ENGLISH HINDI Tuesday, May 26, 2020
Follow us on
 
ताज़ा ख़बरें
ट्रांसपोर्टर्स ने समाजसेवियों को किया सम्मानितचंडीगढ़ समूह गुरुद्वारा प्रबंधक संगठन की बैठक में लंगर सेवा का मौका देने के लिए प्रशासन का जताया आभारवैश्विक कोरोना संकट होने के बावजूद लोग नहीं ले रहे सबकपुलिस और मनोचिकित्सक करेंगे घरेलू हिंसा से प्रभावित महिलाओं की समस्याओं का हल45 पुलिस अधिकारियों के तबादलेहॉकी स्टार पद्म श्री बलबीर सिंह सीनियर का पूरे राजकीय सम्मान सहित अंतिम संस्कारपंजाब में आपातकालीन चिकित्सा ई-पास एक भ्रम: क्या कोई कार्रवाई करेगा?गुरुद्वारा नानकसर साहिब के बाबा जी ने रविन्द्र सिंह बिल्ला और उनकी टीम को सिरोपा पहना किया सम्मानित
संपादकीय

लॉक डाउन में प्रीपेड मोबाइल को वैलिडिटी एक्सटेंशन का लाभ डी टी एच उपभोक्ता को क्यो नहीं

April 19, 2020 12:04 PM

संजय कुमार मिश्रा

 देशव्यापी लॉक डाउन में उपभोक्ताओं को हो रही दिक्कतों को देखते हुए टेलीकॉम कंपनियों ने रेगुलेटरी अथॉरिटी के सलाह पर अपने प्रीपेड मोबाइल सेवाओं की वैधता (जो लॉक डाउन पीरियड में समाप्त हो रही थी) को 3 मई 2020 तक बढ़ाने की घोषणा की है ताकि उपभोक्ता को रिचार्ज नहीं होने के कारण भी उसकी इनकमिंग कॉल जारी रहेगी और वो सेवा से जुड़े रहेंगे। लेकिन रिचार्ज की समस्या तो डीटीएच उपभोक्ताओं को भी है फिर उनके लिए ना तो ट्राई ने और ना ही कंपनियों ने कोई समुचित उपाय किए।

टाटा स्काई ने तो अपने उपभोक्ताओं को उधार की सुविधा प्रदान की है, लेकिन एयरटेल डिजिटल टी वी ने गिनती के चार चैनल जैसे रसोई एवं फिटनेस आदि को अपने ग्राहकों को मुफ्त में देने की घोषणा की है ताकि उपभोक्ता का कनेक्शन चालू रहे और कंपनियों का मीटर घूमता रहे।

एयरटेल डिजिटल टी वी ने तो अपने कई उपभोक्ता के टी वी रिचार्ज नहीं हो पाने के कारण बंद कर दिए, ऐसे ही चंडीगढ़ ट्राइसिटी में जीरकपुर के एक उपभोक्ता ने हमारे संवाददाता को बताया कि लॉक डाउन में उसके टीवी का रिचार्ज 18 अप्रैल को समाप्त हो गया और वो सोच ही रहे थे कि अब टीवी को कैसे रिचार्ज किया जाय तभी एयरटेल डिजिटल कंपनी से टैक्स्ट मैसेज आ गया टीवी बंद होने का।

सवाल ये भी है कि इस लॉक डाउन में जब सभी दुकानें एवम् प्रतिष्ठान बंद है और रिचार्ज की समस्या कमोबश सभी को है तो फिर ट्राई एवं टेलीकॉम कंपनियों द्वारा प्रीपेड मोबाईल उपभोक्ता एवम् डी टी एच उपभोक्ताओं के बीच अंतर की एक लकीर खींचना उचित है ? (संजय कुमार मिश्रा, सूचना के अधिकार और उपभोक्ता मामलों के कर्मठ कार्यकर्ता,  पत्रकार  हैं)   

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
 
और संपादकीय ख़बरें