ENGLISH HINDI Monday, March 30, 2020
Follow us on
 
ताज़ा ख़बरें
कोरोना के संदेह में किशोर व किशोरी बरनाला के आइसोलेशन अस्पताल दाखिलडाक जीवन बीमा, ग्रामीण डाक जीवन बीमा प्रीमियम भुगतान की अवधि 30 अप्रैल तक बढ़ाईअल्पकालिक फसली ऋण की पुनर्भुगतान अवधि 31 मई तक बढ़ाईनियम-कानूनों की उल्लंघना कर बेलगाम घूम रहे मंत्रियों, विधायकों की लगाम कसें कैप्टन: मानमहामारी के कठिन समय में सरकार के साथ खड़े हों, दलगत राजनीति से उठकर कार्य करेंप्रवासी मज़दूरों की शरण के लिए स्कूलों की इमारतें खुलवाने के निर्देशप्रवासी भारतीयों /विदेशी यात्रियों की सुविधा के लिए स्वै-घोषणा फार्म जारीधारा 144 की उल्लंघना: दो पुजारियों सहित 37 गिरफ्तार, 22 पर केस
हिमाचल प्रदेश

ज्वालामुखी: सडक़ें बदहाल, पेयजल योजनाओं के भी बुरे हाल

February 22, 2020 05:30 PM

 ज्वालामुखी, (विजयेन्दर शर्मा)
कांग्रेस प्रवक्ता ज्वालामुखी के पूर्व विधायक संजय रतन ने आरोप लगाया कि भाजपा ने ज्वालामुखी के लोगों को विकास के नाम पर छला है। विधानसभा चुनावों में भाजपा ने लोगों को गुमराह कर वोट तो हासिल कर लिये, लेकिन जो वायदे चुनावों में किये गये, उन्हें पूरा करने के बजाये अब ठेंगा दिया। जिससे ज्वालामुखी में विकास ठप्प होकर रह गया है।
यहां पत्रकारों को संबोधित करते हुये पूर्व विधायक ने कहा कि 2 साल के कार्यकाल के दौरान स्थानीय विधायक रमेश धवाला एक भी पैसा ज्वालामुखी के विकास के लिये लाने में कामयाब नहीं हो पाये हैं। जिससे लोगों अपने आपको ठगा सा महसूस कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि धवाला ने जो भी उद्घाटन किये हैं,उन्हें कांग्रेस राज में ही स्वीकृत करवाया गया ,और धन भी मुहैया करवाया गया। भाजपा सरकार बनने के 2 साल बाद अब तक ज्वालामुखी में विकास का कोई काम नहीं हो रहा। अब धवाला बहाना बना रहे हैं कि सीएम उनकी नहीं सुनते। लेकिन अब भाजपा को जनता सबक सिखायेगी।
उन्होंने आरोप लगाया कि कांग्रेस शासनकाल में शुरू हुए विकास कार्यों को रोका गया। ज्वालामुखी में चल रहे कई विकास कार्य बंद करवा दिये गये है। जो कि एक गलत परंपरा है। इलाके की सडक़ें बदहाल है। पेयजल योजनाओं के भी बुरे हाल है। उन पर ध्यान नहीं दिया जा रहा। ईमानदारी का चोला पहनने वाले विधायक अपने रिशतेदारों को नियम कायदों को ताक पर रख कर ठेके दिलवाने के लिये अफसरों पर दवाब डालते रहे हैं। धवाला जिस तरीके से सरकारी कर्मचारियों को डराने धमकाने की राजनिति कर रहे हैं। वह गलत है।
संजय रतन ने कहा कि कांग्रेस शासनकाल में खुंडियां में एक सप्ताह के तीन दिन के लिये ज्वालामुखी के एसडीएम को वहां बिठाने की योजना थी। ताकि चंगर के लोगों को उनके घर द्धार प्रशासन की सुविधा मिलती। लेकिन नई सरकार बनने के बाद यह सब ठंडे बस्ते में डाल दिया गया है।

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
 
और हिमाचल प्रदेश ख़बरें
कोविड-19 सोलीडेरिटी रिस्पांस फंड हेतु मुख्यमंत्री को चैक भेंट किए महामारी के कठिन समय में सरकार के साथ खड़े हों, दलगत राजनीति से उठकर कार्य करें लोगों से अपना स्थान नहीं छोड़ने का आग्रह किया उद्योगपति श्रमिकों की चिंता करें, कोई भी भोजन के अभाव में भूखा ना सोये: बिन्दल कोविड—19 को फैलने से रोकने के लिए आरबी ने 32 मिलियन पाऊंड का योगदान दिया पलायन न करें, उपमंडल में ही की जाएगी प्रवासी मजदूरों के भोजन की व्यवस्था: ठाकुर कोरोना वायरस के बचाव को लेकर महत्वपूर्ण कदम फेक खबर पर एफआईआर दर्ज: एसडीएम सामाजिक सुरक्षा पैंशन की दरों को बढ़ाने की अधिसूचना जारी दूध खरीद मूल्य में दो रुपये प्रति लीटर की बढ़ौतरी