई है, जो 1 जुलाई से 30 सितंबर तक है, परन्तु पाबंदी के बावजूद राजनीतिक संरक्षण व आधिकारियों की मिलीभुगत के साथ रात के समय पर गाँव रामपुर की खड़ में अवैध माइनिंग की जा रही है, जिसे किसी राजनेता और बड़े आधिकारियों का आशीर्वाद हासिल है, जिस कारण वहां अवैध माइनिंग का काम बिना किसी ख़ौफ़ और बिना किसी रोक -टोक के हो रहा है।   तीन महीनों के प्रतिबंध के बावजूद रोज रात प्रतिबंधित पोकलेन मशीन नदी क्षेत्र में घुस माइनिंग कर सुबह बाहर कर दी जाती है, बीती रात भी मशीन नदी क्षेत्र में माइनिंग के लिए नदी में उतरी लेकिन सुबह नदी से बाहर आते हुए मशीन की चेन टूट गई और मशीन नदी को जाते रास्ते मे फस गई लेकिन किसी भी अधिकारी ने सब कुछ जानते व देखते हुए कोई करवाई नहीं की।
माइनिंग ठेकेदार द्वारा माइनिंग को लेकर प्रशासन के आदेश का पालन भी हो रहा है, लेकिन दिन के उजाले में। रात का अंधेरा होते ही मानक दरकिनार करने का खेल बेरोकटोक शुरू हो जाता। इस बात की गवाही आसपास के ग्रामीण ही नहीं बल्कि खनन क्षेत्र में अंधेरा होने के इंतजार में खड़े माइनिंग मशीनें, ट्रैक्टर ट्रालियां और उनके बेरोकटोक आवागमन की गवाही देते ट्रायरों के ताजे निशान और माइनिंग क्षेत्र में बड़ी संख्या में लोगों की मौजूदगी दे रही है।                                माइनिंग के लिए सुबह दस बजे से शाम पांच बजे तक का समय निर्धारित है, लेकिन इस पर भी कोई अमल नहीं है। माइनिंग का धंधा खासकर रात को ही जोर पकड़ता है। जानकारी अनुसार ठेकेदारों के पास 12 एकड़ जमीन से रेत निकालने का लाइसेंस है। रेत माफिया ने प्रशासन से मिलभगत कर सैकडों एकड़ से भी ज्यादा रेत खोद डाली।

जब इलाके के माइनिंग विभाग के इंस्पेक्टर मोहाली मंडल गुरजीत सिंह के साथ बात की तो उन्होंने बताया कि क्षेत्र के घग्गर नदी के साथ लगतीं सभी खड्डों पर तीन महीनों के लिए पाबंदी लगाई गई है। उन्होंने बताया कि हमारे उच्च आधिकारियों की ओर इस क्षेत्र के साथ लगते थानों में भी कार्रवाई के आदेश जारी किये गए हैं। हमारी टीम और डेराबस्सी सब डिविज़न के थानों की पुलिस पार्टी टीम की ओर से दिन -रात रेत खड्डों वाले गाँवों पर नज़र रखी जा रही है। यदि यहाँ से कोई व्यक्ति दिन या रात को रेत निकालता पाया गया तो उस पर कानूनी कार्रवाई की जायेगी। उन्होंने माना कि रात को चैकिंग के लिए उनके पास पर्याप्त साधन नहीं है वे रात को की जाने वाली माइनिंग की चेकिंग के लिए अपने उच्च अधिकारियों को लिखेंगे।

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
 
और पंजाब ख़बरें