ENGLISH HINDI Tuesday, October 15, 2019
Follow us on
 
एस्ट्रोलॉजी

गोधूलि वेला , गुरुवार , 8वीं लग्न में गुरु के समय मोदी का शपथ ग्रहण

May 29, 2019 06:26 PM

मदन गुप्ता सपाटू, ज्योतिर्विद्, चंडीगढ़- 9815619620

  30 मई की सायंकाल ही क्यों चुना गया शपथ ग्रहण का समय, इसके पीछे कई ज्योतिशीय कारण हैं।यों तो मोदी जी का हर कार्य 8 या 5 अंक वाले संयोग पर ही होता है परंतु इस बार विवशताओं के कारण 26 मई को यह कार्य नहीं हो सका।

 

23 मई जिसका अंक 5 बनता है, को प्रचंड बहुमत के बाद वे दूसरी पारी खेलने के लिए तैयार हैं जिसमें वे 30 मई, गुरुवार की सायं गोधूलि मुहूर्त ,जो 7 बजकर 20 मिनट तक रहेगा और 8 अंक वाली बृश्चिक लग्न 6 बजे से 8 बजकर 20 मिनट तक रहेगी, में प्रधानमंत्री पद की औपचारिक शपथ लेंगे।

 

यह शपथ बृश्चिक लग्न जो मोदी जी की अपनी लग्न भी है, और वर्तमान में इस में गुरु विराजमान हैं, एक आयुष्मान योग और अपरा एकादशी वाले दिन शुभ समय में ली जा रही है। गुरुवार को 3 बजे दोपहर तक राहु काल है, 6 बजे तक अशुभ चौघड़िया है। शुभ चौघड़िया 7 बजकर 20 मिनट तक रहेगा।

 

गोचर में बृश्चिक  लग्न में वक्री गुरु, और पंचम में चंद्र पर दृष्टि विशेष शुभ योग दर्शा रहे हैं। परंतु दूसरे भाव में शनि केतु और उसके ठीक सामने अष्टम भाव में  राहु मंगल  तथा गंडमूल रेवती नक्षत्र बहुत चैलेंजिंग स्थितियां दिखा रही हैं। चूंकि इस समय भारत और मोदी जी की कुंडली में चंद्रमा की दशा चल रही है जो नेता और देश के मध्य  अद्भुत समन्वय बनाकर अनुकूल योग बनाती हैं और सफलता पूर्वक नई नई योजनाओं का चलन दर्शाती हैं । 

 

फिर भी दूसरी पारी में मोदी 303 का आंकड़ा और अन्य सहयोगी दलों की अधिक संख्या होने के बावजूद वह करिश्मा नहीं दिखा सकेंगे जो 2014 से 2019 के मध्य दिखाया था। जनता की अपेक्षाएं बढें़गी जिन्हें पूरा कर पाना कठिन होगा। शपथ ग्रहण का मुहूर्त उतना अच्छा नहीं है अतः परिणाम भी उतने अच्छे नहीं होंगेे। इस कार्यकाल में उन्हें विरोधी दलों के अलावा अपनी पार्टी के लोगों से ही काफी तरह के विरोधों का सामना करना पड़़ेगा जिसकी बानगी इस कार्यक्रम के दौरान भी परिलक्षित हो सकती है। यह मोदी जी की अंतिम पारी होगी।

 

जबकि दूसरी ओर ,इस समय कांग्रेस और कांग्रेस के वर्तमान अध्यक्ष दोनों की राहु की दशा चल रही है जिसके कारण पार्टी में अभी अव्यवस्था का वातावरण रहेगा। 

 

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
 
और एस्ट्रोलॉजी ख़बरें
30 साल बाद शरद पूर्णिमा पर बेहद दुर्लभ योग : 13 अक्टूबर, रविवार को मनाई जाएगी 17 अक्तूबर को करवा चौथ में ग्रहों का कोेई संशय नहीं देशभर से 11 से जुटेंगे नामी ज्योतिषी और आयुर्वेदाचार्य, जो बताएंगे भविष्य और नाड़ी देख कर सेहत 6 अक्तूबर श्री दुर्गा अष्टमी पर व्रत रखने व कन्या पूजन का समय 29 सितंबर से आरंभ होने वाले शारदीय नवरात्र इस बार पूरेे 9 दिन लक्ष्य ज्योतिष संस्थान के निशुल्क ज्योतिष कैंप में लोगों ने कुंडली दिखा जाना भविष्य श्राद्ध पक्ष. 13 सितंबर से 28 सितंबर तक, श्राद्ध एक दिन कम होगा,क्यों करें श्राद्ध ? दो से 12 सितंबर तक मनाएं श्री गणेश जन्मोत्सव, रखें सिद्धि विनायक व्रत, न करें चंद्र दर्शन जन्माष्टमी 23 या 24 अगस्त की ? ज्योतिष के अनुसार 23 अगस्त , शुक्रवार को ही जन्माष्टमी मनाना रहेगा सार्थक, श्रेष्ठ एवं शास्त्र सम्मत राखी बांधें गुरुवार सुबह से सायं 6 बजे तक भद्रा रुपी ‘धारा’ लागू नहीं