ENGLISH HINDI Thursday, November 21, 2019
Follow us on
 
ताज़ा ख़बरें
इंस्पेक्टर गुरवंत सिंह ने जीरकपुर में एसएचओ का कार्यभार संभालाज़मीन पर कब्ज़ा करने और चौकीदार की मारपीट करने के आरोप में बिल्डर और कांग्रेसी नेता के ख़िलाफ़ केस दर्ज महिला आईटीआई स्टूडेंट्स को बांटे प्रमाण-पत्रफेरे से पहले दूल्हे की सड़क हादसे में मौत, शादी की तैयारी के सिलसिले में गया था नजदीकी गांवचण्डीगढ़ भाजपा को जल्द मिलेगा नया अध्यक्षपुलिस फोर्स तथा मोबाइल फौरेसिंग युनिट को आधुनिक उपकरणों से लैस किया जाएगा: अनिल विज पूर्व प्रधानमंत्री श्रीमति इंदिरा गांधी की 102वी जयन्ती पर श्रद्धासुमन अर्पितदादागिरी पर उतरे ओकेशन मैरिज पैलेस के संचालक,पुलिसकर्मियों व शिकायतकर्ता से मारपीट, 35 पर कटा पर्चा
जीवन शैली

बदलते खान-पान से हो रहे है अनेकानेक बीमारियों से ग्रस्त: डॉ. कौशल

September 13, 2019 09:20 PM

सिरसा, सतीश बंसल:

वर्तमान दौर में बदलते खान-पान की वजह से हम अनेकानेक बीमारियों जैसे कि हार्मोनल प्रॉब्लम, पीसीओडी, लीवर, थाईरायड, शूगर, गुर्दे व फेफडे की बीमारियां, मानसिक अवसाद, याददाश्त का कमजोर होना, ऑस्टियोपोरोसिस (हड्डियों का खोखला होना), स्त्रियों में माहवारी के रोग, हाई ब्लडप्रेशर इत्यादि से ग्रस्त हो रहे है। इसलिए हमें इस संदर्भ में स्वयं को बदलना होगा, तभी हम एक स्वस्थ जीवन जी सकते है।

उक्त जानकारी देते हुए शुभम अल्ट्रासाउंड केंद्र संचालक सर्वपल्ली राधाकृष्णन भारत रत्न अवार्ड से अलंकृत प्रौफेसर डॉ. संजीव कौशल ने बताया कि हम चकाचौंध को देखते हुए किचन में नॉन स्टिक बर्तनों का प्रयोग कर रहे है जोकि हमारे लिए सबसे ज्यादा खतरनाक है। इन बर्तनों पर लगी टफ्लोन की परत की वजह से इन बर्तनों में पकने वाले खाने में कई प्रकार के घातक कैमिकल शामिल हो जाते है जो हमारे स्वास्थ्य को नुकसान पहुंचाते है। इसके अतिरिक्त एलमुनियम बर्तनों में खाना पकाना व एलमुनियम के फाइल में खाना पैक करना भी हमारे लिए अत्यंत घातक है।

डॉ. कौशल ने संक्षेप में बताते हुए कहा कि देश की आजादी से पूर्व अंग्रेजों के शासनकाल में कैदियों को एलमुनियम बर्तनों में खाना परोसा जाता था, ताकि कैदी अनेकों बीमारियों से ग्रस्त हो जाए। इसी को आज हमने अपना लिया है जो गलत है। इसलिए एलमुनियम बर्तनों व फाइल का प्रयोग कतई न करें। इसके अतिरिक्त प्लास्टिक बॉक्स व प्लॉस्टिक बोतल का प्रयोग भी हमारे स्वास्थ्य के लिए उचित नहीं है, क्योंकि इससे घातक प्लास्टिक हमारे भोजन व पानी में मिक्स हो जाता है।

इस कड़ी में काबिलेगौर है कि रिफाईंड ऑयल का प्रयोग भी काफी घातक है। हमें इसका प्रयोग न करके सरसों का तेल प्रयोग करना चाहिए क्योंकि रिफाईंड ऑयल हमारे स्वास्थ्य के लिए जहर है जबकि सरसों का तेल व छोटी मात्रा में देसी घी हमारे लिए अमृत है। डॉ. कौशल ने कहा कि अगर हम उक्त जानकारियों का जीवन में अनुसरण करते है तो यकीनन एक स्वस्थ जीवन जी सकते है।

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
 
और जीवन शैली ख़बरें
ज़ीरकपुर में ‘ट्राइसिटी का करवा चौथ बैश’ में महिलाओं ने बिखेरे ब्यूटी के रंग ग्लोबल पेजेंट मिसेज क्वीन ऑफ़ इंडिया के दिल्ली ऑडिशन हुए संपन्न अभिनेता संजय कपूर को ब्रिटेन के हाउस ऑफ कॉमन में किया सम्मानित चंडीगढ में खुला महिलाओं की पलकों की सुन्दरता का राज ब्राइंडल के हॉट रैड को निमरत काहलों ने लाइट कलर्स शाही अंदाज में अभिनेत्री सारा ने पेश किया ऐज कम दिखने की कोशिश में40 प्लस महिलाएं ज्युलरी और मेकअप का प्रयोग अधिक करती हैं : सविता भट्टी जीवनशैली से बढ़ रही हैं दांतों की बीमारियां:अमरिंदर सिंह गुलमोहर ट्रेंड्स सोसाइटी की महिला सदस्यों ने धूमधाम से मनाई हरियाली तीज ये 'क़ल्हड़ करोड़पति 'बनाते हैं चाय प्रीती वालिया बनीं बेस्ट तीज क्वीन