ENGLISH HINDI Monday, February 19, 2018
Follow us on
ताज़ा ख़बरें
चुनाव खर्च का विवरण देने में किया परहेज तो यमुनानगर के 64 उम्मीदवार तीन साल पालिका चुनाव के लिए कर दिए अयोग्यहरियणा और यूपी विश्व शांति, एकता, आपसी सदभाव और समृद्धि के लिए बहुत अहम, सूरजकुंड मेले के समापन पर बोले सोलंकीप्रशिक्षण कार्यशाला में अध्यापकों ने बच्चों के मन की भावनाओं को किया व्यक्तकार्यक्षमता में सुधार करने के लिए समय निर्धारण विषय पर कार्यशाला आयोजित राजपुरा से जीरकपुर घर लौट रहे सेंट्रो कार ट्रक में घुसी, मौके पर कार सवार नौजवानों ने तोड़ा दमप्रापर्टी डीलर ने एक प्लाट को 2 अलग-अलग टुकड़ों में बांटा, और फिर एमसी ने कर दिए नक्शे पास..जीरकपुर : दस्तावेज पूरे तो तीस दिन में नक्शा चकाचककुकरमुत्तों की तरह डेराबस्सी और जीरकपुर में बनी अवैध कलोनियां एनओसी के बिना रजिस्ट्री पर रोक का निकाला हल
कविताएँ

मानस चोला

August 24, 2017 12:31 PM

— शिखा शर्मा


शाख से टूटे पत्ते का
न कोई दूजा छोर
इत तरफ जन्म है
अंत है उत ओर
प्रेम शाख से उमड़े अपार
छूटन के न आए विचार
नित दिन उड़े-हिले
खेले कूदे पवन के साथ
यौवन में हरियाली संग
मेह के छींटे उड़ेरे चार
गरजा बदरा चौन्धी ताडित
दर्प से दिए सब नकार
अहं की रट ने भूला दिए
भोग योनि के सबहूं नियम प्रकार
सुहृद पात को देखकर
उपजे ईर्ष्या द्वन्द विकार
रट विधाता नाम ही
ले जाएगी वैतरणी पार
पतझड़ पीड़ा का अंदेशा
ह्दय मे बसा
छपटे बिन घटा सावन बरसे
टूटा पेर की शाख का साथ
सूखा, झड़ा फिर उड़ा
औंधे मुंह प्राण दिए उढ़ेर
क्षण में अग्नि का ग्रास
क्षण में मिट्टी का ढ़ेर
शाख से टूटे पत्ते का
न कोई दूजा छोर
इत तरफ जन्म है
अंत है उत ओर

Shikkha Sharma

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें