ENGLISH HINDI Sunday, February 17, 2019
Follow us on
ताज़ा ख़बरें
आल इंडिया डिफेंस ब्रदरहुड और पूर्व सैनिकों ने पाकिस्तान का झंडा फूंक किया विरोध प्रदर्शनवार्षिक दिवस समारोह में नन्हें बच्चों ने सुन्दर प्रस्तुतियां पेश कीविशाल सूद का मस्ती में झूमने वाला भजन साई संग नाचिये रिलीज फैशन डिजाइनर करिश्मा शाहानी के लैक्मे फैशन वीक में प्रस्तुत कलेक्शन को पेश किया पैरागॉन किड्स स्कूल की वार्षिक एथलेटिक मीट में छात्रों ने उत्साहपूर्वक भाग लियाजीरकपुर : ट्रैफिक में उलझ रहा वीकेंडगांव दौलत सिंह वाला पभात में लगा 47वां आंखों का मुफ्त ऑपरेशन कैंपपुलवामा हमले के मद्देनजर संसद के दोनों सदनों में राजनीतिक दलों के नेताओं के साथ हुई बैठक
 
 
एस्ट्रोलॉजी
10 फरवरी को करें ऋतुराज बसंत का स्वागत और करें मां सरस्वती का पूजन

प्रकृति पूर्ण यौवन पर होती है। दूर दूर तक पीली सरसों के खेत, आम के पेड़ अंबियों से झुके , मादक मौसम, नीला अंबर, लोहड़ी के बाद की गुलाबी ठंड ....अज्ञान के .तमस से निकल कर ज्ञान की देवी मां सरस्वती की आराधना , नीरस वातावरण में संगीत की लहरियां ......यह सब वसंत के मौसम की एक आहट है जो माघ की पंचमी से दस्तक देना आरंभ कर देती है।

आओ चलें प्रयाग , नहा लें कुंभ

कुम्भ पर्व विश्व का सबसे बड़ा सांस्कृतिक एवं धार्मिक आयोजन है। सागर मंथन से जब अमृत कलश प्राप्त हुआ तब अमृत घट को लेकर देवताओं और असुरों में खींचा तानी शुरू हो गयी। ऐसे में अमृत कलश से छलक कर अमृत की बूंद जहां पर गिरी वहां पर कुंभ का आयोजन किया गया। भारत में अलग – अलग धर्म होने के कारण संस्कृतिक विविधता भी देखने को मिलती है। जिस कारण भारत में पूरा साल किसी त्योहार की तरह बीतता है क्योंकि लगभग हर महीने कोई ना कोई त्योहार आ ही जाता है जो लोगों को खुश होने और मेल मिलाप करने का मौका दे देता है। हालांकि इन त्योंहारों की आस्था की दृष्टि से भी काफी एहमियत होती है।

कैसा रहेगा 2019 देश के लिए ?

पहली जनवरी ,2019 को मंगलवार , सूर्य- शनि के योग तथा वृश्चिक राशि में नव वर्ष का आरंभ हो रहा है। यदि 5 अप्रैल को आरंभ होने वाले परिधावी नामक ,नव संवत 2076 के अनुसार देखें तो दो विपरीत ग्रह , राजा शनि तथा मंत्री सूर्य हैं। बीच बीच में सभी ग्रह राहु- केतु के मध्य आ जाने से कालसर्प योग भी बना हुआ है। मंगलवारी संक्राति, मास में 5 मंगलवार, 5 ग्रहण ,वर्ष का आरंभ मंगलवार को, सूर्य - शनि का समसप्तक योग, कुछ राज्यों में सत्ता परिवर्तन, हिंसक घटनाएं, अग्निकांड, बमकांड, अराजकता, युद्धमयी वातावरण इंगित करते हैं।भारत की कुंडली , 15 अगस्त , 1947 रात्रि, 12 बजे, मोदी जी की 17 सितंबर,1950, महसाना तथा प्रधान मंत्री पद के दावेदार राहुल गांधी की 19 जून, 1970, दिल्ली, कांग्रेस पार्टी की 22 नवंबर,1969, बंगलौर, भाजपा की 6 अप्रैल 1980, दिल्ली तथा अन्य कई ज्योतिषीय गणनाओं के आधार पर यहां भविष्यवाणी की जा रही है।

9 नवंबर, शुक्रवार , दोपहर 1.10 से लेकर 3.20 तक मनाएं भैया दूज

हमारे देश में पारिवारिक एवं सामाजिक संबंधों को अत्यंत महत्वपूर्ण एवं स्थाई माना गया है। इसीलिए हमारे हर त्योहार -पर्व रोजाना कोई न कोई संदेश लेकर आते हैं। जहां होली व दिवाली समाज को बांधते हैं वहीं रक्षा बन्धन और भाई दूज परिवारों को एक सूत्र में बांधे रखते हैं। 

5 नवंबर से दीवाली के पंच पर्व आरंभ

जैसे नवरात्रि पर नौ दिन, दुर्गा माता के नौ स्वरुपों की आराधना की जाती है, ठीक उसी भांति दीवाली के अवसर पर पंच पर्व मनाने की परंपरा है। किस दिन क्या पर्व होगा और उस दिन क्या छोटे छोटे कार्य व उपाय करने चाहिए, उसका दैनिक विवरण संक्षिप्त रुप में हम दे रहे हैं।

5 नवंबर से दीवाली के पंच पर्व आरंभ अहोई अष्टमी 31 अक्तूबर को:उपवास आयुकारक और सौभाग्यकारक 23 व 24 की शरद पूर्णिमा पर खीर को औषधि बना कर खाएं 19 अक्तूबर को विजय दशमी पर किस मुहूर्त में करें पूजा, दशहरा वर्ष का सबसे शुभ मुहूर्त, क्या करें उपाय नवरात्रि के 9 दिन बहुत खास: जौ या खेतरी बीजना क्यों रखें व्रत?कौन रखे- कौन न रखे?कैसे रखें? क्या खाएं , क्या न खाएं , क्या है धार्मिक और वेैज्ञानिकमान्यताएं 10 अक्तूबर , बुधवार से शुक्ल पक्ष से आश्विन शरद् नवरात्र आरंभ, इस बार पूरे 9 दिन शुभ रहेंगे नवरात्र इस बार पूरे 9 दिन शुभ रहेंगे नवरात्र, 10 अक्तूबर से शुक्ल पक्ष से आश्विन शरद् नवरात्र आरंभ, कब और कैसे करें घट स्थापन ? लक्ष्य ज्योतिष संस्थान ने लगाया तीसरा निशुल्क ज्योतिष कैंप श्राद्ध पक्ष. 24 सितंबर से 8 अक्टूबर 2018 तक क्यों करें श्राद्ध ? शनि ने बदली चाल तो कैसा रहेगा आपका हाल? क्या परिवर्तन लाएंगे शुक्र पहली सितंबर से आपके जीवन में ज्योतिष के अनुसार 2 सितंबर को जन्माष्टमी मनाना रहेगा सार्थक लक्ष्य ज्योतिष संस्थान टीम चतुर्थ अंतरराष्ट्रीय ज्योतिष महासम्मेलन में हुई सम्मानित राखी बांधें 26 अगस्त , रविवार को , बहनों को शगुन में भाई दे हेलमट अटल जी के जीवन के कुछ ज्योतिषीय अटल तथ्य 15 अगस्त को नाग पंचमी पर करें कालसर्प दोष से मुक्ति के उपाय पहली अगस्त से शुक्र होंगे कन्या राशि में एक मास के लिए नीचस्थ यह ग्रहण न दिखेगा दोबारा सावन में करें मंगला गौरी पूजन एवं व्रत भी शिव और सावन 104 साल बाद लगेगा 27 व 28 जुलाई की रात्रि सबसे लंबा चंद्र ग्रहण कब मनाएं सावन के सोमवार ? महीने में तीन ग्रहण क्या किसी बड़े भूकंप की पूर्व सूचना हैं? क्या कहते हैं वैज्ञानिक और ज्योतिषी ? कैसे मनाएं सावन? कैसे और क्यों मनाएं 23 जून को निर्जला एकादशी कैसे और क्यों मनाएं निर्जला एकादशी, इस साल एकादशी 23 जून को मलमास: 16 मई से 13 जून तक बंद बैंड , बाजा और बारात 18 अप्रैल की अक्षय तृतीया इस बार 11 साल बाद अत्याधिक शुभ अष्टमी , नवमी तथा कन्या पूजन कब? क्या दें कन्याओं को शगुन?