ENGLISH HINDI Sunday, February 17, 2019
Follow us on
ताज़ा ख़बरें
आल इंडिया डिफेंस ब्रदरहुड और पूर्व सैनिकों ने पाकिस्तान का झंडा फूंक किया विरोध प्रदर्शनवार्षिक दिवस समारोह में नन्हें बच्चों ने सुन्दर प्रस्तुतियां पेश कीविशाल सूद का मस्ती में झूमने वाला भजन साई संग नाचिये रिलीज फैशन डिजाइनर करिश्मा शाहानी के लैक्मे फैशन वीक में प्रस्तुत कलेक्शन को पेश किया पैरागॉन किड्स स्कूल की वार्षिक एथलेटिक मीट में छात्रों ने उत्साहपूर्वक भाग लियाजीरकपुर : ट्रैफिक में उलझ रहा वीकेंडगांव दौलत सिंह वाला पभात में लगा 47वां आंखों का मुफ्त ऑपरेशन कैंपपुलवामा हमले के मद्देनजर संसद के दोनों सदनों में राजनीतिक दलों के नेताओं के साथ हुई बैठक
 
 
संपादकीय
रोड़ रेज की बढ़ती घटनाएं चिंताजनक

बीच चौराहों पर रोड़रोज की घटनाएं ना केवल चिंतनीय हैं बल्कि आज के युवाओं की मानसिकता व गिरती संवेदनशीलता को भी दर्शाती हैं। जरा सी बात पर एक दूसरे पर हमला कर देना आम होता जा रहा है। आखिर यह सब हो क्या रहा है? क्या किसी की जान की कोई कीमत ही नहीं है? सवाल यह है कि आखिर आज का युवा छोटी सी बात पर ही इतना भड़क क्यो जाता है? गुस्से में उसे आगे−पीछे का भी ध्यान नहीं रहता और सामने वाले की जान लेने तक आमादा हो जाना सवाल उठाता है कि आज की युवा पीढ़ी आखिर जा कहां रही है?

नवजोत सिद्धू की गांधीगिरी ने दिया सिखों को तोहफा: गुरु नानक के प्रकाशोत्सव पर मोदी सरकार का बड़ा फैसला, करतारपुर कॉरिडोर को मंजूरी

गुरु नानक देवजी के 550वें प्रकाशोत्सव वर्ष पर सिखों की लंबे वक्त से चली आर रही मांग को पूरा करने के लिए केंद्र सरकार ने महत्वपूर्ण फैसला लिया है। केंद्र ने गुरदासपुर स्थित डेरा बाबा नाक से लेकर अंतरराष्ट्रीय सीमा तक करतारपुर कॉरिडोर बनाने का फैसला लिया है। बता दें कि यह प्रोजेक्ट सारी आधुनिक सुविधाओं से लैस होगा और इसका खर्च भी केंद्र उठाएगा। गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने गुरुवार को इस बात की जानकारी दी। 

दश—हरा: पहले राम बनो— तब मुझे जलाने का दंभ भरो

सदियों से जलाते आ रहे हो

और कब तब जलाओगे

आज तक नहीं मिटा तो

कब मिटाओ गे।

मेरे पुतले जला कर खुश होने वालो

मैं तुम्हारें जहन में बैठा हूं

वहां से कब हटाओ गे?

भारत बंद बुद्धि बंद का परिचय

रिकॉर्डतोड़ जीत हासिल करने के बाद अब सरकार महंगाई को लेकर खासे लपेटे में घिर रही है। पिछले दिनों से रूपए की गिरती कीमत तथा पेट्रोल और डीज़ल के बढ़ते दामों को लेकर विपक्षी दल व आम जनता ने एक बार फिर भारत बंद की आवाज को बुलंद किया।

ईवीएम में गड़बड़ी या मात्र विरोध नीति?

2019 लोकसभा चुनावों में कुछ ही माह शेष है। राजनितिक दलों ने चुनावों को लेकर अपनी—अपनी गोटियां फिट करनी शुरू कर दी है। कांग्रेस समेत विभिन्न राजनीतिक दलों को आभास हो रहा है कि चुनावों में ईवीएम मशीन में सबसे बड़ी गड़बड़ी की संभावना हो सकती है।

कानून की आड़ में अपराध आखिर कब तक?

कानून के रखवालों में से कुछ गद्दारों द्वारा जुर्म करने वालों को शह देना। पद, प्रतिष्ठा पाने तथा तिजोरियां भरने के लिए आड़े आने वाले रोड़े को हटाने के लिए जुर्म करना आम बात हो गई है।

जनता की गाढ़ी कमाई पर सत्ताधारियों की खुली ऐश

सांसदों को अपने वेतन और भत्तों पर टैक्स नहीं भरना पड़ता। जबकि देश पर मर मिटने वाले जवानों को मिले मेहनताने पर उसे पूरा 'कर' चुकाना पड़ता है।

कल्पेश याज्ञनिकः एक और बलि

समकालीन मीडिया में पत्रकारिता बस ब्राडिंग मात्र रह गई है। समाचार पत्रों की ब्राडिंग ही पत्रकारिता के मानदंड तय करती है। और बेचारा पत्रकार इस ब्राडिंग के चक्कर में पिस रहा है। भास्कर में टॉप मैनेजमेंट का सीधा फंडा हैः अखबार को हर जगह (प्रकाशन केन्द्र) और हर हाल में नंबर बनना है। और जो कोई भी इसमें पिछड गया, वह ग्रुप में भी पिछड गया। 

1 मई अंतरराष्ट्रीय मजदूर दिवस पर विशेष : अब उन की ख़्वाब-गाहों में कोई आवाज़ मत करना, बहुत थक-हार कर फ़ुटपाथ पर मज़दूर सोए हैं

यह कहावत उन मजदूरों पर सटीक बैठती है जो दिन भर मेहनत मजदूरी करने के बाद रात की चांदनी में फुटपाथ को अपना बिस्तर समझकर दो पल आराम के लिए बिताते हैं। न कल की फिक्र न आज का सपना, न कोई समय सीमा का बंधन, बस दो वक्त की रोटी के लिए सिर पर गठरी उठाए बढ़ते जाते हैं कदम। अपनी सारी इच्छाओं को एक कोने में दबाकर आंखों को बंद करके सपने देखने से भी मना करती है।

महंगा फ्यूल, बेबस लोग नासमझी व उतावनेपन के चलते सोना पाने से वचिंत है किसान विकृत धार्मिकता और अंध-आस्था से मुक्ति मिले क्या है पारिवारिक ,सामाजिक, धार्मिक एवं सांस्कृतिक महत्व ?हरियाली तीज 26 और नाग पंचमी 27 जुलाई को बैंक सेवा प्रभार में अभूतपूर्व बढ़ोत्तरी सरासर अनुचित एवं उपभोक्ताओं पर जबरदस्ती का बोझ अहसास रखना यह तो वित्तीय आपातकाल है? दीवाली छूती है जीवन के हर पहलू को कीचड़ में कमल बने रहने की दरकार अधिकारियों की फौज — करने गई थी मौज सत्ता में दागी मंत्रियों का बोलबाला देश में बेखौफ क्यों हैं तस्कर? दर्द बढ़ता गया— ज्यों ज्यों दवा की जीएसटी बिल— फायदा किसको अर्थ न पकड़ा व्यर्थ में उलझे अन्नदाता कर्जदार क्यों? चुनाव 2017: पंजाब की हाईटेक जनता खड़ी कर सकती है त्रिशंकु विधानसभा हम कितने जागरूक हैं? अर्थ तेरे कितने अर्थ क्या हरियाणा सरकार बादल से सबक लेगी पंतजलि द्वारा कैंसर का भय दिखाना क्या नैतिक है? क्या कानून सम्मत है? भारत का संविधान रो रहा है! क्या हमें संविधान का विलाप सुनाई नहीं देता? लालू के लाल क्या कर पाएंगे बिहार में कमाल ? बस्तर में वकीलों, पत्रकारों पर लगातार हमले का विरोध कच्चे सूत से बँधी पक्की डोर है रक्षाबन्धन …तो क्या आमजन का उपभोक्ता अधिकार "जानने का हक़" दफ़न कर दिया जाएगा? जयं​ती पर विशेष: महान स्वतंत्रता सेनानी एवं गांधीवादी नेता बाबू मूलचन्द जैन मिलावट का भूत, नीतियों की नहीं नीयत की जरूरत अरविन्द बाबू दिल्ली का सिंहासन कोई फूलों की सेज नहीं काँटों भारा ताज है ... हम कितने सचेत?