ENGLISH HINDI Wednesday, October 16, 2019
Follow us on
 
ताज़ा ख़बरें
वीआईपी रोड पर बिना पार्किंग दुकानें बनाने की इजाजत मतलब ट्रैफिक जाम, सावित्री इन्क्लेव के दबंगों की दबंगई, मीडियाकर्मियों पर हमलासाईं बाबा का महासमाधि दिवस: 48 घंटे का साईं नाम जाप सम्पन्नरिकॉर्ड की जांच के बाद मार्केट कमेटी बटाला का सचिव मुअत्तलशर्तों के विपरीत किराए पर ले गोदाम किया सबलेट, धमकियां देने के आरोप में दो पर केस दर्जराष्ट्रीय गौरव सम्मान अवार्ड से सम्मानित हुए लढा व ढिढारियाशाह सतनाम जी शिक्षण महाविद्यालय में दो दिवसीय प्रतिभा खोज का आयोजनउपग्रह तकनीकी द्वारा पृथ्वी अवलोकन विषय पर एक दिवसीय कार्यशाला आयोजितकांग्रेस प्रत्याशीयों के समर्थन मेें किया प्रचार
हरियाणा

अरावली बेचने वाली सरकार पर्यावरण चिंता की बात न करे : कुमारी सैलजा

October 07, 2019 06:02 PM

नई दिल्ली। मुख्यमंत्री मनोहर लाल की सरकार ने पिछले पांच साल में हरियाणा का विकास नहीं बल्कि विनाश किया है। प्रदेश में कांग्रेस की सरकार में आते ही विनाश के वजहों की तफ्तीश कर गुनाहगारों को बेनकाब किया जाएगा। कांग्रेस अध्यक्ष कुमारी सैलजा ने कहा कि अगले चंद दिनों में चंडीगढ़ से कांग्रेस पार्टी घोषणापत्र जारी करने वाली है। उसमें मनोहर सरकार के कामकाज से त्रस्त प्रदेश के सभी वर्गों को राहत पहुंचाने की बात होगी। 

उन्होंने कहा कि सरकार बनते ही कांग्रेस पार्टी किसान-मजदूर औऱ कमजोर तबके को ऋण से निजात दिलाने का काम करेगी। प्रदेश के किसानों को पराली की समस्या से राहत दिलाने के लिए वैकल्पिक इंतजाम किया जाएगा। भारतीय जनता पार्टी की तरह जुमलेबाजी के बजाय कांग्रेस पार्टी की ओर से जो वायदा किया जाएगा उसे सौ फीसदी पूरा किया जाएगा।
उन्होंने दिवाली के मौके पर केंद्र सरकार के मंत्री की ओर से पर्यावरण को लेकर जताई गई चिंता औऱ ग्रीन दिवाली मनाने के आह्वानको भारतीय जनता पार्टी के जुमलेबाजी का हिस्सा करार दिया।

 हरियाणा का विकास नहीं बल्कि विनाश किया गया, सुशासन की बात लोगों के जख्म पर नमक का छिड़काव, - अरावली पहाड़ियों को प्राइवेट बिल्डरों के हाथों देने की साजिश, मनोहर लाल की सरकार पर्यावरणप्रेमियों की नजर में बड़ी गुनहगार है। भाजपा सरकार ने विधानसभा के बहुमत से एनसीआर के अरावली पहाड़ियों की 60 हजार एकड़ जमीन को प्राइवेट बिल्डरों के हाथों बचने की साजिश  रची,  ड्रग्स माफिया से निपटने में फेल है खट्टर सरकार

 

उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री मनोहर लाल की सरकार पर्यावरणप्रेमियों की नजर में बड़ी गुनहगार है। भाजपा सरकार ने विधानसभा के बहुमत से एनसीआर के अरावली पहाड़ियों की 60 हजार एकड़ जमीन को प्राइवेट बिल्डरों के हाथों बचने की साजिश कीरची। फैसले पर सुप्रीम कोर्ट ने तत्काल हस्तक्षेप किया।खट्टर सरकार कोकड़ी फटकार लगाई तब जाकर एनसीआर की जिंदगी का आधार अरावली पहाड़ियां उजड़ने से बच पाई। 

अगर सुप्रीम कोर्ट आड़े नहीं आती तो महज दो फीसदी वन क्षेत्र वाले हरियाणा प्रदेश से जंगलों का पूरी तरह सफाया कर दिया गया होता। ऐसे अब चुनाव के मौसम मेंग्रीन दिवाली मनाने की बात हास्यास्पद है। जो सरकार जीवन का आधार रहे वन और पहाड को निजी लाभ के लिए बेचने के धंधे पर उतर आती है, आखिरकार वह किस मुंह से पर्यावरण संरक्षण की बात कर रही है ।

प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कुमारी सैलजा कुछ समाचार समूहों के पत्रकारों से बात कर रही थी। उन्होंने कहा कि खट्टर सरकार के पांच साल के कामकाज का लेखाजोखा है कि यह जनता की हित को साधने में बुरी तरह से विफल रही है। हरियाणा के लोग के बीच इनकी पोल पट्टी खुल गई है। इसबार लोग भाजपा के जुमले में नहीं फंसने जा रहे हैं। प्रदेश में उद्योग धंधों का चौपट हाल सामने है। अनाड़ी सरकार ने बेरोजगारों को नौकरी देने के बजाय रिकार्ड संख्या में हरियाणा के लोगों की नौकरी ली गई है। लाखों लोगों की रोजीरोटी पर संकट बन आई है। अपराधियों का बोलबाला है। महिलाएं औऱ बुजुर्ग महफूज नहीं है। बेइंतहा बढे अपराध के आंकड़ों से मुंह छिपाने के लिए 2016 से राष्ट्रीय क्राइम ब्यूरो की रिपोर्ट जारी नहीं की जा रही है। मौजूदा सरकार के कार्यकाल में तीन बार प्रदेश को जलाया जा चुका है। खिलाडियों औऱ लड़कियों पर वाटर कैनन से चोट किए जा रहे हैं। यह सब हरियाणा के लोगों को पूरी तरह से याद है। ऐसे में मनोहर सरकार की ओऱ से सुशासन देने की बात लोगों के जख्म पर नमक का छिड़काव है।

उन्होंने कहा कि सरकार की मिली भगत से अवैध खनन धड़ल्ले से होता रहा। ड्रग्स माफिया का बोलबाला है। प्रदेश के युवाओं को नशा माफिया के हवाले कर दिया गया। अगर भाजपा सरकार ड्रग्स माफिया से निपटने की मंशा रखी होती, तो हरियाणा में भी पंजाब के तर्ज पर नशा कारोबारियों से निपटने के लिए एसटीएफ जैसी सख्त औऱ प्रभावशाली फोर्स बनी होती। लेकिन मनोहर लाल सरकार को नशे से बर्बाद होते लोगों की कतई सुध नहीं रही।

उन्होंने नौकरी को लेकर सरकार की नाकामी का जिक्र किया।सरकार पर हमलावर होते हुए कहा कि कर्ल्क के 4862 पदों की नौकरी के लिए तीन दिनों तक 15 लाख बच्चों को घरबार से 200 से 250 किलोमोटर दूर तक दौड़ाया गया। परीक्षार्थियों को लाने ले जाने के लिए रोडवेज ने कोई खास इंतजाम नहीं किया। नौनिहालों को सड़कों पर धक्के खाने कोछोड़ देने का काम नासमझ भाजपा सरकार ही कर सकती है।उन्होंने अफसोस जताते हुए कहा कि इम्तिहान के लिए गए कई बच्चों को जान गंवानी पड़ी,यह मुख्यमंत्री के बेरहम कार्यप्रणाली की बानगी है।

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
 
और हरियाणा ख़बरें
राष्ट्रीय गौरव सम्मान अवार्ड से सम्मानित हुए लढा व ढिढारिया शाह सतनाम जी शिक्षण महाविद्यालय में दो दिवसीय प्रतिभा खोज का आयोजन उपग्रह तकनीकी द्वारा पृथ्वी अवलोकन विषय पर एक दिवसीय कार्यशाला आयोजित कांग्रेस प्रत्याशीयों के समर्थन मेें किया प्रचार बिना अनुमति नहीं लगा सकते फ्लेग, बैनर, होर्डिंग सोनिया जी के लिए अभद्र भाषा के इस्तेमाल का हिसाब चुकता करेगी जनता : कुमारी सैलजा पटाखों के अस्थाई लाइसेंस: आवेदन 15 अक्तुबर से गोदारा ने भाजपा छोड़ कांग्रेस का थामा दामन हरियाणा भाजपा ने जारी किया रिपोर्ट कार्ड: दावा 80 फीसदी वादे पूरे किए, जो कहा सो किया और जो नहीं कहा वह भी किया जुमला पत्र नहीं, रिपोर्ट कार्ड लाए भाजपा: कुमारी सैलजा