ENGLISH HINDI Tuesday, June 18, 2019
Follow us on
मनोरंजन

अंधविश्वास पर विश्वास की कहानी है फ़िल्म '" जूनि-द लास्ट प्रेयर": अनुराग शर्मा

February 08, 2019 02:39 PM
(SUBHEAD)चंडीगढ़:पूजा पाठ कर अपने मन में अहम पाल लेना की  प्रभु को सम्पूर्ण प्राप्त कर लिया और सारा संसार उनके अनुसार चलेगा। ऐसे ही लोगों के मन से भ्रम को बाहर निकलने के उद्देश्य से फ़िल्म जूनी का निर्माण किया गया है। यह कहना है फ़िल्म के लेखक, एक्टर और निदेशक अनुराग शर्मा का।
 
चंडीगढ़ प्रेस क्लब में  फ़िल्म" जूनि-द लास्ट प्रेयर" का पोस्टर रिलीज किया गया, जिसे बॉलीवुड के विख्यात एक्टर राकेश बेदी ने रिलीज किया। फ़िल्म के बारे में जानकारी देते हुए अनुराग शर्मा ने बताया कि फ़िल्म निर्माण का उद्देश्य इंसान को आडम्बर से बाहर निकालना है कि परमपिता परमात्मा अपरम्पार है। अनुराग शर्मा ने बताया कि जिस प्रकार कहा जाता है कि मूर्ति पूजा भ्रम है। ऐसा नही है सब विश्वास की बात है। 
उन्हीने आगे कहा कि इसके अलावा फिल्म में अनुछेद 498 A को भी ध्यान में रख कर उन युवतियों पर कटाक्ष किया गया है कि किस प्रकार युवतियां लव मैरिज कर ससुराल पक्ष को इस धारा के तहत प्रताड़ित करती है और पैसे ऐंठती है। 
फ़िल्म में हिमाचल प्रदेश की अदाकारा मनीषा राठौर ने हीरोइन की भूमिका अदा की है और सुचिन्तन सिद्धू ने खलनायक की भूमिका निभाई है। इसके अलावा कैमियो रोल के लिए बॉलीवुड से 2-3 विख्यात एक्टर से बात चल रही है। फ़िल्म की शूटिंग चंडीगढ़, पंचकूला, मोहाली, हरियाणा और मुम्बई में कई गयी है। फ़िल्म अगस्त माह तक सिनेमा हॉल में आ जायेगी।
कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
और मनोरंजन ख़बरें
कुछ अलग कंसेप्ट पर आधारित है फिल्म अंग्रेज पुत्त हर तरह के करैक्टर करना चाहता हूं: शाहिद कपूर दिव्‍यांश ने अपना न्‍यूज़ आयेगा के साथ कॉमेडी जोनर में लिया लीप फिल्म प्रोमोशन के लिए "दी हंड्रेड बक्स" की स्टार कास्ट पहुंची चंडीगढ़ कांन्स फ़िल्म फेस्टिवल 2019 के दूसरे दिन भी दीपिका पादुकोण का जादू है कायम! मेरा कोई राजनीतिक स्टैंड नहीं है, लेकिन बतौर फिल्ममेकर लेता हूं स्टैंड: जैगम ईमाम सलमान खान को फिल्म भारत के लिए बुजुर्ग के लुक में ढलने के लिए लगते थे ढ़ाई घंटे दीपिका पादुकोण ने मेट गाला 2019 के रेड कार्पेट पर बिखेरा अपना जादू! नोरा रिचर्ड्स -भारत और आइरलैंड के बीच सांस्कृतिक एकीकरण के युग की शुरुआत होगी भोजपुरी और पंजाबी फिल्मों की तर्ज परहरियाणवी फिल्में बनाना जरूरी: सतीश कौशिक