ENGLISH HINDI Sunday, September 23, 2018
Follow us on
ताज़ा ख़बरें
"कल्याणी शक्ति एनजीओ गीता महायज्ञ में भागीदारी" गीता मनीषीढिल्लों के नेतृत्व में कांग्रेस की डेराबस्सी हलके में जिला परिषद और ब्लाक समिति चुनाव में क्लीन स्वीप जीत दर्जपत्रकार एकता मंच करेगा 21 पत्रकारों का सम्मान, मंत्री बलबीर सिंह सिद्धू बतौर मुख्य अतिथि शिरकत करेंगेकैप्टन की कार्यप्रणाली ने दिलवाई कांग्रेस को जीत: भुपिन्दर मांटु एवांस डेंटल केयर ने सफलतापूर्वक 3डी आधारित डेंटल इम्पलांट प्लेसमेंट कियासोलर संयंत्र लगाने के लिए सरकार बांट रही सब्सिडी, मिलेगा दोहरा मुनाफाधवन सर्वसम्मति से महिला परिषद चण्डीगढ़ की अध्यक्ष नियुक्त नेताओं को भेजो पाकिस्तान बॉर्डर पर: जयहिंद
काम की बातें

महिलाओं को अपने स्वास्थ्य और वेलनेस का ख्याल रख खुद को प्यार करना सीखना चाहिए: विशेषज्ञ

May 09, 2017 06:38 PM

चंडीगढ़:

सीआईआई इंडियन वुमेन नेटवर्क ने गवर्नमेट मॉडल सीनियर सेकेंडरी स्कूल (जीएमएसएसएस), सेक्टर 19, में महिलाओं के लिए स्वच्छता, पोषण और भावनात्मक भलाई विषय परकिया सत्र का आयोजन 

भारतीय उद्योग परिसंघ के इंडियन वूमन नेटवर्क (आईडब्ल्यूएन) चंडीगढ़ ट्रईसिटी चैप्टर ने मंगलवार को गवर्नमेंट मॉडल सीनियर सेकेंडरी स्कूल सेक्टर 19 में महिलाओं के लिए स्वच्छता, पोषण और भावनात्मक कल्याण विषय पर विशेष सत्र का आयोजन किया।फोर्टिज हॉस्पिटल मोहाली क्लिनिकल न्यूट्रिशन एंड डाइट की प्रमुख डा. सोनिया गांधी ने कहा कि हमारे शरीर को ठीक से काम करने के लिए यह महत्वपूर्ण है कि हम पौष्टिक आहार का सेवन करें। इसमें दही, दूध या दूध उत्पादों, दाल, गुड़, नट्स, फलों और तरल पदार्थ जैसे पानी, लस्सी, नारियल पानी शामिल होने चाहिए। स्वस्थ और संतुलित आहार की सही मात्रा भोजन प्रदान करता है। जो व्यक्ति स्वस्थ और संतुलित भोजन करता है वह उतना ही अधिक स्वस्थ रहता है। फोर्टिज हॉस्पिटल मोहाली की स्त्री रोग विशेषज्ञ मुक्ता ने स्वच्छता के महत्व पर छात्राओं के साथ बातचीत की। उन्होंने साफ, सूखे और सूती वस्त्रों को पहनने पर बल दिया और आहार में रेशेदार भोजन शामिल करने की सलाह दी। एसएनएम आईएएस एकेडमी, चंडीगढ़ की निदेशक डॉ शिल्पा सूरी ने छात्रों के साथ जीवन में भावनात्मक स्थिरता के महत्व पर बातचीत की। उसने कहा कि हमें छोटी चीज़ों में भी आनंद लेना चाहिए और जीवन में लक्ष्य निर्धारित करना चाहिए। सबसे ऊपर, हमें अपने आप से प्यार करना और हमारे स्वास्थ्य, हृदय और हाथों की देखभाल करना सीखना चाहिए। आईडब्ल्यूएन की सदस्य संगीता सबू ने कहा कि छात्रों को खुद को प्यार करना सीखना चाहिए और अपने जीवन को सकारात्मक लोगों में विकसित करने और दूसरों को भी इसके लिए प्रेरित करने के लिए प्रयास करना चाहिए। इंडियन वूमन नेटवर्क (आईडब्ल्यूएन) की अध्यक्ष डा. रीतिंदर मोहन ने कहा कि अपनी भावनाओं को गति देने के लिए इसे जाहिर करें, बात करें, रोएं, हंसते हुए जाहिर करें। उन्होंने कहा कि आईडब्ल्यूएन महिलाओं के समग्र कल्याण को बढ़ावा देने और जीवन के सभी क्षेत्रों में मदद करने के लिए प्रतिबद्ध है।

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें