ENGLISH HINDI Thursday, August 22, 2019
Follow us on
 
 
एस्ट्रोलॉजी
जन्माष्टमी 23 या 24 अगस्त की ? ज्योतिष के अनुसार 23 अगस्त , शुक्रवार को ही जन्माष्टमी मनाना रहेगा सार्थक, श्रेष्ठ एवं शास्त्र सम्मत

लगभग हर वर्ष जन्माष्टमी के व्रत तथा सरकारी अवकाश में असमंजस की स्थिति बनी रहती है। इसके कई कारण एवं ज्योतिषीय नियम हैं जिन्हें हम यहां सपष्ट कर रहे हैं और आप अपनी सुविधा एवं आस्थानुसार इस पर्व को उल्लास से मना सकते हैं। वास्तव में कृष्णोत्सव एक दिन का नहीं अपितु 3 दिवसीय पर्व है जो 23 अगस्त से लेकर 25 अगस्त तक इस वर्ष मनाया जाएगा।

इस बार नाग पंचमी पूरे 125 सालों बाद सावन के तीसरे सोमवार

इस बार नाग पंचमी पूरे 125 सालों बाद सावन के तीसरे सोमवार (पांच अगस्त) के दिन पड़ रही है ,जिसके कारण इस पर्व का फल दोगुना हो जाएगा। सोमवार और नागपंचमी दोनों ही दिन भगवान शिव की आराधना की जाती है। इसलिए इस बार नागपंचमी का विशेष महत्व होगा।

हरियाली तीज-3 अगस्त को, विवाहित महिलाएं नए कपड़े, गहने पहन कर जातीं हैं अपने मायके

भारत में इस समय वर्षा ऋतु होने के कारण, प्रकृति चारों तरफ हरियाली की चादर सी बिछा देती है, तो प्रकृति की इस छटा को देखकर मन पुलकित होकर नाच उठता है। हरियाली तीज पर विवाहित महिलाएं नए कपड़े, गहने पहन कर अपने मायके जातीं हैं। महिलाएं पारम्परिक परिधान और पूर्ण श्रृंगार धारण किए समूह में लोक गीतों को गा-गाकर झूले का आनंद लेतीं हैं।

कैसे और क्यों मनाएं निर्जला एकादशी ?

प्रत्येक वर्ष 24 एकादशियां पड़ती हैं।अधिक मास अर्थात मलमास की अवधि में इनकी संख्या 26 हो जाती हैं। ज्येष्ठ मास की शुक्ल पक्ष की एकादशी को निर्जला एकादशी कहा जाता हैै। इस साल यह एकादशी 13 जून,गुरुवार को पड़रही है। वास्तव में यह एकादशी बुधवार की सायं 6 बजकर 27 मिनट पर आरंभ हो जाएगी और गुरुवार  की शाम 4 बज कर 50 मिनट तक रहेगी।  यह व्रत एकादशी के सूर्योदय से लेकर अगले दिन के सूर्योदय तक 24 घ्ंाटे की अवधि का  माना जाता है।

क्या आप वाहन खरीदने जा रहे हैं ? बुद्ध पूर्णिमा 18 मई को, गौतम बुद्ध की मनाई जाएगी 2581वीं जयंती मंगलवार की अक्षय तृतीया इस बार अत्याधिक शुभ क्या करें 4 मई, शनि अमावस के दिन ? 7 मई ,मंगलवार की अक्षय तृतीया इस बार अत्याधिक शुभ कैसा रहेगा 30 अप्रैल से 18 सितंबर तक शनि का वक्रीय होना आप और देश के लिए ? क्या शनि मोदी को सत्ता प्रदान करेगा ? राम नवमी और राम की आधुनिक युग में सार्थकता मनाएं 19 अप्रैल, शुक्रवार को हनुमान जयंती ओैर करें आराधना व उपाय मोदी नंबर 8, शनि मेहरबान नवरात्रों में मंत्रों और उपायों से लाभ उठाएं आरंभ हैं चैत्र नवरात्रि ? अप्रैल में गुरु और शनि का राशि परिवर्तन बदलेगा देश की दिशा और दशा व्हाट्स योर मोबाइल नंबर ? बता रहे हैं ज्योतिर्विद् मदन गुप्ता सपाटू होलिका दहन 20 मार्च की रात्रि 9 बजे के बाद, दहन करें अपने कष्ट उपायों से होलाष्टक 14 मार्च से 21 मार्च तक 8 दिन रहेगा, होलिका दहन 20 मार्च की रात्रि 9 बजे के बाद ,होली 21 को बदल गए हैं राहु- केतु, क्या ये बदलेंगे आपका भाग्य ? कैसे और कब मनाएं श्रीमहाशिवरात्रि? समस्या और समाधान 10 फरवरी को करें ऋतुराज बसंत का स्वागत और करें मां सरस्वती का पूजन 4 फरवरी को 4 उत्सव : मौनी अमावस्या के व्रत से पुत्री-दामाद की बढ़ती है आयु 21 जनवरी सोमवार को लगेगा 2019 का प्रथम चंद्रग्रहण, भारत में नहीं दिखेगा। माघ मकर संक्रान्ति 15 जनवरी को, खाएं व बाटें खिचड़ी. 13 जनवरी रविवार को मनाएं लोहड़ी सायं 6 बजे के बाद रात्रि 11 बजकर 42 मिनट तक आओ चलें प्रयाग , नहा लें कुंभ कैसा रहेगा 2019 देश के लिए ? न्याय के देवता शनि अस्त - 5 राशियों वाले रहेंगे मस्त कार्तिक पूर्णिमा 23 नवंबर शुक्रवार को: करें आराधना पर्वों से भरपूर नवंबर मास 9 नवंबर, शुक्रवार , दोपहर 1.10 से लेकर 3.20 तक मनाएं भैया दूज महालक्ष्मी पूजा- दीवाली पर क्या करें ? दीवाली पूजन का शुभ समय सायंकाल