ENGLISH HINDI Thursday, December 14, 2017
Follow us on
ताज़ा ख़बरें
फोर्टिस मामला: डेंगू से बच्ची की मौत और 16 लाख के बिलों पर अन्य आपराधिक धाराएं पर्चे में जोड़ी जाएंगी: अनिल विजप्रेस क्लब के सचिव जलेश ठठई की माता का देहांत ,हेमकुंट पब्लिक स्कूल मोहाली मेें करवाए बच्चों के कविता उच्चारण मुकाबलेआम लोगों की ओर से अकाली दल की ड्रामेबाजी का विरोध शुभ संकेत -भगवंत मानडीजीपी वी.के भावड़ा ने की शबरी प्रसाद की किताब ‘बॉर्डरलाईन’ रिलीज, कहा डाक्टरी विज्ञान साहित्य के लिए होगी लाभदायकविदेश में खेलने का सपना होगा पूरा, सूरज को कृषि मंत्री श्री ओम प्रकाश धनखड़ ने दी 71 हजार की मदद रोपड़ ज़िले के काठगढ़ में बनेगी फिल्म सिटी : रैंच7 दिसंबर , गुरुवार को पड़ रहा है विशेष संयोग गुरु-पुष्य योग
कविताएँ

अरमानों के पंख

September 23, 2017 08:22 PM

— शिखा शर्मा
अरमानों की तितलियों के पंख मरोड़ दिए
मेरे पंखों को अपने रंग में रंगा था जिसने
इंद्रधनुषि सपने दिखाकर
कतरा कतरा ख्वाब नोंच लिए उसने
उस रोज मिला था वो
चमकती आंखों से नूर बरसाया था
हाथ थाम कर मेरा
अपनों का अहसास दिलाया था

पंख सहलाकर साथ उड़ान भरी
आसमां पर जाकर
काटे पंख, जमीं पर फिर गिराया उसने
ज़माने को हमारा साथ गंवारा न था
वरना
फूलों को खिलना सिखाया था हमने
कुछ बंदिशों में होगा वो
शायद!
मेरी मोहब्बत को खुदा बताया था जिसने

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें