ENGLISH HINDI Sunday, September 23, 2018
Follow us on
ताज़ा ख़बरें
"कल्याणी शक्ति एनजीओ गीता महायज्ञ में भागीदारी" गीता मनीषीढिल्लों के नेतृत्व में कांग्रेस की डेराबस्सी हलके में जिला परिषद और ब्लाक समिति चुनाव में क्लीन स्वीप जीत दर्जपत्रकार एकता मंच करेगा 21 पत्रकारों का सम्मान, मंत्री बलबीर सिंह सिद्धू बतौर मुख्य अतिथि शिरकत करेंगेकैप्टन की कार्यप्रणाली ने दिलवाई कांग्रेस को जीत: भुपिन्दर मांटु एवांस डेंटल केयर ने सफलतापूर्वक 3डी आधारित डेंटल इम्पलांट प्लेसमेंट कियासोलर संयंत्र लगाने के लिए सरकार बांट रही सब्सिडी, मिलेगा दोहरा मुनाफाधवन सर्वसम्मति से महिला परिषद चण्डीगढ़ की अध्यक्ष नियुक्त नेताओं को भेजो पाकिस्तान बॉर्डर पर: जयहिंद
कविताएँ

मानस चोला

August 24, 2017 12:31 PM

— शिखा शर्मा


शाख से टूटे पत्ते का
न कोई दूजा छोर
इत तरफ जन्म है
अंत है उत ओर
प्रेम शाख से उमड़े अपार
छूटन के न आए विचार
नित दिन उड़े-हिले
खेले कूदे पवन के साथ
यौवन में हरियाली संग
मेह के छींटे उड़ेरे चार
गरजा बदरा चौन्धी ताडित
दर्प से दिए सब नकार
अहं की रट ने भूला दिए
भोग योनि के सबहूं नियम प्रकार
सुहृद पात को देखकर
उपजे ईर्ष्या द्वन्द विकार
रट विधाता नाम ही
ले जाएगी वैतरणी पार
पतझड़ पीड़ा का अंदेशा
ह्दय मे बसा
छपटे बिन घटा सावन बरसे
टूटा पेर की शाख का साथ
सूखा, झड़ा फिर उड़ा
औंधे मुंह प्राण दिए उढ़ेर
क्षण में अग्नि का ग्रास
क्षण में मिट्टी का ढ़ेर
शाख से टूटे पत्ते का
न कोई दूजा छोर
इत तरफ जन्म है
अंत है उत ओर

Shikkha Sharma

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें