ENGLISH HINDI Thursday, October 17, 2019
Follow us on
 
ताज़ा ख़बरें
सिंघपुरा चौक पर फिर शुरू हुआ टैक्सी वालों से अवैध वसूली का खेल, 1000 मंथली के इलावा 200 रुपए प्रति चक्कर वसूलीसुखबीर का अहंकार ही उसे और अकाली दल को ख़त्म करेगा- कैप्टन अमरिन्दर सिंहमोदी जी हरियाणा में मंदी के पर्याय बन गए: कुमारी सैलजालॉरेट फार्मेसी संस्थान कथोग में पांच दिवसीय इंस्पायर" कैंप सम्पन्नवीआईपी रोड पर बिना पार्किंग दुकानें बनाने की इजाजत मतलब ट्रैफिक जाम, सावित्री इन्क्लेव के दबंगों की दबंगई, मीडियाकर्मियों पर हमलासाईं बाबा का महासमाधि दिवस: 48 घंटे का साईं नाम जाप सम्पन्नरिकॉर्ड की जांच के बाद मार्केट कमेटी बटाला का सचिव मुअत्तलशर्तों के विपरीत किराए पर ले गोदाम किया सबलेट, धमकियां देने के आरोप में दो पर केस दर्ज
राष्ट्रीय

अज्ञात वाहन की टक्कर से घायल या मौत, सोलेटियम स्कीम के तहत पायें मुआवजा

September 17, 2019 06:31 PM

चंडीगढ, संजय मिश्रा:
अज्ञात वाहन की टक्कर से घायल या मौत होने पर संबंधित व्यक्ति या परिवार को सोलेटियम स्कीम 1989 के तहत आर्थिक सहायता देने का प्रावधान है, लेकिन अधिकांश लोगों को इस स्कीम के बारे में पता ही नहीं है।
सोलेटियम फंड स्कीम जुलाई 1989 से देश भर में लागू है, जिसके तहत हिट एंड रन केस में घायल को 12 हजार 500 और मृत व्यक्ति के परिजनों को 25 हजार की सहायता देने का प्रावधान है।
पंजाब एंड हरियाणा हाई कोर्ट ने एक मामले का निपटारा करते हुए साफ़ किया है कि अगर सड़क दुर्घटना में वाहन पकड़ा जाता है तो मोटर वाहन अधिनियम की धारा 140 के तहत मौत एवं अपंग के लिए क्रमशः 50 हजार एवं 25 हजार दिए जाएंगे, लेकिन अगर वाहन नहीं पकड़ा गया है तो सेक्शन 161 के तहत मौत के लिए 25 हजार एवं अपंगता के लिए 12500 दिए जाएंगे।
लेकिन 22 मई 2018 को केंद्र सरकार ने एक गजट नोटिफिकेशन के द्वारा इस सहायता राशि को बढ़ा दिया है। अब सोलेटियम फंड स्कीम के अज्ञात वाहन से टक्कर में हुई मौत पर उसके परिजनों को 5 लाख रूपये मुआवजा दिया जाएगा। अगर दुर्घटनाग्रस्त ब्यक्ति अपंग हो जाता है तो 5 लाख रूपये को अपंगता की प्रतिशत के मुताबिक़ दिया जाएगा।
इस स्कीम के तहत तहसील स्तर पर दावा (सामान्य तौर पर एसडीएम स्तर का) किया जाता है। दावे की जांच सम्बंधित अधिकारी को एक महीने के अंदर करनी होती है और इसे दावा निष्पादन आयुक्त (जिला अधिकारी) के पास प्रस्तुत करना होता है। दावा निष्पादन अधिकारी प्रकरण का परीक्षण कर जिले की लीड बीमा कंपनी को सहायता राशि देने का निर्देश देता है। और फिर सम्बंधित बीमा कंपनी दावाकर्ता को उसके दावे का भुगतान चेक जारी करता है।

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
 
और राष्ट्रीय ख़बरें