ENGLISH HINDI Sunday, October 22, 2017
Follow us on
 
 
एस्ट्रोलॉजी
19 अक्तूबर ,वीरवार ,दीवाली पर पूजन के विशेष मुहूर्त , पूजा विधि तथा उपाय

इस साल , वीरवार के दिन चित्रा नक्षत्र , व तुला राशि में दीवाली पड़ने और बुध -आदित्य योग होने के कारण व्यापार में काफी वृद्धि होगी। व्यापारियों के लिए पूरा साल शुभ एवं लाभकारी रहेगा।इस साल के संवत  के मंत्री भी गुरु है अतः इस बार लक्ष्मी पूजन से सभी को धन, वैभव, संपत्ति एवं शिक्षा  की दृष्टि से  विशेष लाभ प्राप्त होगा। 

पांच शुभ संयोगो से परिपूर्ण 19 साल बाद 17 अक्तूबर को , धन तेरस पर करें जम कर खरीदारी कैसे बढ़ाएं सुख समृद्धि ?

हमारे देश में धन तेरस अर्थात धन त्रयोदशी पर्व का अत्यंत महत्व माना गया है जिसके साथ पौराणिक ही नहीं अपितु आर्थिक, सामाजिक, धार्मिक मान्यताएं जुड़ी हुई हैं। यह पर्व दीवाली के आगमन की सूचना देता है और महापर्व का पंचदिवसात्मक दिन आरंभ हो जाता है। वास्तव में यह दिवस , लक्ष्मी जी के स्वागत का, धन प्रबंधन का , आय बढ़ाने, बचत एवं निवेश के सामंजस्य  का सुअवसर है। धन ,वैभव, युख समृद्धि  , आदि का यह पर्व इस वर्ष 17  अक्तूबर को है।

रविवार 8 अक्तूबर को करवा चौथ मनाएं महिला दिवस की तरह

कार्तिक कृष्ण पक्ष में करक चतुर्थी अर्थात करवा चैथ का लोकप्रिय व्रत सुहागिन और अविवाहित स्त्रियां पति की मंगल कामना एवं दीर्घायु के लिए निर्जल रखती हैं। इस दिन न केवल चंद्र देवता की पूजा होती है अपितु शिव-पार्वती और कार्तिकेय की भी पूजा की जाती है। इस दिन विवाहित महिलाओं   और कुंवारी  कन्याओं  के लिए गौरी पूजन का भी विशेष महात्म्य है।

इस बार पूरे 9 दिन शुभ रहेंगे नवरात्र, 21 सितंबर से शुक्ल पक्ष से आश्विन शरद् नवरात्र आरंभ
नवरात्र के नौ दिनों में तीन देवियों - महाकाली, महालक्ष्मी तथा महा सरस्वती एवं दुर्गा के नौ स्वरुपों की पूजा होती है जिन्हें नवदुर्गा कहते हैं।शास्त्रों में दुर्गा के नौ रुप बताए गए हैं। इस नवरात्र में श्रद्धालु अपनी शक्ति, सामर्थ्य व समयानुसार व्रत कर सकते हैं। इस अवधि में क्रमशः शैल पुत्री, ब्रहमचारिणी,चंद्रघंटा, कूष्मांडा, स्कंदमाता, कात्यायनी, कालरात्रि, महागौरी तथा सिद्धिदात्री देवी की पूजा की जाती है।
नवरात्र जीवन शैली को बदलने, चेतना जगाने , स्थिरता, दृढ़ता, शांति, समर्पण, नियंत्रण, समृद्धि, सामंजस्य, सेवाभाव, कर्मशीलता, सहनशीलता, मानसिक व शारीरिक अनुशासन, कर्मशीलता, एकाग्रता, मातृशक्ति को पहचानने  और इसे एक नौ दिवसीय  पर्व के रुप में  मनाने का अवसर है जब ऋतु परिवर्तन दस्तक दे रहा होता है।
राखी बांधें 7 अगस्त को प्रातः 11.05 बजे से लेकर दोपहर 1 बज कर 50 मिनट बजे तक चंडीगढ़ और आसपास वर्षा की झड़ी लगेगी 30 जुलाई से, ज्योतिषीय भविष्यवाणी 10 जुलाई व 24 जुलाई से आरंभ होंगे श्रावण में सोमवार के व्रत बेहाल को निहाल , कंगाल को मालामाल करने वाली शनि जयंती 25 मई को होलिका दहन पर करें विशेष उपाय 1857 के 52 शहीदों के स्मृति द्वार का उदघाटन 29 को कैसा रहेगा नया साल आपके और देश के लिए ? अस्त शनि सूर्य के साथ क्या गुल खिलाएगा सरकार और जनता के बीच? क्या नहीं बता सके ज्योतिषी कि 500 और 1000 के नोट बंद होने वाले हैं ? भ्रातृदूज - यम द्वितीया का शुभ मुहूर्त नरक चतुर्दशी 29 अक्तूबर को, पर क्या करें ? 30 अक्तूबर ,रविवार ,दीवाली पर पूजन के विशेश मुहूर्त , पूजा विधि तथा उपाय 27 व 28 अक्तूबर को धन तेरस पर करें जम कर खरीदारी, कैसे बढ़ाएं सुख समृद्घि ? 23 अक्तूबर रविवार को करें विशिष्ट संयोगों में जमकर खरीदारी अहोई अष्टमी 22 अक्तूबर को, कैसे करें शुभ मुहूर्त में पूजा 19 अक्तूबर ,बुधवार को करवा चैथ मनाएं महिला दिवस की तरह 9 अक्तूबर , रविवार को मनाएं अष्टमी और करें कन्या पूजन पहली अक्तूबर,शनिवार शुक्ल पक्ष से आश्विन शरद् नवरात्र आरंभ, गुरु अस्त रहने के बावजूद अधिक शुभ रहेंगे नवरात्र क्यों करें श्राद्ध 16 सितंबर से 30 सितंबर के मध्य? रखें सिद्धि विनायक व्रत, न करें चंद्र दर्शन, मनाएं शिक्षक दिवस पहली सितंबर को सूर्य ग्रहण परंतु भारत में नहीं दिखेगा ज्योतिष के अनुसार 24 अगस्त को ही जन्माष्टमी मनाना सार्थक राखी बांधें 18 अगस्त को प्रातः 6 बजे से लेकर दोपहर 2 बजे तक 11 से समाप्त हुआ गुरु- राहु का चांडाल योग जाने— अनजाने जुड़ी ये आदतें छोड़ने और अपनाने से होती है शुभ की प्राप्ति सोमवती शिवरात्रि पर किस राशि का होगा भाग्य परिवर्तन 56 वां अखिल भारतीय सरस्वती ज्योतिष सम्मेलन, साईंस में ग्रहों की खोज ,ग्रहों के बारे में विस्तृत जानकारी हमारे वेदों व अन्य ग्रंथों में उपलब्ध, पं. लेखराज शर्मा 56 वां अखिल भारतीय सरस्वती ज्योतिष सम्मेलन, नक्षत्रों व ग्रहों का प्रभाव किस स्थिति में कैसा होगा अध्ययन करना आवश्यक 56वां अखिल भारतीय सरस्वती ज्योतिष सम्मेलन व प्रदर्शनी शुरू, पवित्र हवन यज्ञ व सरस्वती वंदना से शुरू हुई प्रदर्शनी सितंबर 2015 में विशेष मुहूर्त