ENGLISH HINDI Saturday, February 22, 2020
Follow us on
 
ताज़ा ख़बरें
जेलों में सी.सी.टी.वी. कैमरे, करंट वाली तार लगाने व अलग ख़ुफिय़ा विंग सहित कई फ़ैसलों की मंजूरीअंतर्राष्ट्रीय राजनीति का कुत्सित रूप कोरोना वायरससरकारी संस्थानों के साईन बोर्ड, सडक़ों के मील पत्थर पंजाबी में लिखे जाना अनिवार्य: बाजवाआपातकालीन रोगियों के लिए मार्ग उपलब्ध करवाने के लिए स्वीकृतिरिपब्लिकन पार्टी ऑफ़ इंडिया (अठावले) ने दूध के पैकेट बांट कर मनाया महा शिवरात्रि का पर्वकैंम्बवाला गौशाला में गौभक्तों ने महाशिवरात्रि पर किया शिवपूजन महाशिवरात्रि पर्व: शिव खेड़ा मंदिर में लगा शिव भक्तों का तांतासेक्टर 24 मार्किट वेलफेयर एसोसिएशन ने लगाया लंगर प्रसाद: चना-पूरी और खीर का भोले भक्तों में बांटा प्रसाद
पंजाब

दिल्ली पुलिस की हिमायत में उतरी पंजाब पुलिस

November 07, 2019 11:54 AM

चंडीगढ़, फेस2न्यूज:
दिल्ली पुलिस पर वकीलों द्वारा किये हमले के सम्बन्ध में पंजाब पुलिस खुल कर अपने दिल्ली पुलिस के सहकर्मियों की हिमायत और मदद के लिए सामने आई है।
पंजाब पुलिस ने इस घटना की कड़े शब्दों में निंदा की और उक्त हमले के लिए जि़म्मेदार दोषियों के विरुद्ध मिसाली कार्यवाही समेत न्याय की माँग की।
यह प्रस्ताव इस तरह लिखा है: ‘‘सभी आई.पी.एस. और पंजाब पुलिस के पी.पी.एस अधिकारी, दिल्ली पुलिस के अधिकारियों पर हुए क्रूर हमले की सख्त लफ्ज़़ों में निंदा करते हैं। पुलिस अधिकारियों पर ऐसे हमले होना या ड्यूटी के दौरान किसी किस्म की बेइज़्ज़ती बर्दाश्त नहीं की जा सकती। समाज का कोई वर्ग या किसी भी श्रेणी के लोग संविधान और न्याय से ऊपर नहीं हैं। पंजाब पुलिस के सभी अधिकारी और रैंक इस सम्बन्ध में अपने भाइयों के साथ खड़े हैं और हमला करने वाले दोषियों के विरुद्ध सख्त और तत्काल कार्यवाही की माँग करते हैं जिससे पीडि़तों को न्याय मिल सके।’’
पंजाब के डी.जी.पी. दिनकर गुप्ता ने बाद में ट्वीट करते हुए लिखा हम आई.पी.एस. और पंजाब पुलिस के पी.पी.एस अधिकारी, दिल्ली पुलिस के अधिकारी पर हुए बर्बर हमले की कड़ी निंदा करते हैं। कोई भी संविधान और न्याय से ऊपर नहीं है। हम अपने भाईचारे के साथ खड़े हैं और न्याय की माँग करते हुए दोषियों के विरुद्ध कड़ी और मिसाली कार्यवाही की माँग करते हैं।’’
डी.जी.पी. ने कहा कि दिल्ली में पुलिस अधिकारियों पर वकीलों द्वारा किया हमला कानून की धज्जियाँ उड़ाने की तरह है और यह क्षमा योग्य नहीं। बहादुर और अनुशासित अधिकारियों की तरह पुलिस ने बिना किसी बदले की भावना से इस हमले को झेला है और यह अब न्याय प्रणाली की विभिन्न एजेंसियों पर निर्भर करता है कि वह मामले की अपेक्षित पड़ताल करके दोषियों के विरुद्ध कार्यवाही को यकीनी बनाएं। उन्होंने कहा कि यदि जल्द ही इन हमलावरों के विरुद्ध कोई सख्त कार्यवाही नहीं की जाती तो इससे ड्यूटी निभाने के समय (विशेषकर पंजाब और जम्मू-कश्मीर जैसे सरहदी राज्यों में ड्यूटी के दौरान) रोज़मर्रा की अपनी जान जोखिम में डालने वाले पुलिस अफसरों का मनोबल गिर जायेगा।

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
 
और पंजाब ख़बरें
जेलों में सी.सी.टी.वी. कैमरे, करंट वाली तार लगाने व अलग ख़ुफिय़ा विंग सहित कई फ़ैसलों की मंजूरी सरकारी संस्थानों के साईन बोर्ड, सडक़ों के मील पत्थर पंजाबी में लिखे जाना अनिवार्य: बाजवा हाईकोर्ट के आदेशों पर 100 मीटर क्षेत्र में 13 गोदामों पर चला पीला पंजा उपभोक्ता फोर्म के स्टाफ को क्यों ज्वाइन नहीं करवा रही सरकार?: चीमा ‘आप’ विधायका रूबी ने उठाया असुरक्षित स्कूलों का मामला चोरों ने बंद घर में लाखों की नगदी व गहनों पर किया हाथ साफ सरकारी मेडीकल कॉलेज मोहाली का नाम बदलकर डॉ. बी.आर. अम्बेदकर स्टेट इंस्टीट्यूट ऑफ मेडीकल साइंसज़ रखने को मंज़ूरी डेराबस्सी— बरवाड़ा रोड पर एक फैक्ट्री में आग लगी नम्बरदारों का मानभत्ता 2000 रुपए करने का फैसला चार सरकारी स्कूलों का नाम स्वतंत्रता सेनानियों और शहीदों के नाम पर रखने की मंजूरी